Hindi News »Bihar »Patna» Bhaskar Sting On Corrupt Police Personnel Of GRP

सिर्फ 50 रु. में बिकती है GRP, हथियारों-नशीले पदार्थों का सेफ जोन बना ये स्टेशन

जीआरपी की ढिलाई से नेपाल व बंगाल की सीमा से सटे तस्करों के लिए यह रेलखंड सेफ जोन बन गया है।

संदीप कुमार झा | Last Modified - Jan 10, 2018, 04:28 AM IST

  • सिर्फ 50 रु. में बिकती है GRP, हथियारों-नशीले पदार्थों का सेफ जोन बना ये स्टेशन
    +5और स्लाइड देखें
    रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म संख्या दो पर सब्जी लेकर जाती महिला से पैसा लेता जवान।

    नवगछिया (भागलपुर).बरौनी-कटिहार रेल खंड पर स्थापित आदर्श रेलवे स्टेशन नवगछिया, यहां की सुरक्षा की कमान संभालने वाली जीआरपी की काली कमाई का सच सामने आया है। यहां महज 50 रुपए ही जीआरपी के जवान बिक रहे हैं। इस कमाई के चलते यहां तैनात जवान स्टेशन की सुरक्षा को ताक पर रखकर खुलेआम मानकों की धज्जियां उड़ा रहे हैं। इनकी एक लापरवाही से स्टेशन या ट्रेनों में कोई बड़ा हादसा हो सकता है, इसकी रत्तीभर परवाह जवानों को नहीं है।

    जीआरपी की वर्दी में रंगदार की तरह ये जवान स्टेशन पर अवैध कारोबार को बढ़ावा दे रहे हैं और कारोबारियों से रंगदारी टैक्स का खुल्लम-खुल्ला खेल रहे हैं। वसूली का आंकड़ा लाखों में पार कर चुकी है। वह भी तब, जब इस रेलखंड के नवगछिया स्टेशन के रास्ते ट्रेनों से हथियारों के साथ ही मादक पदार्थों की तस्करी होती है।

    हाल के दिनों में शराब, गांजा, भांग व कछुए की बड़ी खेप कई बार पकड़ी जा चुकी है, जो सुर्खियों में भी रही है। जीआरपी की ढिलाई से नेपाल व बंगाल की सीमा से सटे तस्करों के लिए यह रेलखंड सेफ जोन बन गया है। नवगछिया के रास्ते यूपी, बंगाल व नेपाल तक बड़े आराम से तस्कर हथियार व मादक पदार्थों की सप्लाई कर रहे हैं। दैनिक भास्कर को जब इस गोरखधंधे का पता चला तो टीम ने पांच दिन तक स्टिंग ऑपरेशन चलाया, जिसमें जीआरपी की रंगदारी और काली कमाई का सच सामने आ गया। भास्कर के पास सब्जी वाले, ठेले वालों से जवानों की वसूली की वीडियो है, जिसमें सबकुछ साफ-साफ दिख रहा है। वीडियो में एक जवान साफ कह रहा है कि इस कमाई का हिस्सा जीआरपी के बड़े अधिकारियों को भी जाता है।

    टोकरियों में मादक पदार्थ और हथियार भी हो सकते हैं

    जीआरपी सब्जी बेचने वाली महिलाएं व छोटे व्यापारियों के सामानों की बगैर जांच किए ही छोड़ देती है। जो बगैर बुकिंग किए ही स्टेशन पर ट्रेनों से उतारे जाते हैं। इसके एवज कारोबारियों से जवान खुलेआम वसूली करते हैं। ऐसे में यह सवाल उठता है कि सब्जी की टोकरियों में मादक पदार्थ और हथियार भी हो सकते हैं। मगर जीआरपी को इसकी परवाह नहीं है। वसूली के चक्कर में रेल व यात्रियों की सुरक्षा से खिलवाड़ कर रहे हैं। यदि हालात यहीं रहे तो इसका फायदा उठाने का मौका इस रूट के तस्कर नहीं छोड़ेंगे।

