पटना

--Advertisement--

भूमि विवाद में घर में घुसकर अपराधियों ने वृद्ध किसान की गोली मारकर की हत्या

जमीनी विवाद में पोखरामा गांव में यह पांचवीं हत्या हुई है। इसके पहले दूसरे पक्ष के चार लोगों की हत्या की जा चुकी है।

Dainik Bhaskar

Apr 01, 2018, 05:32 AM IST
पोखरामा गांव में घटना के बाद घर के आगे बैठे शोक संतप्त परिवार के सदस्य। पोखरामा गांव में घटना के बाद घर के आगे बैठे शोक संतप्त परिवार के सदस्य।

लखीसराय/कजरा. कजरा थाना क्षेत्र के पोखरामा गांव निवासी 82 वर्षीय पुत्र रामाकांत सिंह की हत्या घर में घुसकर अपराधियों ने शुक्रवार की देर रात सोए अवस्था में गोली मारकर कर दी। सूचना पर कजरा थानाध्यक्ष आशुतोष कुमार, एसडीपीओ पंकज कुमार एवं सर्किल इंस्पेक्टर नीरज कुमार पहुंचे और शव को पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया।


घटना के बाद से गांव में तनाव का माहौल है। मृतक रामाकांत सिंह को दो गोली, एक बाएं गाल पर एवं दूसरी गोली जबड़े के नीचे गर्दन पर मारी गई। पुलिस ने घटना स्थल से दो खोखे भी बरामद किए हैं। अभी एफआईआर दर्ज नहीं कराया गया है। जमीनी विवाद में पोखरामा गांव में यह पांचवीं हत्या हुई है। इसके पहले दूसरे पक्ष के चार लोगों की हत्या की जा चुकी है।


सुबह पोते ने बताया तब हत्या का पता चला

बहू ने बताया कि वह बगल के कमरे में अपने दो पुत्रों के साथ सोई हुई थी। सुबह लगभग चार बजे फटाक-फटाक की दो आवाज होने पर लगा कि बाहर गली कुछ हुआ है। मुख्य दरवाजे में कुंडी लगी थी और मृतक के कमरे का दरवाजा खुला था। सुबह लगभग सात बजे प्रतिदिन की तरह मेरे पुत्र ने गुड मॉर्निंग दादाजी और दादाजी की आवाज लगाई, लेकिन कोई उत्तर नहीं मिला। जब वह नजदीक गया तो खून देखकर दौड़ता हुआ आया और बोला कि मम्मी कमरे में खून गिरा हुआ है। जाकर देखा तब मामले का पता चला। परिजन बार बार यह कहकर रो रहे थे कि जब घर में हमलोग सुरक्षित नहीं हैं तब कहां सुरक्षित रहेगें? जानकारी के बाद ग्रामीणों की भीड़ जमा होने लगी।

हत्या के पीछे की मंशा पर दिन भर चर्चा


शनिवार की अहले सुबह पोखरामा गांव में रामाकांत सिंह की गोली मारकर हत्या करने के पीछे अपराधियों की क्या मंशा थी। अाखिर 82 वर्ष के इस वृद्ध से अपराधियों की क्या दुश्मनी रही होगी। लोगों के बीच इस तरह की चर्चाओं का दौर चलता रहा। चर्चाअों पर गौर करें तो पोखरामा गांव में हुए तिहरे हत्याकांड में अभियुक्तों के विरुद्ध स्पीडी ट्रायल चल रहा है। इस मामले में कई गवाही हो चुकी है। गवाही को प्रभावित करने के लिए रामाकांत सिंह की हत्या की गई होगी।

अपराधी दीवार फांदकर घर में घुसे

मृतक रामाकांत सिंह घर के किस कमरा में सोते हैं इसकी जानकारी अपराधियों को पहले से थी। लोगों में शक है कि अपराधियों ने दक्षिण की ओर की टूटी दीवार फांदकर पहले छत पर चढ़े और बांस की सीढ़ी के सहारे नीचे उतरकर घटना को अंजाम देकर पुनः उसी रास्ते से चलते बने।

पवन सिंह हत्याकांड में नामजद अभियुक्त है मृतक का पुत्र
टाउन थाना क्षेत्र के चितरंजन रोड में 09 जनवरी 2018 को तिहरे हत्याकांड के सूचक रहे पवन सिंह की हत्या के मामले में मृतक का पुत्र सुमन कुमार सिंह को नामजद अभियुक्त बनाया गया है। अभियुक्त बनाए जाने के बाद से सुमन कुमार सिंह फरार चल रहा है। पवन सिंह की हत्या दिनदहाड़े हुई थी।

कारणों की पड़ताल कर रही है पुलिस
लखीसराय के एसडीपीओ पंकज कुमार ने बताया कि वृद्ध किसान की हत्या सोए अवस्था में अपराधियों ने की है। पुलिस मामले की जांच-पड़ताल कर रही है। घटनास्थल पर जाकर पुलिस ने पूरे मामले की जानकारी ली है। परिजन के द्वारा लिखित आवेदन देने के बाद प्राथमिकी दर्ज कर दोषियों के विरुद्ध कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

जमीन विवाद में इन लोगों की हो चुकी है हत्या

04 अगस्त 2017- रिपु कुमार, रामशेखर सिंह एवं झालो सिंह

09 जनवरी 2018- हत्याकांड के सूचक पवन सिंह की हत्या

31 मार्च 2018- रामाकांत सिंह की हत्या

पोखरामा गांव में आठ माह में पांच लोगों की हत्याएं हो चुकी है। लगातार हो रही हत्याआें से ग्रामीणों में दहशत का माहौल है। हर कोई सहमे हुआ है। जमीन विवाद के कारण अपराधियों ने दिनदहाड़े घटनाओं को अंजाम दिया है।

परिवार के सदस्यों से जानकारी लेती पुलिस। परिवार के सदस्यों से जानकारी लेती पुलिस।
घटना स्थल पर गिरा खोखा। घटना स्थल पर गिरा खोखा।
X
पोखरामा गांव में घटना के बाद घर के आगे बैठे शोक संतप्त परिवार के सदस्य।पोखरामा गांव में घटना के बाद घर के आगे बैठे शोक संतप्त परिवार के सदस्य।
परिवार के सदस्यों से जानकारी लेती पुलिस।परिवार के सदस्यों से जानकारी लेती पुलिस।
घटना स्थल पर गिरा खोखा।घटना स्थल पर गिरा खोखा।
Click to listen..