--Advertisement--

ये है इंडिया का 'बिन लादेन', इस मामले में बिहार से जुड़ रहा है कनेक्शन

दिल्ली में शनिवार रात गिरफ्तार किए गए आतंकी अब्दुल सुभान कुरैशी ने मुंबई में क्रिश्चियन मिशनरी स्कूल से पढ़ाई की है।

Danik Bhaskar | Jan 23, 2018, 07:03 AM IST
पुलिस हिरासत में आतंकी सुभान। पुलिस हिरासत में आतंकी सुभान।

गया (बिहार). यहां के महाबोधि मंदिर के पास आतंकियों द्वारा रखे गए टाइमर बम की बरामदगी के बाद फिलहाल केन्द्रीय और राज्य की कई सुरक्षा एजेंसियां बोधगया में कैंप कर रही हैं। इधर, दिल्ली में स्पेशल सेल की कार्रवाई में इंडियन मुजाहिदीन (आईएम) के संस्थापक सदस्यों में से एक और प्रतिबंधित सिमी के कुख्यात अब्दुल सुभान कुरैशी की गिरफ्तारी के बाद बोधगया से आतंकियों का कनेक्शन मिलने की संभावना जताई जा रही है। बोधगया में तीन टाइमर बम के पीछे आईएम का हाथ होने के संकेत मिले हैं। साथ ही प्लांट करने वाले आतंकी की भी एक हद तक पहचान का दावा किया गया है।

26 जनवरी के मद्देनजर आतंकी और नक्सली गतिविधियों को लेकर अलर्ट

- 26 जनवरी गणतंत्र दिवस को लेकर जिले को अलर्ट किया गया है। इस बार नक्सलियों के अलावे आतंकी गतिविधियां भी एक बड़ी चुनौती के समान हैं।
- वैसे अलर्ट मोड पर रही पुलिस हर प्रकार की गतिविधियों पर पैनी नजर रख रही। बता दें कि 26 जनवरी का विरोध प्रतिबंधित नक्सली संगठन भाकपा माओवादी द्वारा हर साल किया जाता रहा है।
- आतंकियों के नजदीक सुरक्षाबलों के पहुंचने की बात सूत्र बता रहे हैं। वहीं मंगलवार को बोधगया नगर पंचायत में बिहार एटीएस की टीम पहुंची और फोटो दिखाकर सभी सफाईकर्मियों से पहचान कराने में जुटी रही। कई दुकानदारों को भी फोटो दिखाया गया है। वैसे माना जा रहा है कि जिन संदिग्धों के फोटो बिहार एटीएस की टीम दिखाकर पहचान कराने में जुटी है, उसके बारे में ठोस सूचना है कि वे बोधगया या आसपास के इलाके में हैं।

गुजरात ब्लास्ट के बाद नेपाल और सऊदी अरब में छिपा रहा 'भारत का बिन लादेन'

- 'भारत का बिन लादेन' के नाम से कुख्यात खूंखार आतंकी अब्दुल सुभान कुरैशी सिमी और आईएम को फिर एक्टिव करना चाहता था।
- डीसीपी प्रमोद सिंह कुशवाह ने बताया कि अहमदाबाद में हुए 23 सीरियल ब्लास्ट के बाद से सुरक्षा एजेंसियों को कुरैशी की तलाश थी।
- इस आतंकी हमले के बाद वह कुछ महीने भारत में ही इधर-उधर छिपकर रहा और फिर बिहार के रास्ते नेपाल भाग गया और वहां टीचर बनकर रहने लगा।
- यहां से वह सऊदी अरब चला गया। 2015 से 2017 तक वो वहां रहा। मुंबई का रहने वाला सुभान भारत इसलिए आया ताकि वह फिर से आईएम को एक्टिवेट कर सके।

इंजीनियर की जॉब करने वाला आतंकी सुभान सिमी की मैगजीन का संपादक भी रहा

- दिल्ली में शनिवार रात गिरफ्तार किए गए आतंकी अब्दुल सुभान कुरैशी ने मुंबई में क्रिश्चियन मिशनरी स्कूल से पढ़ाई की है।
- साल 1995 में उसने भारतीय विद्यापीठ से इंडस्ट्रियल इलेक्ट्रॉनिक्स में डिप्लोमा किया। घर के नजदीक वह अक्सर मुस्लिम चैरिटेबल लाइब्रेरी में समाचार पत्र और इस्लाम से संबंधी किताबें बहुत पढ़ता था।
- इसने सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में डिप्लोमा भी किया है। शिक्षा पूरी होने के बाद उसने मुंबई की एक कंपनी में कस्टमर सपोर्ट इंजीनियर के तौर पर नौकरी की।
- इसी दौरान वह अक्सर कुर्ला मुंबई में सिमी के साप्ताहिक कार्यक्रम में हिस्सा लेने लगा। तभी उसकी मुलाकात रियाज भटकल से हुई।
- फरवरी 1999 में सुभान ने निकाह किया और अपनी नौकरी भी बदल ली। वह नौजवान युवकों के दिल में जेहाद के नाम पर जहर घोलकर उनका माइंड वॉश करने लगा।
- वक्त गुजरने के साथ उसने सिमी की सदस्यता ग्रहण कर ली। इसके बाद वह सिमी की इस्लामिक मूवमेंट नाम की एक मैगजीन का संपादक बन गया।
- जिस कंपनी में वह जॉब करता था, वहां उसे अच्छी सैलरी मिलती थी। मगर वह इसे छोड़कर दिल्ली आकर जाकिर नगर में रहने लगा। यहीं वह सफदार नागौरी जनरल सेक्रेटरी ऑफ सेंट्रल एडवाइजरी कमेटी सिमी के नजदीक आया।

आतंकी सुभान की फाइल फोटो। आतंकी सुभान की फाइल फोटो।
पुलिस हिरासत में आतंकी सुभान। पुलिस हिरासत में आतंकी सुभान।
बोधगया में बरामद बम को नदी किनारे डिफ्यूज किया गया था। बोधगया में बरामद बम को नदी किनारे डिफ्यूज किया गया था।