    स्टेशन पर सामान की जांच नहीं करती है रेल पुलिस

    स्टेशन की सुरक्षा के लिये तैनात जीआरपी के जवान सुरक्षा में कम पैसे की उगाही में ज्यादा ध्यान देते है। ट्रेन से कटिहार, मधेपुरा, पूर्णिया, नवगछिया से सब्जी व अन्य कारोबारी अपने सामान को बेचने व खरीदने जाते है। इसी क्रम में तस्करों की भी निगाहें स्टेशन पर सामान निकालने को लेकर टिकी रहती है। जीआरपी छोटे-बड़े सामान की जांच नहीं करती है। इसका फायदा उठाकर हथियार व मादक पदार्थों के तस्कर भी सौ से दो सौ रुपये देकर बड़े आराम से अवैध कारोबार को अंजाम दे रहे हैं।

    भास्कर टीम ने लगातार पांच दिन तक किया स्टिंग

    वसूली के खेल में सामने आया कि छोटे सब्जी कारोबारियों से जीआरपी वसूली करती है। इसमें यह भी सच सामने आया कि यदि कोई सब्जी वाला पैसा देने में असमर्थता जाहिर करता है, तो उसे रुपए के बदले सब्जी देनी पड़ जाती है। कैमरे में पैसे की वसूली करते कैद हुए फोटो में जीआरपी जवान प्रमोद कुमार, छबीला पासवान सहित अन्य जवानों चेहरे कैद हैं, जो हर दिन रेलवे स्टेशन पर वसूली के खेल में जुटे हुए हैं।

    नवगछिया बहुत बड़ा स्टेशन है, किस-किस पर नजर रखेंगे

    सीधी बात उमाशंकर प्रसाद, रेल एसपी

    सवाल- बरौनी-कटहार रेलखंड के नवगछिया रेलवे स्टेशन पर जीआरपी सब्जी वाले व ठेले वालों से खुलेआम वसूली करती है। पुलिस को विभागीय कार्रवाई होने का भी डर नहीं है
    जवाब-नवगछिया बहुत बड़ा स्टेशन है, किस-किस पर नजर रखेंगे। बिना किसी साक्ष्य के ये सब उल जूलूल बातें एसपी से नहीं पूछनी चाहिए।
    सवाल- जब दैनिक भास्कर ने एसपी को यह बताया गया कि इसका साक्ष्य मेरे पास है, काली कमाई की वसूली का वीडियो है?
    जवाब-आपके पास जो वीडियो है भेजिए कार्रवाई होगी, आपका भी बयान दर्ज किया जाएगा
  • सिर्फ 50 रु. में बिकती है GRP, हथियारों-नशीले पदार्थों का सेफ जोन बना ये स्टेशन
    +5और स्लाइड देखें
    हवाई चप्पल और टी शर्ट में कोई और नहीं यह जीआरपी का जवान है। जो खुलेआम पैसा ले रहा है।
  • सिर्फ 50 रु. में बिकती है GRP, हथियारों-नशीले पदार्थों का सेफ जोन बना ये स्टेशन
    +5और स्लाइड देखें
    इस तस्वीर में वर्दी में जीआरपी का जवान महिला से रुपए लेकर उसे जाने देता है।
  • सिर्फ 50 रु. में बिकती है GRP, हथियारों-नशीले पदार्थों का सेफ जोन बना ये स्टेशन
    +5और स्लाइड देखें
    इस तस्वीर में जीआरपी जवान साफ दिख रहा है, जिसे देने के लिए महिला पैसे गिन रही है।
  • सिर्फ 50 रु. में बिकती है GRP, हथियारों-नशीले पदार्थों का सेफ जोन बना ये स्टेशन
    +5और स्लाइड देखें
    नवगछिया रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म संख्या एक पर सब्जी बेचने वाली महिला से पैसे की वसूली करता जीआरपी जवान।
  • सिर्फ 50 रु. में बिकती है GRP, हथियारों-नशीले पदार्थों का सेफ जोन बना ये स्टेशन
    +5और स्लाइड देखें
    उमाशंकर प्रसाद, रेल एसपी।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Patna News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Bhaskar Sting On Corrupt Police Personnel Of GRP
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Patna

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×