Hindi News »Bihar »Patna» Central Government To Fix Separate Quotas For OBC

नीतीश बोले-ओबीसी आरक्षण में अतिपिछड़ा के लिए अलग कोटा तय करे केंद्र सरकार

सीएम ने कहा कि बक्सर में उनके काफिले पर ईंट-पत्थरों की बौछार करने वालों की बेल का सरकार कोर्ट में विरोध नहीं करेगी।

Bhaskar News | Last Modified - Jan 25, 2018, 04:56 AM IST

  • नीतीश बोले-ओबीसी आरक्षण में अतिपिछड़ा के लिए अलग कोटा तय करे केंद्र सरकार

    पटना. सीएम नीतीश कुमार ने केंद्र सरकार से पिछड़ा वर्ग के कोटे में ही राष्ट्रीय स्तर पर अतिपिछड़ा को अलग से आरक्षण देने की वकालत की है। उन्होंने कहा कि बिहार में पिछड़ा और अति पिछड़ा वर्ग को अलग-अलग आरक्षण मिला हुआ है। मुझे पूरा विश्वास है कि केंद्र सरकार इस पर कोई फैसला जरूर लेगी। वे बुधवार को यहां जदयू द्वारा आयोजित जननायक कर्पूरी ठाकुर जयंती समारोह को संबोधित कर रहे थे।

    उन्होंने कहा-कर्पूरी ठाकुर ने बिहार में अतिपिछड़ा को आरक्षण दिया। वर्ष 1993 में कर्पूरी मॉडल को खत्म कर बिहार में मंडल कमीशन की सिफारिशों को लागू करने का प्रयास होने लगा। मैंने उसका विरोध किया को मेरे खिलाफ कुर्मी को भड़काने की कोशिश की गई। मुख्यमंत्री ने कर्पूरी ठाकुर को भारत रत्न देने की मांग की। कहा- राज्य सरकार ने पहले ही इस बावत केंद्र को प्रस्ताव भेजा है। समारोह में भी इस आशय का प्रस्ताव पारित किया गया।

    बक्सर कांड के आरोपियों की बेल का विरोध नहीं

    मुख्यमंत्री ने कहा कि बक्सर में उनके काफिले पर ईंट-पत्थरों की बौछार करने वालों की बेल का सरकार कोर्ट में विरोध नहीं करेगी। मैं तो यात्रा के दौरान नंदन गांव की महिलाओं से रुक कर बात करना चाहता था लेकिन इससे पहले की कार से उतर पाता, ‘बरसात’ शुरू हो गई। मेरे ऊपर जितना पत्थर चलाना है, चलाइए। घटना के बाद मैंने डीजीपी से कहा कि बिना जांच किए किसी को भी नहीं पकड़िए। लेकिन पुलिस ने पहले से ही कुछ लोगों को पकड़ लिया। कोशिश होगी कि सब बाहर आ जाएं। बाहर आकर खुद सोचेगा कि क्या किया था?

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Patna News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Central Government To Fix Separate Quotas For OBC
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Patna

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×