231 रन के जवाब में बिहार के 92 रन पर गिरे 5 विकेट

Patna News - घर में आप और आपके बच्चे कैसे जागते हैं? आ पको टूथपेस्ट के एक विज्ञापन का वो हीरो याद है, जिसकी स्वीटहार्ट...

Feb 15, 2020, 09:20 AM IST
Patna News - 5 wickets fell for bihar39s 92 runs in response to 231 runs

घर में आप और आपके बच्चे कैसे जागते हैं?


आ पको टूथपेस्ट के एक विज्ञापन का वो हीरो याद है, जिसकी स्वीटहार्ट पिछली रात टेनिस में हार जाने और रैकेट टूटने के कारण उदास है और हीरो उसे खुश करने की कोशिश करता है। वह तुरंत ब्रश करने की कोशिश करती है और अचानक बहुत ज्यादा एक्टिव हो जाती है। उस एड के इस सीन का प्रतीकात्मक मतलब है कि टूथपेस्ट सारी सुस्ती हटा देता है और शरीर नए दिन की नई चुनौतियों के लिए नई ऊर्जा से भर जाता है।

मैं नहीं जानता कि इसके पीछे कोई विज्ञान है या नहीं, लेकिन मुझे सभी सर्वश्रेष्ठ शोधों के नतीजे प्रकाशित करने वाले अमेरिका के ‘प्लॉस वन’ जर्नल में एक शोध के बारे में पढ़ने को मिला। इसके एक लेख के मुताबिक सुरीला अलार्म सुबह की सुस्ती दूर कर सकता है और हमारी सजगता या सतर्कता बढ़ा सकता है। जी हां, यह हमें उन ध्वनियों पर ध्यान देने की सलाह देता है, जो हमें रोजाना उठाती हैं। अमेरिका की आरएमआईटी यूनिवर्सिटी द्वारा किया गया अध्ययन बताता है कि सुरीले अलार्म सतर्कता का स्तर सुधार सकते हैं, जबकि कर्कश अलार्म सुबह सुस्तीपन या मदहोशी बढ़ा सकते हैं।

वैज्ञानिकों को लगता है कि आप खुद को जगाने के लिए रिदम और मैलोडी का जो मिश्रण चुनते हैं, उसके कुछ जटिल नतीजे होते हैं। अध्ययन कहता है कि यह उन लोगों के लिए खासतौर पर जरूरी है जो सुबह उठकर ऐसे कामों पर जाते हैं, जिनमें ज्यादा सतर्कता की जरूरत होती है। जैसे फायर ब्रिगेड में काम करने वाले या पायलट और या खुद आपको इमरजेंसी में अस्पताल जाना हो।

इससे मुझे मेरे बचपन के दिन याद आ गए, जब मेरे माता-पिता मुझे बहुत धीरे-धीरे उठाते थे। वास्तव में मेरे पिता, जो हमेशा मुझसे कठोर आवाज में बात करते थे, वे भी अपनी आवाज को थोड़ा धीमा और मधुर कर बोलते थे, ‘बेटा उठ जाओ, देर हो रही है।’ मुझे यह सुनना बहुत अच्छा लगता था। जब भी मुझे और प्यार-दुलार पाना होता था, मैं रजाई में और अंदर घुस जाता था, उन सर्दियों के दिनों में जो मार्च में होली तक चलती थीं। पिताजी थोड़ी देर ये लाड़-दुलार जारी रखते थे, लेकिन वे जल्दी में होते थे, क्योंकि उन्हें रेलवे स्टेशन जाना होता था, चूंकि उन दिनों रिजर्वेशन काउंटर सुबह 7 बजे खुल जाते थे। फिर पिताजी के नहाने जाने पर ये काम मेरी मां संभालती थीं। वे इसमें कुछ विशेषण जोड़ देती थीं। जैसे ‘मेरा बहादुर बच्चा उठ जा’, ‘मेरा प्यारा बेटा’ और ‘मेरा मेहनती बेटा’ आदि। ‘मेहनती’ शब्द मेरे कानों को किसी संगीत की तरह लगता था। इससे मैं रजाई के आराम से बाहर निकलकर घर के लिए दूध लाने की अपनी जिम्मेदारी के लिए तैयार हो जाता था, जैसे ये मेरे परिवार के लिए मेरा सबसे बड़ा योगदान हो।

