--Advertisement--

ठंड में नवजातों का ऐसे रखें ख्याल, तलवे, हथेली, कान और सिर ढंक कर रखें

सर्दी का मौसम सेहत के लिए काफी अच्छा माना जाता है लेकिन थोड़ी सी लापरवाही परेशानी का भी सबब बन सकती है।

Danik Bhaskar | Jan 06, 2018, 06:13 AM IST
डेमो फोटो। डेमो फोटो।

दरभंगा. मौसम में बदलाव का सीधा संबंध हमारे सेहत से है। यूं तो सर्दी का मौसम सेहत के लिए काफी अच्छा माना जाता है लेकिन थोड़ी सी लापरवाही परेशानी का भी सबब बन सकती है। खासकर अभी के समय में जब पारा न्यूनतम छह से आठ डिग्री सेल्सियस के बीच लुढ़कती व चढ़ती है। सर्द मौसम के हिसाब से जागरूक नहीं हुए तो कई बीमारियों की गिरफ्त में जाना तय है।

क्या कहते हैं डॉक्टर्स

डॉक्टर्स की मानें तो ऐसे मौसम में मधुमेह, ब्लडप्रेशर, दमा के मरीजों का खास ख्याल रखने की जरूरत होती है। ठंड के बढ़ते ही उनकी परेशानी बढ़ जाती है। इसलिए भोजन, दवा व कपड़ा तीनों का विशेष ध्यान रखा जाना चाहिए। वहीं, ऐसे मौसम में एक्सपोजर लगने की आशंका बनी रहती है इसलिए सुबह और शाम के वक्त मोटा कपड़ा पहनना अति आवश्यक है। सुबह, दोपहर व शाम के तापमान में काफी अंतर होता है ऐसे में सर्दी लगने की आशंका रहती है। इसका सेहत पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है।

ऐसी हालत में जाएं डॉक्टर्स के पास

डीएमसीएच के शिशु विशेषज्ञ डॉ. नागेंद्र गुप्ता, डॉ. देवार्ध कुमार, डॉ. संजय मिश्रा ने बताया एक्सपोजर लगने की आशंका हो तो तत्काल चिकित्सक के पास जाएं। वहीं, अस्पताल में भी ठंड से पीड़ित मरीजों को संख्या बढ़ी हुई है। ओपीडी में तो आने वाले अधिकांश मरीज ठंड से जुड़ी समस्या लेकर पहुंचते हैं। ठंड से बच्चों को बचाने के लिए बहुत ज्यादा कपड़े लादने की बजाय तलवा, हथेली, कान व सिर ढक कर रखें क्योंकि शरीर के इन हिस्सों में सबसे ज्यादा हीट लॉस होता है और यहीं से ठंड लगने का डर सबसे ज्यादा होता है। इसलिए बच्चों के टोपी, दस्ताने व मोजे जरूर पहनाकर रखें। धूप अच्छी सेहत के लिए बहुत जरूरी होती है।

खास ख्याल की जरूरत


ठंड का सबसे ज्यादा असर बच्चों पर दिखाई पड़ता है। इस मौसम में वायरस और बैक्टीरिया तेजी से बच्चों पर अपना प्रभाव डालते है। इसकी वजह से बच्चों को सर्दी जुकाम, नाक बंद, सांस लेने में तकलीफ, गले में इंफेक्शन, वायरल डायरिया, निमोनिया व बुखार जैसी समस्याएं हो जाती हैं। इसलिए बच्चों को सर्दी के मौसम में खास ख्याल की जरूरत होती है।