--Advertisement--

नेपाल से नजदीकियां बढ़ा रहा चीन, भारतीय सीमा से सटे इलाके में बढ़ी गतिविधियां

भारतीय सीमा से सटे क्षेत्र में हो रहे इस निर्माण को लेकर बुद्धिजीवी वर्ग ने चीन के बढ़ते हस्तक्षेप से चिंतित हैं।

Dainik Bhaskar

Dec 30, 2017, 02:59 AM IST
China activities in border areas along Indian border

गलगलिया (किशनगंज). चीन इन दिनों पड़ोसी देश नेपाल से नजदीकियां बढ़ा रहा है। चीन के व्यवसायी के उच्च स्तरीय टीम गुरुवार को भारतीय सीमा गलगलिया से सटे नेपाल के झापा जिला स्थित दमक पहुंची। यहां टीम ने दो योजनाओं काे लेकर जगह का अवलोकन किया। दरअसल यह टीम सोमवार को ही काठमांडू पहुंच गई थी।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार चीन के ल्हासा स्थित आर्थिक तथा प्राविधिक विकास क्षेत्रीय कार्यकारी समिति के उपसचिव लिउ रुपेड के नेतृत्व में दस सदस्यीय टीम झापा जिला के दमक में 542 फीट ऊंची भगवान गौतम बुद्ध की मूर्ति के निर्माण एवं (क्लिन इन्डस्ट्रियल पार्क) औद्योगिक कोरिडोर बनवा रही है। इसके पीछे चीन की क्या मंशा है ये भारत के लिए चिंता का विषय है। प्रोजेक्ट के लिए अब तक 552 बीघा जमीन अधिग्रहण कर ली गई है। बाकी जमीन लेने की प्रक्रिया जारी है। इधर चीन से आए उपसचिव लिउ रुपेड ने नेपाल के दमक में निर्माण होने वाले दुनिया की सबसे ऊंची बुद्ध मूर्ति एवं औद्योगिक पार्क को चीन और नेपाल दोनों मुल्क के संबंधों का पुल बताया।


2015 से चल रही प्रक्रिया


उक्त निर्माण की प्रक्रिया 2015 से चल रही है। इस दौरान अभी तक चार बार चीन की टीम द्वारा क्षेत्र का जायजा लिया जा चुका है।

चीन के दस सदस्यीय शिष्टमंडल ने किया स्थल निरीक्षण

भारतीय सीमा से सटे क्षेत्र में हो रहे इस निर्माण को लेकर बुद्धिजीवी वर्ग ने चीन के बढ़ते हस्तक्षेप से चिंतित हैं। लोगों का मानना है कि भले ही भारत सरकार असम में पुल का निर्माण करके चीन सीमा के नजदीक जा रही है, लेकिन जिस तरह से चीन, हमारे मित्र राष्ट्र नेपाल के रास्ते भारत के सीमावर्ती क्षेत्र में अपनी पैठ बना रहा है, इसके पीछे उसकी क्या मंशा है इस पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है।

विश्वविद्यालय और अस्पताल का भी होगा निर्माण


दमक नगरपालिका से मिली जानकारी के अनुसार चीन की इस योजना से क्षेत्र का नामकरण कर दमक वीराटन बुद्ध विलेजर किया गया है। साथ ही बताया गया कि नेपाल क्षेत्रफल के अनुसार 22 सौ बीघा जमीन में 542 फीट की मूर्ति निर्माण के साथ साथ पार्क, बौद्ध विश्वविद्यालय, ध्यान केंद्र, शॉपिंग मॉल, अस्पताल एवं धर्मशालाओं आदि का निर्माण होगा।

प्रोजेक्ट में कौन-कौन से देश कर रहे निवेश


डीपीआर के अनुसार बुद्ध मूर्ति का आधार 25 हजार वर्गफीट में एवं बुद्ध विलेज 2 लाख 88 हजार वर्गफीट में फैलने की बात हुई। जानकारी मिली कि उक्त निर्माण में अरबों रुपये की खर्च आएगा। जिसमें चीन के निवेशकर्ताओं द्वारा 17 करोड़ अमेरिकी डॉलर निवेश किया जा रहा है। शेष राशि जापान, फिलीपींस तथा कोरिया के निवेशकर्ताओं द्वारा दी जा रही है। बताया गया कि स्थल अवलोकन से पूर्व चिनिया टीम ने दमक के नगरपालिका कार्यालय में एक बैठक भी की है।

जानकारी नहीं है
एसएसबी 19वीं बटालियन डिप्टी कमांडेंट विनय कुमार ओझा ने बताया कि भारतीय सीमा के पास नेपाल क्षेत्र में कुछ होता है तो हमें पता चलता है, लेकिन सीमा से दूर नेपाल में कुछ हो तो इसकी जानकारी हमें नहीं होती।

इधर इंडो-नेपाल सीमा पर की जवानों ने संयुक्त पेट्रोलिंग

भारत नेपाल सीमा पर तैनात एसएसबी की 12वीं बटालियन के डी कंपनी मोहामारी, धनतोला बीओपी के जवानों और नेपाल प्रहरी के जवानों ने सीमा पर संयुक्त रूप से पेट्रोलिंग की। शुक्रवार को सीमा पर संयुक्त पेट्रोलिंग की अगवाई कर रहें डी कंपनी के असिस्टेंट कमान्डेंट सुमन गोराई ने बताया कि इस प्रकार की संयुक्त पेट्रोलिंग दोनों देशोंं के सुरक्षाबलों के बीच एक रूटीन अभ्यास के तौर पर हमेशा हुआ करती है। इससे दोनों पड़ोसी देशो की सीमा से होने वाले तस्करी, आतंकवाद, नक्सली जैसे गंभीर समस्याओं में संलिप्त राष्ट्र विरोधी तत्वों के मंसूबों को कुचलने का काम करती हैं। साथ ही दोनों तरफ से गुप्त सूचनाओं का आदान प्रदान होता हैं। ताकि सीमा पर शांति कायम बना रहें। संयुक्त पेट्रोलिंग में दोनों तरफ के जवानों ने पिलर संख्या 128/16 से पिलर संख्या 130 के बीच स्थित डोरिया, पांचगाछी, गिरिटोला, बमटोली, खोसी टोला से सटे सीमा क्षेत्रों के पास पेट्रोलिंग की है।

China activities in border areas along Indian border
X
China activities in border areas along Indian border
China activities in border areas along Indian border

Recommended

Click to listen..