उन दिनों दूध के सरकारी बूथ से दूध की बोतलें लाना मेरी ड्यूटी थी। आपको वो नीली या लाल धारियों वाली, एल्युमिनियम के ढक्कन वाली दूध की बोतलें याद हैं? साइकिल पर इन बोतलों को लाने के लिए बहुत सतर्क रहना पड़ता था। एक हाथ से साइकिल का हैंडल और दूसरे हाथ से बोतलें संभालनी पड़ती थीं, क्योंकि जाते समय तो बोतलें खाली और लौटते हुए भरी हुई रहती थीं। खासतौर पर तब, जब खराब सड़क पर साइकिल चलानी हो। बूथ पर मौजूद व्यक्ति किनारों से टूटी हुई या दरार वाली खाली बोतलें नहीं लेता था, जबकि मेरे जैसे बच्चे को देखकर खुद चुपके से दरार वाली बोतलें देने की कोशिश करता था। ऐसी बोतलों को लेने से इनकार करने के लिए सतर्क रहना जरूरी था। हालांकि, मेरे माता-पिता को आज की रिसर्च के बारे में कोई अंदाजा नहीं था, लेकिन वे तब एक बात जानते थे कि अगर हम हमारे बच्चों को सतर्क-सजग और ऊर्जावान रखना चाहते हैं तो उन्हें ऐसे शब्दों से उठाना होगा जो उन्हें सुरीले संगीत जैसे लगें। शोधकर्ताओं ने यह भी पाया है कि कर्कश ‘बीप-बीप’ वाली अलार्म टोन उठने के बाद चलने में भ्रमित और दिमाग की गतिविधियों को अस्त-व्यस्त कर सकती है।

फंडा यह है कि अगर आप अपने परिवार को खुश और आनंदमय रखना चाहते हैं और उन्हें सुरीली लगने वाली मधुर आवाज से जगाना चाहते हैं, तो अपनी सुबह का अलार्म तय करना होगा।

कौन-सी हेयर डाई है सही और कब करें इस्तेमाल


ट्रें डी ट्रेंडी लुक पाने के लिए हम अक्सर हेयर कलर्स और हेयर डाईज का इस्तेमाल करते हैं। बाजार में इनके बहुत से ऑप्शन मौजूद हैं। इसलिए इनकी जानकारी होना जरूरी है। जहां हेयर डाई बालों की सतह के अंदर जाती है, वहीं हेयर कलर बालों के ऊपर ही रहते हैं और उन्हें केवल बाहर से रंगते हैं। आज हम डाईज के प्रकार और बालों के लिए कुछ मास्क्स के बारे में बता रहे हैं।

परमानेंट: साइड इफेक्ट्स जानना जरूरी

ये डाई एक बार लगने के बाद छूटती नहीं है। इनमें रंग के साथ अमोनिया, हायड्रोजन पेरोक्साइड, पैराबेन्स और सल्फेट जैसे घातक केमिकल हैं। इनसे किडनी और फेफड़ों को नुकसान पहुंचने की आशंका है, साथ ही यूरिनरी ब्लैडर कैंसर, नर्वस सिस्टम डिसॉर्डर और गंभीर एलर्जी हो सकती है। अब उपभोक्ता इन साइड-इफेक्ट्स के प्रति जागरूक हो गए हैं, इसलिए कंपनियां इन कैमिकल्स की मात्रा कम करती जा रही हैं और इन्हें ‘नैचुरल मैच’, ‘हर्बलशाइन’ या ‘अमोनिया फ्री’ जैसे नामों से बेच रही हैं। प्रेग्नेंट महिलाओं, नई मां और अस्थमा व एग्जिमा जैसी बीमारी से पीड़ित या किडनी संबंधी समस्या होने पर परमानेंट हेयर डाई का बिल्कुल इस्तेमाल न करें।

