--Advertisement--

इस बिहारी को अमेरिका में मिला सम्मान, पेशे से साइंटिस्ट, न्यूजीलैंड में करते हैं काम

मनोजानंद आईसीआरए करनाल में डेयरी विज्ञान की पढ़ाई कर इन दिनों न्यूजीलैंड में नौकरी कर रहे हैं।

Danik Bhaskar | Jan 22, 2018, 06:25 AM IST

पटना. बॉलीवुड में मधुबनी के रहने वाले मनोजानंद चौधरी आज जाना-पहचाना नाम बन चुके हैं। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लाइफ पर बन रही फिल्म के लिए न केवल गीत लिखा, बल्कि उसके चार लीड गाने गाए भी हैं। मैथिली भाषा में विवाद पर लिखे उनके गीत को अमेरिका में आयोजित इंटरनेशनल सॉन्ग राइटिंग कॉम्पिटीशन में नॉन अंग्रेजी कैटेगरी में दूसरा स्थान मिल चुका है।


न्यूजीलैंड में कर रहे हैं जॉब

मनोजानंद आईसीआरए करनाल में डेयरी विज्ञान की पढ़ाई कर इन दिनों न्यूजीलैंड में नौकरी कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि सुरीली आवाज के कारण स्कूल के दिनों में मैथिली भाषा के प्रसिद्ध कवि चंद्र नाथ मिश्र अमर अपनी कविता का पाठ करवाने कवि सम्मेलन ले जाए करते थे। कॉलेज में आने के बाद कविता पाठ करने का सिलसिला टूट गया, लेकिन जब भी मौका मिलता गीत गाते रहे। उनकी आवाज और गीतों को पसंद लोग पसंद भी करते थे।


ऑस्ट्रेलिया में एक फ्रेंड ने उन्हें इंटरनेशनल सॉन्ग राइटिंग कॉम्पिटीशन में अपने गीत भेजने के लिए कहा। मैथिली भाषा में विवाह संस्कार पर लिखे गीत रुपम-गुंजन भेज दिया। बाद में ज्यूरी ने जानकारी दी कि उनके सॉन्ग का सिलेक्शन हो गया है। हिंदी में लिखे एक अन्य गीत को लंदन में आयोजित एक प्रतियोगिता तथा अंग्रेजी में लिखी यू किस मी और नॉट को भी सम्मान मिल चुका है।

नरेंद्र मोदी पर गीत लिख बॉलीवुड में रखा कदम


मनोजानंद के मुताबिक मित्रों के माध्यम से जानकारी मिली कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जीवनी पर फिल्म बन रही है। मित्रों के अनुरोध पर पांच-छह गीत लिखकर भेज दिया। सभी गीतों का चयन हो गया। साथ ही इस फिल्म में अपने लिखी गीत को गाने का मौका भी मिला। मनोजानंद ने कहा कि एक और फिल्म ‘सरकारी नौकरी’ में गाना लिखने और गाने का आॅफर मिला है। उसके थीम पर अभी काम कर रहा हूं।

फिल्म मोदी के गांव में लिखे हैं सात गीत


मनोजानंद ने मोदी के गांव में फिल्म में सात गाने लिखे हैं। यह फिल्म भी बिहारी फिल्मकार ने बनाई है। इस फिल्म में पीएम नरेंद्र मोदी की तरह दिखने वाले बिजनेसमैन विकास महंते मुख्य भूमिका निभा रहे हैं। यह फिल्म 2 घंटे 15 मिनट लंबी है। इसे बिहारी फिल्मकार ने बनाया है।