पटना

--Advertisement--

पुलिस ने पशु लदा गाड़ी छोड़ा तो बेकाबू हुई भीड़, रोड़ेबाजी में कई पुलिसकर्मी घायल

भीड़ पुलिस पर वाहन छोड़ने और ड्राइवर-कंडक्टर को भगाने का आरोप लगाकर रामपुर एसएचओ को हटाने की मांग पर अड़े थे।

Danik Bhaskar

Dec 12, 2017, 08:19 AM IST
पुलिस द्वारा पशु लदे वाहन को छोड़ने के बाद हंगामे की खबर के बाद मौके पर पुलिस जवानों ने संभाला मोर्चा, वार्ता में नहीं बनी बात, जमकर रोड़बाजी व आगजनी। पुलिस द्वारा पशु लदे वाहन को छोड़ने के बाद हंगामे की खबर के बाद मौके पर पुलिस जवानों ने संभाला मोर्चा, वार्ता में नहीं बनी बात, जमकर रोड़बाजी व आगजनी।

गया. पशु लदे वाहन को छोड़ने का आरोप लगा आक्रोशित हुई भीड़ ने रामपुर थाना अंतर्गत शाहमीर तक्या मोड़ के समीप सड़क को जाम कर दिया। लोग आगजनी कर सड़क जाम करते हुए पुलिस के खिलाफ नारेबाजी कर रहे थे। इनका कहना था कि एक वाहन पर पशु ले जाया जा रहा था। शाहमीर तक्या के पास लोगों ने उक्त वाहन को पकड़ लिया। इसके बाद सूचना रामपुर थाना की पुलिस को दी। रामपुर पुलिस ने मामले को हल्के में लिया। कुछ पशुओं को उतारकर पुलिस लाईन को भेज दिया, तो कुछ पशुओं समेत वाहन और उसके चालक-खलासी को भागने का पूरा मौका दिया।


डीएसपी के बयान के बाद बेकाबू हो गई भीड़


विश्व हिन्दू परिषद व बजरंग दल के सदस्यों के हंगामे की खबर के बाद सिटी एसपी जगन्नाथ जलारेडी, सिटी डीएसपी आलोक कुमार सिंह मौके पर पहुंचे। सिटी एसपी ने सड़क जाम कर रखे लोगों से वार्ता शुरू कर दी। भीड़ पुलिस पर वाहन छोड़ने और चालक-खलासी को भगाने का आरोप लगाकर रामपुर एसएचओ को हटाने की मांग पर अड़े थे। एक प्रत्यक्षदर्शी के मुताबिक इसी बीच सिटी डीएसपी ने उक्त वाहन में पशु के नहीं रहने की बात कह दी। इसके बाद जाम कर रहे लोगों की भीड़ अचानक बेकाबू हो गई। सदस्यों का आरोप था की पुलिस झूठ बोल कर कार्रवाई नहीं करना चाहती।

पुलिस ने निर्दोष राहगीरों पर निकाला भड़ास, लाठियों से पीटकर किया घायल

घटना तीन थानों की सीमा पर घटी। रामपुर, सिविल लाईन और विष्णुपद थाना की सीमा से सटे इलाके घंटों रणक्षेत्र में तब्दील रहे। पुलिस और एक समुदाय की भीड़ के बीच रोड़ेबाजी और लाठीचार्ज का दौर काफी देर तक चलता रहा। सोमवार की संध्या से शुरू हुई इस घटना का प्रभाव शाहमीर तक्या के अलावे गोदावरी, दक्षिण दरवाजा, नारायणचुआं, चांदचौरा, दुर्गा स्थान, कालीबाड़ी तक देखा गया। इस बीच इन इलाकों की अधिकांश दुकानें बंद हो चुकी थी।

भीड़ ने जमकर चलाए रोड़े, पुलिस ने चटकाईं लाठियां

सैकड़ों की संख्या में रही भीड़ ने जमकर रोड़े चलाए। प्रतिरोध में पुलिस ने भी लाठियां भांजनी शुरू कर दी। भीड़ की ओर से जमकर किए जा रहे रोड़ेबाजी में सिटी डीएसपी आलोक कुमार सिंह समेत दर्जन भर पुलिसकर्मी चोटिल हो गए। वहीं पुलिस के लाठीचार्ज से भी दर्जन भर प्रदर्शनकारी घायल हुए हैं। कवरेज को गए कई मीडियाकर्मियों को भी चोटें आई। कई वाहनों भी क्षतिग्रस्त हो गए।

एसएसपी ने किया फ्लैग मार्च, बीएमपी, बिहार रैफ की तैनाती

इधर स्थिति की गंभीरता को देखते हुए एसएसपी गरिमा मल्लिक ने खुद कमान संभाली। एसएसपी ने सिटी एसपी, विधि व्यवस्था डीएसपी सतीश कुमार, सदर एसडीओ विकास कुमार जायसवाल के साथ फ्लैग मार्च किया। उपद्रव कर रहे तत्वों को खदेड़ा गया, तब जाकर स्थिति सामान्य हुई। मौके पर बीएमपी, बिहार रैफ, जिला पुलिस की तैनाती कर दी गई है। अफवाह से हालात बिगड़े। प्रदर्शनकारियों ने रोड़ेबाजी की है। सिटी डीएसपी समेत कई पुलिसकर्मियों को चोटें आई हैं। फिलहाल स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है। मामले की तह में जाकर छानबीन की जाएगी। छानबीन के बाद कार्रवाई की जाएगी। गरिमा मल्लिक, एसएसपी

हंगामा कर रहे युवअों पर पुलिस ने भाजीं लाठियां। हंगामा कर रहे युवअों पर पुलिस ने भाजीं लाठियां।
आक्रोशितों ने जगह-जगह की आगजनी। आक्रोशितों ने जगह-जगह की आगजनी।
पथराव के दौरान टूटी हुई बाइक। पथराव के दौरान टूटी हुई बाइक।
राहगीरों को भी पुलिस ने नहीं बख्शा, जमकर की धुनाई। राहगीरों को भी पुलिस ने नहीं बख्शा, जमकर की धुनाई।
Click to listen..