--Advertisement--

सीआरपीएफ और नक्सलियों के बीच मुठभेड़, कोबरा का एक जवान शहीद

जेल में बंद हार्डकोर नक्सली के खेत से पुलिस ने छापेमारी कर एक देसी राइफल व पिस्टल बरामद किया है।

Danik Bhaskar | Jan 03, 2018, 07:56 AM IST

औरंगाबाद. मदनपुर थाना के पचरूखिया जंगल में मंगलवार को नक्सलियों व सीआरपीएफ-कोबरा जवानों के साथ जोरदार मुठभेड़ हुआ। इस कार्रवाई के दौरान कोबरा का एक जवान गोली लगने से शहीद हो गया। शहीद जवान आशीष पात्रा ओडिशा का रहने वाला था। जवान कोबरा 205 बटालियन का जवान था। जवानों को पचरूखिया जंगल में नक्सलियों की जमावड़े की गुप्त सूचना मिली थी। जिसके बाद सीआरपीएफ 153 वीं व कोबरा 205 बटालियन के जवानों ने वहां सर्च ऑपेरेशन चलाया।

इसी बीच नक्सलियों की नजर जवानों पर पड़ गई। इस बीच नक्सलियों ने जवानों पर अंधाधुंध गोलीबारी शुरू कर दी। जिसके बाद जवानों ने भी मोर्चा संभाला और जवाबी कार्रवाई शुरू की। इसी गोलीबारी के बीच कोबरा के एक जवान को गोली लग गई। जिसमें बुरी तरह वह जख्मी हो गया। जिले के एसपी डॉक्टर सत्यप्रकाश ने बताया कि इलाज के लिए उसे हेलीकॉप्टर से रांची ले जाया जाया गया था । जहां उसकी मौत हो गई।

नक्सलियों के खिलाफ जारी रहेगा ऑपरेशन
एसपी डॉ. सत्य प्रकाश ने मुठभेड़ की पुष्टि करते हुए कहा कि नक्सलियों के खिलाफ ऑपरेशन जारी है। उन्हें किसी भी सूरत में अपने नापाक मंसूबे में कामयाब नहीं होने दिया जाएगा।

कोबरा के हथियारों के सामने बौना पड़े नक्सली
मुठभेड़ के दौरान कोबरा 205 के जवानों ने एमजीवीएल गन जैसे अत्याधुनिक व घातक हथियारों से नक्सलियों पर गोला दागा। जिससे नक्सलियों के हौसले पस्त हो गए। इसके साथ-साथ सीआरपीएफ व कोबरा ने अपने कई अत्याधुनिक हथियारों से नक्सलियों को ताबड़तोड़ फायरिंग कर उन्हें पीछे हटने पर मजबूर कर दिया। सूत्रों की मानें तो वहां 100 से ज्यादा नक्सलियों की जमावड़ा थी। सभी मुठभेड़ में जुटे हुए थे। लेकिन जवानों के जवाबी कार्रवाई के बाद उसमें से अधिकांश नक्सली पीछे भाग निकले। हालांकि कुछ नक्सली रूक-रूककर जवानों पर फायरिंग करते रहे। जवान नक्सलियों को तीन तरफ से घेर लिया।

फिर से दहलाने की थी नक्सलियों की योजना
सीआरपीएफ को खुफिया इनपुट मिली कि नक्सली तिलैया के बाद फिर एक बड़ी घटना को अंजाम देकर पूरे इलाके को दहलाना चाहते हैं। इसके लिए पचरूखिया जंगल में नक्सलियों की जमावड़ा हो रही है। नक्सली बड़े पैमाने पर उस इलाके में विस्फोटक व गोला-बारूद इक्कठा कर रहे हैं। सूचना के बाद सीआरपीएफ 153वीं बटालियन व कोबरा 205 के सैंकड़ों जवान उस इलाके में कूच गए गए। जवान पचरूखिया जंगल में पहुंचने ही वाले थे, तभी

नक्सलियों ने जवानों पर फायरिंग शुरू कर दी।

नक्सली के खेत से राइफल व पिस्टल बरामद

जेल में बंद हार्डकोर नक्सली के खेत से पुलिस ने छापेमारी कर एक देसी राइफल व पिस्टल बरामद किया है। यह बरामदगी कुशा गांव से की गयी है। दाउदनगर एसडीपीओ के नेतृत्व में छापेमारी करते हुए यह कार्रवाई की गयी। पुलिस को सूचना मिली थी कि कुशा गांव में जेल में बंद हार्डकोर नक्सली बबन यादव के घर में हथियार रखा हुआ है। जिसके बाद एसडीपीओ ने रात में ही पुलिस बलों के साथ उक्त गांव में पहुंचे और निशानदेही पर छापेमारी की। छापेमारी के दौरान घर से तो हथियार नहीं मिला। लेकिन उक्त नक्सली के खेत से एक देसी राइफल व पिस्टल बरामद किया गया।

सुशील पांडेय हत्याकांड का आरोपी है बबन यादव
पुलिस ने कुछ दिन पहले ही छापेमारी कर कुशा गांव से हार्डकोर नक्सली बबन यादव को एक अन्य नक्सली के साथ गिरफ्तार किया था। वह पिसाय गांव निवासी पूर्व जिला पार्षद पति सुशील पांडेय के हत्याकांड का आरोपी है।