सेमी-परमानेंट: केवल रंग गहरा करती हैं

इन डाईज में अमोनिया नहीं होता, वहीं हायड्रोजन पेरॉक्साइड जैसे अन्य केमिकल कम होते हैं। इसलिए सेमी-परमामेंट हेयर डाई बालों की ऊपरी सतह को ही रंगती है। सेमी-परमानेंट कलर्स 3-4 हफ्तों में फीके पड़ने लगते हैं। हालांकि यह इस पर भी निर्भर है कि आप कितनी बार बाल धोती हैं। इन कलर्स को केवल बालों का रंग गहरा करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। उदाहरण के लिए कत्थई बालों को काला तो कर सकती हैं, लेकिन बालों का रंग हल्का नहीं कर सकतीं। यानी सेमी-परमानेंट डाईज बालों को गोल्डन या ब्लॉन्ड करने के लिए इस्तेमाल नहीं की जा सकतीं।

टेम्पररी: खास मौकों के लिए अच्छा विकल्प

टेम्पररी कलर बालों को एक या दो बार शैम्पू से धोने पर ही निकल जाता है। यह हेयर वॉश, हेयर शैम्पू, जैल, स्प्रे और फोम के रूप में आते हैं। ये बालों को चमकदार बनाते हैं लेकिन सिर्फ एक या दो बार में ही धुल जाते हैं। ये डाई पार्टी या किसी खास मौके पर बालों को रंगने के लिए अच्छी विकल्प हैं।

बालों की सेहत बनाए रखने के लिए मास्क

आप कोई भी डाई इस्तेमाल करें, बालों को थोड़े नुकसान की आशंका तो रहती ही है। इनकी सेहत बरकरार रहे, इसके लिए ये मास्क इस्तेमाल कर सकती हैं।

हनी-बनाना मास्क: एक ज्यादा पके हुए केले को मैश करें और उसमें एक टेबलस्पून शहद मिलाकर स्मूथ पेस्ट बनाएं। इस मिक्सचर को साफ बालों पर लगाएं और 30 मिनट के लिए कवर कर लें। फिर बाल धो लें।

कैरट-हनी मास्क: तीन मध्यम आकार की गाजरों का पेस्ट बनाएं। इसमें योगर्ट या दही और 2 टेबलस्पून शहद मिलाएं। साफ और गीले बालों पर लगाकर मसाज करें ताकि यह स्कल्प (खोपड़ी की खाल) तक पहुंचे। दो मिनट बाद धोकर निकाल लें। एक बार और बाल धोएं।

ओनली मेयोनीज मास्क: साफ और गीले बालों में मेयोनीज लगाएं। फिर प्लास्टिक कैप से बालों को बीस मिनट के लिए ढंक लें। इसका असर बढ़ाने के लिए थोड़ी गर्माहट दे सकती हैं। अब बालों को तब तक धोएं जब तक यह पूरी तरह निकल न जाए।

खेल के बजट से पहले बुलाई गई बैठक में कई जरूरी सुझाव दिए

सिटी रिपोर्टर | राज्य के खेल व खिलाड़ियों के लिए वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए बनने वाले बजट पर बजट से पूर्व राज्य के उपमुख्यमंत्री सह वित्त मंत्री सुशील कुमार मोदी द्वारा राज्य की खेल हस्तियों से सुझाव लिए गए। शुक्रवार को बुलाई गई बैठक में राज्य के एनआईएस प्रशिक्षक अभिषेक कुमार ने कई सुझाव दिए-

