--Advertisement--

31 को दिखेगा पूर्ण चंद्रग्रहण, मेष,वृष और धनु राशि के लिए लिए होगा लाभदायक

31 जनवरी को चंद्रग्रहण देखने का मौका मिलेगा। यह एक दुर्लभ घटना होगी। इस दिन चांद तीन रंगों में दिखाई देगा।

Danik Bhaskar | Jan 29, 2018, 05:57 AM IST

गोपालगंज. माघ माह की पूर्णिमा यानी जनवरी की 31 तारीख को दुर्लभ पूर्ण चंद्रग्रहण होगा। यह 2018 का पहला ग्रहण होगा। पूर्ण चंद्रग्रहण 77 मिनट तक रहेगा। ज्योतिषियों की मानें तो सूतक सुबह 7 बजे से शाम 8 बजकर 43 मिनट तक रहेंगे। सूतक के समय और चंद्रग्रहण के समय कुछ काम करने से बचना चाहिए। ह चंद्रग्रहण खग्रास अर्थात पूर्ण चंद्रग्रहण होगा।

भारतीय मानक समय के अनुसार इसका स्पर्श 05:18 शाम को मध्य 07:00बजे मोक्ष 08:42 बजे रात में होगा। इस चंद्रग्रहण में 176 वर्षों के बाद पुष्य नक्षत्र का विशेष संजोग बन रहा है । इस ग्रहण का स्पर्श तो पुष्य नक्षत्र में होगा जो श्लेषा नक्षत्र में समाप्त होगा। इस प्रकार पुष्य एवं श्लेषा दोनों नक्षत्रों के जातकों को और कर्क राशि वालों को प्रभावित करेगा। यह चंद्र ग्रहण कालसर्प योग की छाया में है साथ ही फरवरी माह में चतुर्ग्रही योग बन रहा है । ज्योतिषाचार्य पं रंजन उपाध्याय के अनुसार चार ग्रहों के मिलने की स्थिति को चतुर्ग्रही योग कहते हैं ।

राशि के हिसाब से चंद्र ग्रहण का असर

मेष : नौकरी, व्यवसाय में सफलता, मान सम्मान बढ़ेगा
वृष : अचानक धन लाभ, मित्रों का सहयोग
मिथुन: धन व्यय, मानसिक तनाव
कर्क : घात, कष्ट ,वाहन से सावधानी
सिंह: धन व्यय ,परिवार में सामंजस्य की कमी
कन्या : छोटी यात्रा ,भौतिक सुख बहुत कम
तुला : शारीरिक विकार ,अज्ञात भय
वृश्चिक : विवाद से बचें ,पढ़ाई में परेशानी
धनु : धन लाभ, शत्रु सक्रिय
मकर : साझेदारी में परेशानी , विरोधी से चुनौती
कुंभ : बिना वजह यात्रा
मीन : कार्य में देरी, परिश्रम से सफलता

क्या होता है सुपरमून


चांद और धरती के बीच की दूरी सबसे कम हो जाती है और इस समय चंद्रमा की चांदनी बहुत ही तेज होती है । यह पिछले साल 3 दिसंबर को भी दिखाई दिया था लेकिन इस बार नीला चांद पिछले बार की तुलना में 14 फीसदी ज्यादा बड़ा और 30 फीसदी तक ज्यादा चमकीला दिखेगा । इस महीने पूर्ण चंद्रमा दिखने की घटना हो रही है । इस कारण इसे ब्लू मून भी कहा जा रहा है ।

चांद तीन रंगों में दिखाई देगा

31 जनवरी को चंद्रग्रहण देखने का मौका मिलेगा। यह एक दुर्लभ घटना होगी। इस दिन चांद तीन रंगों में दिखाई देगा। ऐसी घटना 36 वर्ष बाद देखने को मिलेगी, जिसमें सुपर मून, ब्लू मून और ब्लड मूल तीन रूपों के दीदार हो सकेंगे। ऐसी दुर्लभ घटना 30 दिसंबर 1982 को हुई थी। 31 जनवरी के बाद भारत में 27 जुलाई को चंद्र ग्रहण देखा जा सकेगा। लेकिन वह ब्लू मून या सुपर मून की तरह नहीं होगा।

ग्रहण के समय क्या करें, क्या ना करें


ग्रहण काल के दौरान कोई नया कार्य न करें । सूतक के दौरान भोजन बनाना और खाना वर्जित होता है । देवी देवताओं की मूर्ति और तुलसी के पौधे का स्पर्श नहीं करना चाहिए । दांतों की सफाई बालों में कंघी करना भी वर्जित माना गया है ।

यह जरूर करें


ध्यान ,भजन, ईश्वर की आराधना करें। सूर्य व चंद्र से संबंधित मंत्रों का उच्चारण करें । ग्रहण समाप्ति के बाद घर के शुद्धिकरण के लिए गंगाजल का छिड़काव करें । ग्रहण समाप्त होने के बाद स्नान के बाद भगवान की मूर्तियों का स्नान कराएं तथा पूजा करें । सूतक काल समाप्त होने के बाद ही भोजन करें ।