--Advertisement--

साल के आखिरी दिन इस गांव के लोगों के चेहरे पर 'पहली खुशी', कहा- छंटा अंधेरा

70 साल के महावीर राय ने कहा कि पैदा लेने के बाद पूरा जीवन अंधेरे में व्यतीत किया।

Danik Bhaskar | Jan 01, 2018, 05:47 AM IST

पटना. मुख्यालय से करीब 25 किमी की दूरी पर स्थित अखिलपुर पंचायत के कई गांवों में आजादी के बाद पहली बार बिजली पहुंची। गांव की कई पीढ़ियों ने पूरी जिंदगी अंधेरे में और लालटेन की रौशनी में काट दी, लेकिन अब लोगों की झोपड़ी में बल्ब जलने लगे हैं। गांववालों के चेहरे पर इसकी खुशी देखते ही बनती है। गांव के लोगों ने कहा कि अब अंधेरा छंट गया।

गांव में बिजली पहुंचने से गांव के युवाओं को यह विश्वास है कि उन्हें काम की तलाश में बाहर नहीं जाना पड़ेगा। वहीं लोगों को यह भी संतोष है कि अब उनके बच्चों को लालटेन की रौशनी में पढ़ना नहीं पड़ेगा। चार साल से मोबाइल एक्सेसरीज की दुकान चलानेवाले पप्पू कुमार को उम्मीद है कि बिजली आने से उनकी दुकान अच्छी चलेगी और अब वे गांव में ही रहकर पूरे परिवार का भरण पोषण कर सकेंगे। वहीं 70 साल के महावीर राय ने कहा कि पैदा लेने के बाद पूरा जीवन अंधेरे में व्यतीत किया। लेकिन बिजली आ जाने से बच्चों की पढ़ाई की चिंता दूर हो गई। अब बच्चे स्कूल में ही पढ़ने के बाद घर पर आकर भी पढ़ाई कर पाते हैं।