पटना

--Advertisement--

इंटर टॉपर घोटाला : बिहार बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष समेत 30 पर तय हुए आरोप

बुधवार को आरोप तय होने के बाद जब लालकेश्वर को पुलिस ले जाने लगी तो पत्नी ने कहा कि खाना है, इसे रख लें।

Danik Bhaskar

Jan 25, 2018, 04:39 AM IST
कभी बिहार बोर्ड की सबसे बड़ी कुर्सी पर बैठने वाले लालकेश्वर कोर्ट परिसर में जमीन पर बैठकर परिजनों-वकील से बात करते रहे। कभी बिहार बोर्ड की सबसे बड़ी कुर्सी पर बैठने वाले लालकेश्वर कोर्ट परिसर में जमीन पर बैठकर परिजनों-वकील से बात करते रहे।

पटना. 2016 में हुए इंटर टॉपर घोटाले में निगरानी की अदालत में बुधवार को बिहार बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष लालकेश्वर प्रसाद सिंह, उनकी पत्नी उषा सिन्हा, घोटाले के बड़े खिलाड़ी बच्चा राय, बोर्ड के दो पूर्व सचिव हरिहरनाथ झा व श्रीनिवास चंद्र तिवारी, दो टॉपरों समेत 30 आरोपितों पर आरोप तय हो गया।

निगरानी के विशेष न्यायाधीश मधुकर कुमार ने लालकेश्वर व हरिहरनाथ को कहा कि आप दोनों के खिलाफ 55 लाख रुपए सरकारी रकम गबन करने का आरोप है। वहीं बच्चा राय से कहा कि 2 करोड़ से ज्यादा संपत्ति अर्जित करने का आरोप है। अन्य आरोप भी हैं। अन्य आरोपितों से कहा- आप लोगों पर भी गंभीर आरोप हैं। इतना कहने के बाद वहां मौजूद बच्चा राय ने कहा कि हम पर आरोप गलत हैं। राजनीतिक साजिश के तहत आरोप लगाए गए हैं। बच्चा के इतना कहने के बाद इजलास में मौजूद अन्य आरोपितों ने भी कहा कि आरोप निराधार है। बाद में अदालत ने 30 आरोपितों पर आरोप तय कर दिया। अदालत ने सरकारी वकील को कहा कि 7 फरवरी को अपने गवाह पेश करें।

आरोपित बोले- ट्रायल शुरू होगा तो सामने आ जाएगी साक्ष्य की हकीकत

इंटर टॉपर घोटला में बुधवार को आरोप तय होना था। लालकेश्वर प्रसाद सिंह, बच्चा राय समेत 5 आरोपितों को बेउर जेल से यहां लाया गया। आरोप तय होने के बाद आरोपितों के चेहरे पर थोड़ी देर के लिए मायूसी दिखी, पर उन्होंने कहा कि केस का ट्रायल शुरू होगा तो पता चल जाएगा कि पुलिस की जांच और साक्ष्य की हकीकत क्या है। इस मामले में लालकेश्वर की पत्नी उषा भी आरोपी हैं, पर वह जमानत पर हैं।

बुधवार को आरोप तय होने के बाद जब लालकेश्वर को पुलिस ले जाने लगी तो पत्नी ने कहा कि खाना है, इसे रख लें। उन्होंने खाना नहीं लिया। पूछने पर लालकेश्वर ने कहा- 20 माह से जेल में हूं। हेल्थ खराब हो गया है। खाना ठीक नहीं मिलता है। क्या करें कुछ समझ में नहीं आता है। करीब-करीब सबका बेल हो गया है। इधर, पूर्व सचिव हरिहरनाथ झा के करीबी रिश्तेदार भी मौजूद थे। बच्चा राय के समर्थक और उनके परिजन भी कोर्ट आए थे। आरोप तय होने से पहले और बाद में बच्चा राय से परिजन और समर्थक बातचीत कर रहे थे।

Click to listen..