--Advertisement--

शहीद की पत्नी बोल रही थी, अपने सर को बोलकर पांच दिन की छुट्टी बढ़वा लीजिए

शहीद की पत्नी बिलखते हुए कह रही थी कि मैंने आग्रह किया था कि 5 दिन की और छ़ुट्टी अपने सर को बोल कर बढ़ा लीजिए।

Danik Bhaskar | Mar 14, 2018, 01:30 AM IST

मुंगेर. मंगलवार को छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले में नक्सलियों ने बारूदी सुरंग ब्लास्ट कर सीआरपीएफ की टुकड़ी पर हमला कर दिया। घटना में सीआरपीएफ के 9 जवान शहीद हो गए। जिनमें मुंगेर जिले के ईस्ट कॉलोनी थाना क्षेत्र अंतर्गत नयाटोला सिकंदपुर के रहने वाले सरयू यादव के दूसरे बेटे अजय कुमार यादव भी शामिल हैं। शहीद अजय सुकमा में पदस्थापित सीआरपीएफ के 212वीं बटालियन में कार्यरत थे। स्थानीय युवक अजय के शहीद होने की सूचना मिलते ही नयाटोला सिकंदपुर में मातम पसरा गया।


मां को रोता देखता रहा मासूम

जब बूढ़े पिता सरयू यादव को पुत्र अजय की शहीद होने की खबर मिली तो वे चुप हो गए। उनके जुबान से शब्द ही नहीं निकल रहे थे। मृतक की पत्नी ऐश्वर्या भारती के चीत्कार से वातावरण गमगीन हो गया। मृतक के नन्हे पुत्र को पता भी नहीं था कि पापा अब इस दुनिया में नहीं रहे। वह एकटक मां को रोते देख रहा था। ढाढ़स देने आए मोहल्लावासी भी अपनी आखों से बहते आंसू को नहीं रोक पा रहे थे। इधर, रोते बिलखते पिता ने बताया कि होली की छुट्टी बिताकर 10 मार्च को ही हावड़ा-जमालपुर सुपर एक्सप्रेस से ड्यूटी पर गया था। लेकिन आज दोपहर अचानक उनके शहीद होने की सूचना मिली। उन्होंने बेटे की शहादत पर गर्व करते हुए कहा कि मातृ भूमि की रक्षा के लिए शहीद हुआ है। हमें क्या पता थ कि आज वह मुझे अंतिम बार चरण छू रहा है।

बच्चों को सीने से चिपकाए फफक कर रो पड़ी पत्नी
शहीद अजय की पत्नी ने बार-बार बिलखते हुए कह रही थी कि मैंने आग्रह किया था कि पांच दिन की और छ़ुट्टी अपने सर को बोल कर बढ़वा लीजिए। अगर आज छुट्टी और पांच दिन की मिल जाती तो शायद इतनी बड़ी घटना नहीं होती। पत्नी पुत्र-पुत्री को सीने से चिपकाए फफक कर रो रही थी।

घटना से बच्चे हैं बेखबर
शहीद का बेटा ओम और बेटी आराध्या मां और चाची को रोते देखकर घर के एक कोने में बैठ सभी का चेहरा निहार रहे थे। शायद इस अबोध बच्चे को यह पता नहीं कि उनके पापा अब वापस उनके पास नहीं लौटेंगे।

2000 में हुई थी शादी
अजय की शादी 2010 में मुंगेर के कृष्णापुरी की रहने वाली ऐश्वर्या भारती से हुई थी।