इनर व्हील स्कूल में पढ़ाई के अलावा दिया जाएगा कला-प्रशिक्षण

सिटी रिपोर्टर | इनरव्हील ऑफ पटना सत्या दानापुर ने ‘इनरव्हील स्कूल’ और ‘इनरव्हील ट्रेनिंग सेंटर’ की शुरुआत शुक्रवार को की। बच्चों को पढ़ाई के साथ ही यहां आर्ट एंड क्राफ्ट, चित्रकला, पेंटिंग और सृजनात्मक लेखन का प्रशिक्षण दिया जाएगा। इनरव्हील स्कूल का उद्घाटन डिस्ट्रिक्ट चेयरमैन सरिता प्रसाद ने किया। वहीं दूसरा कार्यक्रम अनाथालय में हुआ। वहां मिशन बोर्ड लगाया गया, जिसमें लोगों को अधिक से अधिक अनाथ बच्चों को गोद लेने के लिए प्रेरित किया गया। इस मौके पर क्लब की प्रेसिडेंट सरिता सिंह, साधना सागर, अंजना, अनीता रानी, उषा देवी, रेणु कुमारी, स्मिता पराशर और रति पांडेय उपस्थित रहीं।

‘हिंसा हमें मंजूर नहीं’ नारा के साथ फूटा महिलाओं का गुस्सा

सिटी रिपोर्टर. पटना

उमड़ते सौ करोड़ अभियान बिहार की ओर से शुक्रवार को पटना महिला अधिकार मार्च आयोजित किया गया। बिहार के विभिन्न जिलों, गांवों और कस्बों से आई लगभग तीन हजार प्रतिभागियों ने इसमें भाग लिया। इनमें महिलाएं, पुरुष, ट्रांसजेंडर, छात्र-छात्राएं और अन्य शामिल थे। चार जिलों से आए पंचायत प्रतिनिधियों ने भी इसमें हिस्सा लिया। ये मार्च जेपी गोलंबर से कारगिल चौराहा होते हुए गांधी मूर्ति और फिर मैदान पहुंचकर समाप्त हुआ। सभी लोग एक स्वर में हिंसा हमें मंजूर नहीं के नारे लगा रहे थे। प्अभियान की समन्वयक रजनी ने बताया कि उमड़ते सौ करोड़ एक अंतरराष्ट्रीय अभियान है। शाहीना प्रवीण ने कहा कि सभी वर्गों, समूहों में समान नागरिक सुरक्षा होनी चाहिए क्योंकि समानता होने से ही संतुलित विकास संभव है। पद्मश्री सुधा वर्गीज ने कहा कि महिलाओं के विरूद्ध बढ़ रही हिंसा चिंताजनक है। मौके पर इंदिरापुरम पब्लिक स्कूल की छात्राओं ने नाटक के माध्यम से महिला हिंसा के विरूद्ध संदेश दिया।

एथलेटिक्स में अंजू ने जीते चार गोल्ड मेडल

सिटी रिपोर्टर | मणिपुर के इंफाल में 41वीं नेशनल मास्टर्स एथलेटिक्स चैंपियनशिप में ईसीआर की अंजु कुमारी ने चार स्वर्ण पदक अपने नाम किया। अंजू ने सौ मी. रेस, 200 मी. रेस, ट्रिपल जम्प और चार गुणा सौ. मी. रेस में स्वर्ण पदक जीता। पिछले दिन मलेशिया में आयोजित 21वीं एशियन मास्टर्स एथलेटिक्स चैंपियनशिप में भी अंजू ने भारत के लिए तीन स्वर्ण पदक जीता था।

