--Advertisement--

भ्रम न पालें, ये पशुओं का चारा घर नहीं, ये बिहार में एक प्राइमरी स्कूल है...

ऊपर दिख रही फोटो किसी चारा घर की नहीं बल्कि बिहार के मुंगेर में एक प्राइमरी स्कूल की है।

Dainik Bhaskar

Feb 06, 2018, 05:41 AM IST
मुंगेर के तारापुर गांव में सरकारी स्कूल की हालत ये फोटो बयां कर रही है। मुंगेर के तारापुर गांव में सरकारी स्कूल की हालत ये फोटो बयां कर रही है।

पटना. बिहार के कई जिलों की कुछ अलग तस्वीरें अक्सर मीडिया के जरिए हमारे समाने आ जाती हैं। देखकर लगात है कि क्या वाकई में बिहार इतना पिछड़ा है। फिर एक सवाल की आखिर इनकी जिंदगी कैसी होगी, इनका फ्यूचर कैसा होगा? खैर, ऊपर दिख रही फोटो किसी चारा घर की नहीं बल्कि बिहार के मुंगेर में एक प्राइमरी स्कूल की है।

दरअसल, ये फोटो मुंगेर की है। यहां के एक ब्लॉक में साक्षरता कार्यालय से सटे सरकारी स्कूल का भवन इन दिनों अतिक्रमणकारियों के कब्जे में है। स्कूल रूम की छत पर अतिक्रमणकारियों ने पुआल का ढेर लगा दिया है। इसे लेकर गांव के लोग तो बोलते हैं लेकिन जिम्मेदार फिलहाल चुप हैं। यहां के एक सीनियर वकील ने बताया कि अधिकारियों की नाक के नीचे सरकारी भवन का अतिक्रमण किया गया है। लेकिन इसको हटाने में कोई रूचि नहीं दिखा रहे हैं।

ब्लॉक के लोगों की मानें तो बच्चे इसी स्कूल में पढ़ते हैं। उन्होंने बताया कि बरसात के दिनों में उन्हें अपने बच्चों की चिंता सताने लगती है। उनका कहना है कि ऐसी जगहों पर बरसात के दिनों में सांप-बिच्छू रहते हैं। उन्हें डर रहता है कि कही उनके बच्चे शिकार न हो जाएं।

X
मुंगेर के तारापुर गांव में सरकारी स्कूल की हालत ये फोटो बयां कर रही है।मुंगेर के तारापुर गांव में सरकारी स्कूल की हालत ये फोटो बयां कर रही है।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..