--Advertisement--

पिता के इलाज के लिए 12 साल के बच्चे को मांगनी पड़ रही भीख, ये है पूरी कहानी

आशीष ने बताया कि पापा काम करते थे तो परिवार को दो जून की रोटी मिल जाया करती थी।

Danik Bhaskar | Jan 21, 2018, 05:39 AM IST

कैमूर (बिहार). पिता की बीमारी से ऐसी आफत आई कि 12 साल के बच्चे की भीख मांगने की नौबत आ गई है। 48 वर्षीय राम अवध कहार लकवे से पीड़ित हैं। 12 वर्षीय शीष कुमार चैनपुर थाना एरिया में एक चौक पर पिता के इलाज के लिए भीख मांग रहा है। रामअवध कहार अपने घर के इकलौते कमाऊ सदस्य हैं। बीमारी से ग्रस्त हो जाने से उनके घर की माली हालत बेहद खराब हो गई है। घर में जो कुछ भी था वह दवा में खत्म हो गया। अब घर में खाने- पीने के लिये भी कुछ नहीं बचा है।

दो जून की रोटी के भी पड़े लाले

आशीष ने बताया कि पापा काम करते थे तो परिवार को दो जून की रोटी मिल जाया करती थी। अब घर में कोई काम करने वाला नहीं है, जिससे अब दो जून की रोटी के भी लाले पड़ गए हैं। पापा को दवा भी करनी पड़ रही है। इसके लिए मुझे भीख मांगनी पड़ रही है। उसने यह भी बताया कि घर में मां के अलावा बड़ी बहन व एक छोटा भाई भी है। उनके लिए भी रोटी जुटानी है।