डीएवी में मनाया गया वार्षिक खेलकूद

सिटी रिपोर्टर| डीएवी बीएसईबी में शुक्रवार को प्राइमरी विंग का वार्षिक खेल महोत्सव आयोजित किया गया। कॉलेज के प्राचार्य डॉ. वीएस ओझा ने कार्यक्रम का उद्घाटन किया। सांस्कृतिक कार्यक्रमों का भी आयोजन हुआ। कुछ खेल की प्रतियोगिताओं में अभिभावकों ने भी भाग लिया दौड़ लगाई और पुरस्कार अपने नाम किया। नृत्य दौड़ और व्यायाम विशेष ने खेल महोत्सव को यादगार बनाया।

एफसीआई को 164 रनों के अंतर से हराया

सिटी रिपोर्टर| पटना सिटी के मनोज कमलिया स्टेडियम में आयोजित जूनियर डिवीजन क्रिकेट लीग में एवरग्रीन सीसी ने एफसीआई को 164 रनों के विशाल अंतर से हराया। पीडीसीए के तत्वावधान में शुक्रवार को खेले गए मैच एवरग्रीन सीसी ने 35 ओवर में सात विकेट पर 277 रन का विशाल स्कोर खड़ा किया। 278 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी एफसीआई की टीम 23 ओवर में 113 रन पर सिमट गई।

चैरिटी फ्रेंडली टी-20 में सीसी फैैकल्टी की जीत

सिटी रिपोर्टर| संजय स्टेडियम गर्दनीबाग में शुक्रवार को चार्ट कॉमर्स की ओर से आयोजित चैरिटी फ्रेंडली टी-20 क्रिकेट मैच में सीसी फैकल्टी एकादश ने सीसी मैनेजमेंट को हराया। दोनों टीमों ने एक दूसरे को कांटे की टक्कर दी। एक टीम का नेतृत्व संस्था के निदेशक गौतम सावर्ण और दूसरे टीम का नेतृत्व निशांत मिश्रा ने किया। विजेता व उपविजेता टीम के खिलाड़ियों को निदेशक सुषमा स्वास्ती ने पुरस्कृत किया।

ऊर्जा स्टेडियम में स्काई स्पोर्ट्स को हरा कोलकाता टीम विजयी

सिटी रिपोर्टर। पटना

ऊर्जा स्टेडियम शुक्रवार से शुरू हुए एमपी वर्मा ऑल इंडिया प्राइज मनी आमंत्रण क्रिकेट टूर्नामेंट में स्पंदन क्लब, कोलकाता ने स्काई स्पोर्ट्स लखनऊ को दो विकेट से हराया। बीसीए से मान्यता प्राप्त इस टूर्नामेंट में स्काई स्पोर्टस लखनऊ ने पहले बैटिंग करते हुए 27.4 ओवर में सभी विकेट खोकर 129 रन का स्कोर खड़ा किया। आदिल ने 22 रन, आतिफ साजिद ने 20 रन, अनुज सिंह ने 22 रन की पारी खेली। स्काई स्पोर्ट्स के गेंदबाज नटवर सिंह ने 27 रन देकर चार और आकाश दास ने 44 रन देकर चार विकेट हासिल किया। 130 लक्ष्य के जवाब में खेलने उतरी स्पंदन क्लब कोलकाता की टीम ने 35.1 ओवर में आठ विकेट पर 135 रन बना कर मैच दो विकेट से जीत लिया। अर्पित ने पांच चौका के सहारे 53 रन का योगदान किया। विजेता टीम के आकाश दास को मैन ऑफ द मैच का पुरस्कार मिला। मैच शुरू होने से पहले टूर्नामेंट का उद्घाटन उद्योग मंत्री श्याम रजक ने दोनों टीमों के खिलाड़ियों से परिचय प्राप्त कर किया। सबों का स्वागत आयोजन सचिव आदित्य वर्मा ने किया। इस अवसर पर पूर्व रणजी कप्तान सुनील कुमार, सीआईएसएफ के डिप्टी कमाडेंट नयूम खान, मो अरशद, आलमगीर, नीरज वर्मा, छोटू एवं कई खेल प्रेमी मौजूद थे। क्रिकेट एकेडमी ऑफ पठांस के निदेशक उज्ज्वल सिंह ने विजेता टीम स्पंदन क्लब, कोलकाता एवं साथ ही मैन ऑफ द मैच आकाश दास को पुरस्कृत किया। पराजित टीम स्काई स्पोर्ट्स लखनऊ को पिच क्यूरेटर सह पूर्व रणजी खिलाड़ी राजू वाल्श ने पुरस्कृत किया। मैच के अंपायर आशीष कुमार सिन्हा और विकास कुमार थे जबकि स्कोरर नीतेश कुमार थे।

