Home | Bihar | Patna | children of laborers played at national level

नेशनल लेवल पर खेल चुके हैं यहां के 22 बच्चे, सभी के गार्जियन करते हैं मजदूरी

पवन कुमार कहते हैं मेरा एक ही सपना है कि बच्चों को इंटरनेशनल लेवल पर ले जा सकूं। भारत के गांव में बहुत पोटेंशियल है।

Bhaskar News| Last Modified - Dec 18, 2017, 05:10 AM IST

1 of
children of laborers played at national level
डेमो फोटो।

भागलपुर.     अगर इरादे पक्के हों और कुछ कर दिखाने का जज्बा हो तो हर चीज मुमकिन है। नाथनगर के मिडिल स्कूल मनोहरपुर के स्पोर्ट्स टीचर पवन कुमार ने अपने दृढ़ संकल्प से कुछ ऐसा ही कर दिखाया है। जिस स्कूल के पास कभी खेलने लायक मैदान तक नहीं था, आज उसी स्कूल के मैदान में खेल कर नेशनल लेवल के प्लेयर तैयार हो रहे हैं।


स्कूल के स्पोर्ट्स टीचर पवन कुमार ने गांववालों से मिट्टी दान मांग कर स्टूडेंट्स को फर्श से अर्श तक पहुंचाया है। पूरे गांव ने मिलकर 90 ट्रैक्टर मिट्टी दान की। इससे स्कूल के मैदान को ठीक किया गया और अब वहां से खोखो, योग और हैंडबॉल के 22 स्टूडेंट राष्ट्रीय स्तर का मैच खेल चुके हैं। जो बच्चे आज नेशनल लेवल के गेम्स खेल रहे हैं, उनके पिता मजदूरी करके किसी तरह पेट पालते हैं।

 

इंटरनेशनल लेवल पर खेलें बच्चे, यही है सपना

 

पवन कुमार कहते हैं मेरा एक ही सपना है कि बच्चों को इंटरनेशनल लेवल पर ले जा सकूं। भारत के गांव में बहुत पोटेंशियल है। जरूरत है उन्हें सही दिशा देने की। गांव के बच्चों में टैलेंट भरा हुआ है। शहर में ही आप कई बार देखते होंगे छोटी छोटी बच्ची बिना किसी सपोर्ट के रस्सी पर चलती है। उसका बैलेंस देखने योग्य होता है। अगर हम उन बच्चियों को ट्रेनिंग दें तो क्या के भारत की जिम्नास्ट नहीं बन सकती हैं। मैं अगले वर्ष रिटायर हाे जाऊंगा। मगर मेरी कोशिशें मरते दम तक जारी रहेगी।

 

बच्चियों को आगे बढ़ने देने की अपील की

 

59 वर्षीय पवन कुमार ने गांव में खेल के प्रति रुझान बढ़ाने के लिए स्टूडेंट्स को रोजाना एक घंटे प्रैक्टिस कराना शुरू किया। घर-घर जाकर अभिभावकों से अपील कि वे अपनी बेटियों को चूल्हे चौके में न झोंके, उन्हें आगे बढ़ने दें। वह कहते हैं मुझे बेटे-बेटियों दोनों को आगे बढ़ाना था। मैंने थोड़ा सा तराशा तो बच्चे नेशनल लेवल तक पहुंच गए। पांच वर्षों तक गांव के हर घर में दस्तक दी। कुछ लाेग आगे आए। जब उनके बच्चे डिस्ट्रिक्ट लेवल चैंपियंस बनने लगे तो दूसरे भी अपने बच्चों को अागे बढ़ने के लिए स्पोर्टस की ओर भेजने लगे।

 

children of laborers played at national level
जानकारी देते स्पोर्ट्स टीचर पवन कुमार।
prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now