पटना

--Advertisement--

दो सगे भाइयों समेत तीन दोषियों को उम्रकैद, छह साल पहले की थी तीन की हत्या

सांसद आवास पर 20 जुलाई 2011 को हथियार से लैस बदमाशों ने अचानक हमला बोल कर तीन लोगों को भून दिया गया।

Danik Bhaskar

Dec 23, 2017, 03:52 AM IST

छपरा. सिटी के राजेन्द्र सरोवर के तत्कालीन सांसद उमाशंकर सिंह के आवास पर हुए ट्रिपल मर्डर केस में कोर्ट ने तीनों आरोपियों को उम्रकैद की सजा सुना दी। तीनों आरोपियों पर 50-50 हजार रुपये का जुर्माना लगाया गया है।एडीजे नौ के कोर्ट ने आरोपी निकेश राय व उसके सगे भाई अविनाश राय समेत शंभु राय को उम्रकैद की फैसला सुनाई। तीनों को सजा सुनाने के बाद छपरा मंडल कारा भेज दिया गया। बता दें कि यह फैसला कांड के छह साल बाद आयी है। यहां बता दें कि कोर्ट ने 18 दिसंबर को आरोपियों को दोषी करार दिया गया था।


102 तारीखें, 11 गवाही, छह साल में आया फैसला
सांसद आवास पर हुए तीन लोगों को गोलियों से छलनी करने के मामले में कोर्ट में 102 तारीख पर सुनवाई की गई है। इसमें 11 गवाह पेश किये गये।जिसमें दो पुलिस इंस्पेक्टर, तीन डाक्टर और छह गैर सरकारी गवाह शामिल है। इस कांड के छह साल बीत गये। अभियोजन की ओर से अपरलोक अभियोजक प्रियरंजन सिन्हा ने बताया इस मामले में 102 तारीखों पर सुनवाई हुई है। इस कांड में आरोपी महेश राय पर कोर्ट में अलग से सेशन ट्रायल चल रहा है। पुलिस द्वारा चार्जशीट दाखिल किया जा चुका है। उस पर और भी कई कांड दर्ज है। जिस पर सुनवाई चल रही है।

चार आरोपी थे

ट्रिपल मर्डर में चार आरोपी बनाए गये थे।जिसमें तीन को सजा सुनाई गई और एक महेश राय पर सेशन ट्रायल चल रहा है।

गड़खा के मीनापुर में दिनदहाड़े गैंगवार पिता, दादी व बहन को मारी थी गोली

इसी कड़ी में ही गड़खा के मीनापुर में दिनदहाड़े गैंगवार में धमेंद्र राय के पिता, दादी व बहन को गोली से छलनी कर दिया गया था।इसमें अभी अनुसंधान चल रहा है। देवेन्द्र सिंह मुखिया के परिजनों ने कुछ भी बोलने से इंकार किया,अनसेफ महसूस कर रहे।

तिहरे हत्याकांड के बाद कई कांड को दिया गया अंजाम

तिहारा हत्याकांड के बाद ही कोर्ट में दो बार बम ब्लास्ट की घटना हुई थी। तिहरे हत्याकांड में शशिभूषण सिंह को जब कोर्ट में प्रस्तुत किया गया तो 19 सितंबर 2014 को उनकी गाड़ी पर कोर्ट परिसर में ही बम से हमला बोल दिया गया।जिसमें वे बाल-बाल बच गये। वहीं 18 अप्रैल 2016 को बम ब्लास्ट हुआ था। जिसमें इस कांड से जुड़ी सूचक के बहन खुश्बू ने दूसरी बार बम ब्लास्ट किया था। जिसमें अरुण साह को निशाना किया गया था। इस कांड में खुश्बू जेल में बंद है।

परिजन ने कहा- हम अनसेफ है, हमारी सुरक्षा कौन देगा
तिहरे हत्याकांड में फैसला आने के बाद भले ही मृतकों के परिजनों को सुकून मिला हो लेकिन किसी ने इजहार तक नहीं किया। पानापुर के सतजोड़ा पंचायत के मुखिया देवेन्द्र सिंह की हत्या में उम्रकैद की सजा सुनाए जाने के बाद भी परिजन कुछ बोलने से इनकार किये। उनका मानना था कि हम अनसेफ है हमारी सुरक्षा कौन देगा। मृतक मणिभूषण सिंह के भाई शशिभूषण सिंह के परिवार वाले भी कुछ बोलने से कतराए।

तारीख दर तारीख

- कांड-20 जुलाई 2011
- कांड संख्या- 154/11नगर थाना
- चार्जशीट-23 अक्टूबर 2011
- गवाही-2012
- गवाहों की संख्या-11
- तारीख पर सुनवाई-102
- आरोपियों की संख्या-4
- दोषी करार-18 दिसंबर
- फैसला-22 दिसंबर

फ्लैशबैक : हथियार से लैस बदमाशों ने अचानक बोला था हमला

सांसद आवास पर 20 जुलाई 2011 को हथियार से लैस बदमाशों ने अचानक हमला बोल कर तीन लोगों को भून दिया गया। जिसमें झौंवा के मणिभूषण सिंह,पानापुर सतजोड़ा के मुखिया देवेन्द्र सिंह तथा मणिभूषण सिंह के चालक दिनेश यादव को गोलियों से छलनी कर दिया गया था। तीनों की मौके पर ही मौत हो गई थी। इस मामले में मृतक मणिभूषण सिंह के भाई शशिभूषण सिंह ने नगर थाने में निकेश राय,अविनाश राय,शंभू राय,देवेन्द्र सिंह को आरोपी बनाया था। इसी मामले में महेश राय पर कोर्ट से चार्जशीट दाखिल हुआ है।

Click to listen..