रणजी ट्रॉफी : बाबुल व विकास की बल्लेबाजी से बिहार मजबूत

सिटी रिपोर्टर. पटना

ड्रीम्स ग्राउंड कटक में खेले जा रहे रणजी ट्रॉफी में बिहार ने अपनी स्थिति सिक्किम के खिलाफ बेहतर कर ली है। तीसरे दिन का खेल खत्म होने के समय तक बिहार ने बाबुल (नाबाद 119) के शतक और विकास रंजन (नाबाद 50 रन) के अर्धशतक की बदौलत पांच विकेट पर 292 रन बना लिए हैं और इस प्रकार बिहार को 325 रन रन की बढ़त हासिल हो गई है। बिहार ने अपनी पहली पारी में 305 रन बनाया था, जबकि सिक्किम की पहली पारी 272 रनो पर सिमट गई थी।

खेल के तीसरे दिन बिहार ने अपनी दूसरी पारी की शुरुआत की। सलामी बल्लेबाज इंद्रजीत कुमार मात्र दस रन के योग पर ईश्वर चौधरी की गेंद पर बोल्ड आउट होकर पवेलियन लौट आए। इसके बाद कुमार रजनीश और यशस्वी रिषभ ने पारी को संभाला। दोनों बल्लेबाजों ने 64 रनों की साझेदारी की। तीसरे दिन के खेल समाप्ति के समय तक बाबुल कुमार 119 और विकास रंजन 50 रन बना कर खेल रहे थे। सिक्किम के गेंदबाज ईश्वर चौधरी, इकबाल अब्दुला, ली योंग लेप्टा, नितेश कुमार गुप्ता और यशपाल ने एक-एक विकेट झटके।

एन. रघुरामन, मैनेजमेंट गुरु [[email protected]]

राजेश कुमार को नाट्य लेखन के लिए दिया गया अकादमी पुरस्कार

ऑल इंडिया एमपी वर्मा प्राइज मनी क्रिकेट

नवयुग, कंकड़बाग सीसी व क्रिसेंट सीसी की जीत

सिटी रिपोर्टर. पटना

पीडीसीए के तत्वावधान में खेले जा रहे पटना जिला जूनियर डिवीजन क्रिकेट लीग में नवयुग क्रिकेट क्लब, कंकड़बाग सीसी और क्रिसेंट सीसी ने अपने-अपने मुकाबले में जीत दर्ज की। नवयुग सीसी ने जेपीसीसी को 11 रन, कंकड़बाग सीसी ने वाईसीसी राजेंद्रनगर को नौ विकेट से, जबकि क्रिसेंट सीसी ने एवरग्रीन सीसी को 35 रनों से पराजित किया। सीआईएसएफ ग्राउंड पर खेले गए मैच में नवयुग सीसी ने 35 ओवर में नौ विकेट पर 223 रन बनाए। जवाब में जेपीसीसी की टीम 34.3 ओवर में 212 रन पर सिमट गई। इससे पहले मैच का उद्घाटन फुलवारीशरीफ नगर परिषद् के चेयरमैन आफताब आलम ने किया। मोइनुल हक स्टेडियम के बाहरी परिसर में कंकड़बाग सीसी की टीम 12.5 ओवर में एक विकेट पर 82 रन बना कर मैच नौ विकेट से जीत लिया। पटना हाईस्कूल में खेले गए मैच में क्रिसेंट सीसी ने पहले खेलते हुए 35 ओवर में आठ विकेट पर 171 रन बनाए। एवरग्रीन सीसी 32.3 ओवर में सभी विकेट खोकर 136 रन बनाए।

