--Advertisement--

हाजीपुर का नाम हरिपुर किए जाने की मांग को लेकर शहर में निकाली शुद्धिकरण यात्रा

कोनहारा घाट से निकाली गई शुद्धिकरण यात्रा में हजारों की संख्या में लोग शामिल हुए।

Danik Bhaskar | Dec 26, 2017, 04:30 AM IST

हाजीपुर. हाजीपुर का नाम हरिपुर किए जाने की मांग को लेकर हिंदू पुत्र संगठन ने सोमवार को शुद्धिकरण यात्रा निकाली। कोनहारा घाट से निकाली गई शुद्धिकरण यात्रा में हजारों की संख्या में लोग शामिल हुए। करीब पांच हजार बाइक सवार सदस्यों ने शहर व ग्रामीण इलाके का भ्रमण किया। लोगों से अपील की कि हाजीपुर की जगह हरिपुर शब्द को व्यवहार में अपनाएं।


नामकरण शुद्धि के पक्ष में वक्ताओं का यह है तर्क


कुहासा व कनकनी के बाद भी यात्रा के लिए लोगों का जमावड़ा हरिहर क्षेत्र के कोनहारा घाट पर नेपाली छावनी में होने लगा। संगठन के राष्ट्रीय संयोजक शिवकुमार सिंह और राष्ट्रीय संरक्षक राजीव ब्रह्मर्षि के संयुक्त नेतृत्व में संकल्प सभा का आयोजन हुआ। उन्होंने कहा कि नारायणी तट पर बसा यह शहर हरिपुर के नाम से जाना जाता था। इसी कोनहारा घाट पर गजराज को बचाने के लिए भगवान हरि ने इस भूमि पर अपना पग रखा था। मिथिला के राजा हरि सिंह की यह बलिदान भूमि है। यहीं मुगल हमलावरों ने उन्हें मार डाला था। मुगल सूबेदार हाजी इलियास शमसुद्दीन ने शहर का नाम अपने नाम पर हाजीपुर कर दिया था।

अनुशासित रही रैली नहीं लगने दिया जाम

भगवान हरि व हर की भूमि कोनहारा घाट से शुद्धिकरण यात्रा शुरू हुई। युवा अनियंत्रित व बेलगाम न हों इसके लिए संगठन के पदाधिकारी स्तर के लोग हर सौ, दो सौ के क्यू के बीच में बाइक पर मुस्तैद थे। शहर में जाम की स्थिति को देखते हुए सभी बाइक सवार अपने लेन में कतारबद्ध होकर चल रहे थे। भीड़ के अनुशासित रहने के वजह से जाम की स्थिति उत्पन्न नहीं हुई।

शुद्धिकरण यात्रा में शामिल थे 5000 बाइकर्स

शुद्धिकरण कार्यक्रम में युवाओं की उपस्थिति तकरीबन 15 से 20 हजार थी। बाइक रैली में 5000 मोटरसाइकिलों पर दो-दो युवा सवार थे। नेतृत्वकर्ता कार से थे।

अर्द्ध सैनिक बलों की भी रही तैनाती

क्रिसमस डे पर इसाई समाज द्वारा निकाली जाने वाली शोभायात्रा व विधि-व्यवस्था को देखते हुए जिला प्रशासन पूरी तरह सजग नजर आया। डीएम रचना पाटिल, एसपी राकेश कुमार के नेतृत्व में सुरक्षा व विधि-व्यवस्था बनाए रखने के मद्देनजर चाक-चौबंद व्यवस्था की थी। पुलिस अफसरों की तैनाती थी।