--Advertisement--

बिहार : चीनी मिल में बॉयलर फटने से 3 मजदूरों की मौत, अभी भी कई अंदर फंसे

स्थानीय लोगों की मानें तो हादसे में 10 मजदूरों की मौत हुई है जबकि 20 लोग बुरी तरह झुलसे हैं।

Danik Bhaskar | Dec 21, 2017, 07:43 AM IST
घायलों को पटना के पीएमसीएच हॉस्पिटल रैफर किया गया है। घायलों को पटना के पीएमसीएच हॉस्पिटल रैफर किया गया है।

गोपालगंज. बिहार के गोपालगंज में बुधवार रात चीनी मिल हादसे में 7 लोगों की मौत हो गई। मिल से पांच शव निकाले गए हैं। वहीं, गंभीर रूप से घायल दो लोगों ने सदर हॉस्पिटल में दम तोड़ा। हादसे के बाद गुस्साई भीड़ ने गुरुवार को मिल मालिक की गाड़ियों में आग लगा दी। मिल के पास सैकड़ों की संख्या में उग्र लोग अभी भी जुटे हुए हैं। मौके पर मौजूद डीएम, एसपी, डीडीसी लोगों को समझाने की कोशिश कर रहे हैं।

- हंगामा कर रहे लोगों का कहना है कि मिल में अभी भी कई शव पड़े हैं। पहले उन शवों को निकाला जाए। हादसा हुए 12 घंटे से ज्यादा हो गए, लेकिन अभी तक शवों को नहीं निकाला गया है। लोगों ने मिल मालिक पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि एक सप्ताह पहले भी बॉयलर का पाइप फटा था, लेकिन इस हादसे से सबक नहीं लिया गया।
- मिल को जर्जर मशीनों से चलाया जा रहा था। समय पर मेंटेनेंस नहीं किया जा रहा था। इसी का नतीजा है कि बुधवार रात को बॉयलर अधिक गर्म होकर फट गया, जिससे आसपास काम कर रहे मजदूर झुलसकर मर गए।
- विरोध कर रहे लोगों की मांग है कि मिल मालिक हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों को मुआवजा दे और उसके परिवार के सदस्य को नौकरी दे।

घायलों की हालत गंभीर

- सदर हॉस्पिटल के डॉक्टर शशिरंजन प्रसाद के मुताबिक, 6 लोग करीब 90 फीसदी झुलस गए हैं, जिन्हें पटना पीएमसीएच के लिए रेफर किया गया है।

मिल मालिक ने दिया मुआवजे का भरोसा
- मिल मालिक महमूद आलम ने कहा कि मारे गए मजदूरों के परिजनों को मुआवजा दिया जाएगा। लोगों को काम तभी दिया जा सकेगा जब फिर से कारोबार शुरू होगा। इस तरह के माहौल में कैसे कारोबार हो सकता है। हमारी कई गाड़ियों को जला दिया गया।
- बिहार सरकार में गन्ना मंत्री खुर्शीद फिरोज ने कहा कि सरकार मिल हादसे की जांच कराएगी। किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा। सरकार हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों के साथ है। सरकार से जो बन पड़ेगा मृतक के परिजनों के लिए करेगी। उन्हें मुआवजा दिया जाएगा।

UP के NTPC हादसे में हुई थी 25 लोगों की मौत

- बता दें कि इस साल 1 नवंबर को उत्तर प्रदेश के एनटीपीसी थर्मल पावर प्लांट में भी बॉयलर फटने की ऐसी ही घटना हुई थी। उस हादसे में 25 लोगों की मौत हो गई थी। 60-70 लोग जख्मी हुए थे।

डॉक्टर के मुताबिक, जख्मी हुए लोग 90 फीसदी तक झुलसे हैं, ऐसे में मौत का आंकड़ा बढ़ सकता है। डॉक्टर के मुताबिक, जख्मी हुए लोग 90 फीसदी तक झुलसे हैं, ऐसे में मौत का आंकड़ा बढ़ सकता है।
बुधवार देर रात चीनी मिल का बॉयलर फटने के बाद स्थानीय लोगों ने घायलों को हॉस्पिटल पहुंचाया। बुधवार देर रात चीनी मिल का बॉयलर फटने के बाद स्थानीय लोगों ने घायलों को हॉस्पिटल पहुंचाया।
हादसे के बाद पुलिस मौके पर कैंप कर रही है। हादसे के बाद पुलिस मौके पर कैंप कर रही है।