 मैनेजमेंट फंडा एन. रघुरामन की आवाज में मोबाइल पर
सुनने के लिए 9190000071 पर मिस्ड कॉल करें।

मैनेजमेन्ट फंडा**

कायनात हुसैन, मेकअप एक्सपर्ट, दुबई [ @glambykainat ]

हेयर केयर**

FEM WORLD**

6. आयोजन सहायतार्थ योजना : पाटलिपुत्र स्पोर्टस कॉम्प्लेक्स में राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय खेल आयोजनों के लिए आयोजनकर्ता को इंडोर खेलों के लिए जिस प्रकार नि:शुल्क इंडोर हॉल उपलब्ध कराए जाते हैं उसी प्रकार आउटडोर गेम्स के आउटडोर स्टेडियम नि: शुल्क दिया जाए।

3. खिलाड़ी कल्याण कोष को सुलभ बनाया जाए : खिलाड़ी कल्याण कोष से 15 हजार से कम आय होने तथा वर्तमान खिलाड़ी (करेंट प्लेयर मेडलधारी) को ही सुविधा देने की बाध्यता समाप्त कर, वैसे को जीवन पर्यंत इस योजना का लाभ दिया जाए, जिन्होंने पदक जीता हो।

5. खिलाड़ी रोजगार योजना : 15 वर्षों से अधिक बंद पड़े राजकीय स्वास्थ्य एवं शारीरिक शिक्षण महाविद्यालय (गवर्मेंट फिजिकल कॉलेज) की बाधाओं को दूर कर राज्य में सरकारी व गैरसरकारी मिडिल व हाईस्कूलों में रिक्त पड़े शारीरिक शिक्षक के पद पर नियुक्ति की जाए।

2. खिलाड़ी स्वास्थ्य बीमा योजना : राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय पदक विजेता खिलाड़ियों के लिए स्वास्थ्य बीमा योजना शुरू की जाए जिससे वह खेल के दौरान किसी प्रकार की दुर्घटना, चोट व बीमारी होने पर अपना इलाज बेहतर से बेहतर हॉस्पिटल में कैशलेस करा सके।

4. प्रशिक्षकों की सेवा व प्रतिनियुक्ति : राज्य में प्रशिक्षकों की कमी दूर करने के लिए किसी भी विभाग में कार्यरत एनआईएस डिप्लोमा प्रशिक्षक विशेषकर उन्हें जिन्हें इस कोर्स को करने के लिए सरकार ने अनुदान (स्पांसर) किया है उनसे उनकी योग्यतानुसार सेवाएं ली जाए।

1. खिलाड़ी छात्रवृत्ति योजना : सब जूनियर व जूनियर खिलाड़ी जो प्रशिक्षण,मैदान व संसाधन के अभाव में राष्ट्रीय प्रतियोगिता में पदक प्राप्त कर रहे हैं और जिन्हें उम्र कम होने के कारण नौकरी व रोजगार भी नहीं मिल रहै, वैसेे खिलाड़ियों के लिए खिलाड़ी छात्रवृत्ति योजना शुरू हो।

उपमुख्यमंत्री सह वित्त मंत्री सुशील कुमार मोदी ने लिए सुझाव

सिटी रिपोर्टर | उत्तर प्रदेश संगीत नाटक अकादमी ने संत गाडगे जी महाराज प्रेक्षाग्रह में आयोजित सम्मान समारोह में 128 कलाकारों को सम्मानित किया गया। मुख्य अतिथि राज्यपाल आनंदी बेन पटेल ने ताम्रपत्र, अंगवस्त्र देकर सम्मानित किया। नाटक के क्षेत्र में राजेश कुमार को नाट्य लेखन के क्षेत्र में विशिष्ट योगदान के लिए 2014 का अकादमी पुरस्कार दिया गया है। वे भागलपुर के रहने वाले हैं । बिहार में आरा की युवानीति और भागलपुर की दिशा के वो संस्थापक हैं। नुक्कड़ नाट्य आंदोलन में भी उनकी अहम भूमिका रही है।

