--Advertisement--

पिता को शराब पिला बेटी से ज्यादती करता था मुंहबोला चाचा, FIR का आदेश

मोबाइल फोन पर वीडियो बनाकर ब्लैकमेल करने लगा और बार-बार रेप किया। घरवालों को कई बार पीटा भी।

Danik Bhaskar | Dec 23, 2017, 07:03 AM IST

धनबाद. पिता का साथी...। मुंहबोला चाचा...। पिता को शराब पिलाने के बहाने घर आता था, लेकिन बुरी नजर नाबालिग बेटी पर रहती थी। एक बार पिता जब नशे में धुत हो गया, तो बेटी को भी जबरन नशा करा दिया। फिर बेसुध बच्ची से रेप किया। उसके बाद लगातार डेढ़ साल तक वह मुंहबोला चाचा घिनौनी हरकत करता रहा। मोबाइल फोन पर वीडियो बनाकर ब्लैकमेल करने लगा और बार-बार रेप किया। घरवालों को कई बार पीटा भी। पीड़ित बच्ची ने शुक्रवार को यह वाकया राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष कल्याणी शंकर को सुनाया।

ओपन कोर्ट में पीड़ित बच्ची ने सुनाई आपबीती

आयोग की टीम ने सर्किट हाउस में लगातार दूसरे दिन ओपन कोर्ट लगाया। इसमें बच्ची ने कहा कि जब ब्लैकमेलिंग और रेप की पोल खुल गई, तो वह मुंहबोला चाचा उस पर शादी कर लेने का दबाव बनाने लगा। ओपन कोर्ट में आरोपी भी हाजिर था। उसने आयोग के सामने भी शादी करने की इच्छा जताई, लेकिन बच्ची ने इनकार कर दिया। उसने कहा कि वह पढ़ना चाहती है। आयोग ने बच्ची की मेडिकल जांच कराने और आरोपी के खिलाफ झरिया थाने में एफआईआर दर्ज करने का फैसला किया। टीम के रांची लौटने के बाद एसएसपी को इस संबंध में आदेश भेजा जाएगा।

इस मामले के साथ-साथ ओपन कोर्ट के दूसरे दिन घरेलू हिंसा के 25 पुराने मामलों में से 18 और छह नए मामलों का निपटारा किया गया।

4 बेटियां होने पर की दूसरी शादी, पहली पत्नी ने भरण-पोषण के लिए मांगी राशि

धनबाद पुलिस में हवलदार की पहली पत्नी ने भी पति के खिलाफ शिकायत की। उन्होंने कहा कि चार बेटियां हुईं, तो पति ने बेटे की चाह में दूसरी शादी कर ली। शादी के 22 साल हो गए। हवलदार बेटियों की सुध नहीं लेता। शादी में कन्यादान तक नहीं किया। आयोग ने हवलदार को पहली पत्नी काे भरण-पोषण के लिए राशि देने का आदेश दिया और शनिवार को बोकारो में लगनेवाले ओपन कोर्ट में बुलाया।

प्रोफेसर पति ने बेटे की चाह में तीन बार करा दिया गर्भपात : 2004 में लव मैरिज करने वाली एक महिला ने भी आयोग के सामने शिकायत की। उन्होंने बताया कि उनका प्रोफेसर पति ने बेटे की चाह में पांच साल के दौरान तीन बार गर्भपात करा दिया। 13 साल की बेटी की परवरिश भी नहीं कर रहा है। यही नहीं, उन्होंने पति पर एक छात्रा से संबंध होने का भी आरोप लगाया। इसी वजह से वह उसे बिना वजह प्रताड़ित करता है। ससुरालवाले भी पति का ही साथ देते हैं।

वकील पति के साथ रहने को तैयार नहीं पत्नी, बच्चों से भी नहीं मिलने देती
हीरापुर की एक विवाहिता ने अपने अधिवक्ता पति पर प्रताड़ना का आरोप लगाया। कहा कि पति सार्वजनिक रूप से मारपीट करता है। वह उसके साथ नहीं रहना चाहती है। हालांकि ओपन कोर्ट में जब पति ने अपनी बात रखी, तो मामला पलट गया। उसने बताया कि उसकी पत्नी अपने माता-पिता की इकलौती संतान है और मायके में ही रहती है। बुलाने पर भी पति के घर नहीं आती। यही नहीं, बच्चों से भी नहीं मिलने देती है। आयोग ने विवाहिता को समझाने की कोशिश की, पर वह नहीं मानी। दोनों को अगली तारीख पर बुलाया गया।