Hindi News »Bihar »Patna» Baccha Rai Main Accused In Topper Scam Property Worth Rs 4.53 Crores Attached By ED

बिहार: टॉपर घोटाले के मास्टरमाइंड की 4.5 करोड़ की संपत्ति जब्त, पूछताछ के लिए पेश नहीं हुए थे परिजन

घोटाले का मुख्य आरोपी बच्चा राय जेल में है। उसकी पत्नी और अन्य परिजन वैशाली जिले के लालगंज स्थित घर को छोड़कर फरार हैं।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Apr 01, 2018, 04:36 AM IST

  • बिहार: टॉपर घोटाले के मास्टरमाइंड की 4.5 करोड़ की संपत्ति जब्त, पूछताछ के लिए पेश नहीं हुए थे परिजन
    +1और स्लाइड देखें
    बच्चा राय ने बिहार बोर्ड के अधिकारियों से साठगांठ कर ली थी। वह पैसे लेकर अपने कॉलेज के छात्रों को अधिक अंक दिलाता था। (फाइल)

    पटना. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शनिवार को टॉपर घोटाला के मास्टरमाइंड अमित कुमार उर्फ बच्चा राय की 4.53 करोड़ रुपए की संपत्ति जब्त की। ईडी ने यह कार्रवाई मनी लॉन्ड्रिंग के केस में की है। ईडी ने 4 बार बच्चा राय की पत्नी और अन्य परिजन को समन देकर पूछताछ के लिए बुलाया, लेकिन कोई पेश नहीं हुआ। इसके बाद ईडी को बच्चा राय की संपत्ति जब्त करनी पड़ी।

    1) फरार है बच्चा राय की पत्नी
    - टॉपर घोटाले का मुख्य आरोपी बच्चा राय जेल में है। बच्चा की गिरफ्तारी के बाद से उसकी पत्नी और अन्य परिजन वैशाली जिले के लालगंज स्थित घर को छोड़कर फरार हैं।
    - पूछताछ के लिए ईडी की टीम ने गांव में बच्चा राय के घर पर नोटिस चिपकाया, लेकिन इसका कोई नतीजा नहीं निकला। बच्चा राय ने अवैध तरीके से हुई अकूत कमाई को जमीन खरीदने में लगाया। इसके अलावा भी जांच एजेंसी कई जगहों पर निवेश के सबूत मिले हैं।

    2) क्या है टॉपर घोटाला?

    - बच्चा राय वैशाली जिले के लालगंज में स्थित वी आर कॉलेज चलाता था। वह अपने कॉलेज के छात्रों से अच्छे अंक दिलाने के बदले मोटी रकम वसूलता था।

    - बच्चा ने बिहार बोर्ड अध्यक्ष लालकेश्वर प्रसाद से गठजोड़ कर रखा था। वह बोर्ड अध्यक्ष के साथ मिलकर अपने कॉलेज के छात्रों को मनमाने मार्क्स दिलाता था। वह छात्रों की कॉपी बदलवा देता था और उसकी अलग से मार्किंग कराता था।

    3) कैसे सामने आया?

    - मई 2016 में जब इंटर आर्ट्स का रिजल्ट आया तो वैशाली जिले के वी आर कॉलेज के कई छात्र टॉपर लिस्ट में आए। इसी कॉलेज की रूबी राय 444 अंक लाकर टॉपर बनी थी।

    - मीडिया से बातचीत में उसने पॉलिटिकल साइंस को प्रोडिकल साइंस बताया था। इससे पता चला कि जिस छात्रा को सब्जेक्ट के बार में पता तक नहीं था, वह टॉपर बन गई।

    4) अब तक क्या हुई कार्रवाई?

    - टॉपर घोटाला सामने आने के बाद बच्चा राय, बिहार बोर्ड के अध्यक्ष लालकेश्वर प्रसाद, उनकी पत्नी उषा सिन्हा समेत कई लोगों को जेल में डाल दिया गया।

    - 14 फरवरी 2017 को पटना हाईकोर्ट से बच्चा राय को जमानत मिली थी। इसके बाद बिहार सरकार सुप्रीम कोर्ट गई। सुप्रीम कोर्ट ने बच्चा राय की जमानत रद्द कर दी थी।

    5) ये संपत्ति हुईं जब्त
    - बच्चा राय की संपत्ति - जमीन के 16 प्लॉट (1.99 करोड़) व 5 बैंक खाते (53 लाख कैश)
    - पत्नी संगीता की संपत्ति - 3 भूभाग (1.05 करोड़), पटना में फ्लैट (20 लाख), हाजीपुर में मकान (18 लाख) व बैंक के 3 खाते (17 लाख कैश)
    - बेटी शालिनी की संपत्ति - 2 बैंक खाते (39.01 लाख कैश)

    कैश देकर खरीदी अधिकांश संपत्ति

    बच्चा राय ने अधिकतर जमीन या फ्लैट आदि कैश देकर ही खरीदे थे। जांच में बच्चा संबंधित संपत्तियों को हासिल करने के बाबत आय के स्रोत की जानकारी नहीं दे सका। वैसे टॉपर घोटाले में प्राथमिकी के बाद अकूत संपत्ति को बचाने के लिए आयकर रिटर्न में पिछले वर्ष के मुकाबले कृषि से 70 गुना अधिक आमदनी दिखाई थी। उसने अवैध कमाई को कई जगहों पर निवेश किया। इनमें नोएडा व उड़ीसा के फ्लैट भी शामिल हैं। एलआईसी में बच्चा राय व उसके परिजनों के नाम 50 लाख से अधिक निवेश के भी सबूत मिले हैं।

  • बिहार: टॉपर घोटाले के मास्टरमाइंड की 4.5 करोड़ की संपत्ति जब्त, पूछताछ के लिए पेश नहीं हुए थे परिजन
    +1और स्लाइड देखें
    अपने विषय की बेसिक जानकारी भी न रखने वाली रूबी टॉपर बनी थी। (फाइल)
Topics:
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Patna

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×