आज का मैच : एमपी वर्मा एकादश, बिहार और स्पंदन क्लब, कोलकाता के बीच होगा।**

ऊर्जा स्टेडियम में बैटिंग करते खिलाड़ी।

पटना जिला जूनियर डिवीजन क्रिकेट लीग में िवजेता टीमें।

जूनियर डिवीजन क्रिकेट लीग

विकास

बाबुल

माेइनुल हक स्टेडियम में एक डिफेंसिव शॉर्ट खेलते खिलाड़ी।

सिटी रिपोर्टर. पटना

मोइनुल हक स्टेडियम में शुरू हुई कर्नल सीके नायडू क्रिकेट अंडर-23 क्रिकेट टूर्नामेंट में बिहार की स्थिति पुडुचेरी के विरूद्ध ठीक नहीं है। पहले दिन के खेल समाप्ति के समय बिहार ने पांच विकेट पर 92 रन बनाए और पुडुचेरी से पहली पारी के आधार पर 139 रन पीछे है। पुडुचेरी ने अपनी पहली पारी में 231 रन का स्कोर किया। शुक्रवार को बिहार ने टॉस जीता और पहले फिल्डिंग करने का फैसला किया। पुडुचेरी ने पहले बैटिंग करते हुए सतीश जानगीर (53 रन) और सिदाक सिंह (54 रन) के अर्द्धशतक की मदद से 231 रन का स्कोर खड़ा किया। साथ ही मणिकंदन ने 15, जार्ज ने 25, पारस ने 35, साई ने 22 रन का योगदान किया। बिहार के गेंदबाज विकास झा ने 43 रन देकर चार, प्रशांत कुमार सिंह और सचिन कुमार सिंह ने दो-दो, अपूर्वा आनंद एवं शकीबुल गणि ने एक-एक विकेट प्राप्त किया। बिहार की पारी काफी निराशजनक रही। अपना पहला मैच खेल रहे विश्वजीत गोपाला मात्र दो रन बना कर पवेलियन वापस लौटे गए। एक छोर पर जहां प्रणव सिंह जमे रहे वहीं दूसरे बल्लेबाज एक-एक पवेलियन लौटते गए। पहले दिन की खेल समाप्ति के कुछ पल पहले प्रणव सिंह 54 रन बना कर आउट हो गए। खेल समाप्ति के समय स्कोर पांच विकेट पर 92 रन है और क्रीज पर प्रशांत कुमार सिंह बिना खाता खोले जमे हुए हैं।

City Activity

Patna News - 5 wickets fell for bihar39s 92 runs in response to 231 runs
Patna News - 5 wickets fell for bihar39s 92 runs in response to 231 runs
Patna News - 5 wickets fell for bihar39s 92 runs in response to 231 runs
Patna News - 5 wickets fell for bihar39s 92 runs in response to 231 runs
Patna News - 5 wickets fell for bihar39s 92 runs in response to 231 runs
X
Patna News - 5 wickets fell for bihar39s 92 runs in response to 231 runs
Patna News - 5 wickets fell for bihar39s 92 runs in response to 231 runs
Patna News - 5 wickets fell for bihar39s 92 runs in response to 231 runs
Patna News - 5 wickets fell for bihar39s 92 runs in response to 231 runs
Patna News - 5 wickets fell for bihar39s 92 runs in response to 231 runs
Patna News - 5 wickets fell for bihar39s 92 runs in response to 231 runs
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना