--Advertisement--

CS और DGP के लिए खोजा जा रहा अनुभवी चेहरा, 2018 में दोनों होंगे रिटायर

राज्य के मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह और डीजीपी पीके ठाकुर एक साथ 28 फरवरी को रिटायर होंगे।

Danik Bhaskar | Dec 13, 2017, 08:18 AM IST
चीफ सेक्रेटरी अंजनी सिंह और डीजीपी पीके ठाकुर। (फाइल फोटो।) चीफ सेक्रेटरी अंजनी सिंह और डीजीपी पीके ठाकुर। (फाइल फोटो।)

पटना. नया साल बिहार में प्रशासन और पुलिस के हिसाब से अनोखा है। राज्य के मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह और डीजीपी पीके ठाकुर एक साथ 28 फरवरी को रिटायर होंगे। शायद ऐसा पहली ही बार हो रहा है, जब दोनों शीर्ष अधिकारी एक साथ रिटायर हो रहे हैं। इस लिहाज से दोनों शीर्ष अफसरों के उत्तराधिकारियों की तलाश को लेकर सरगर्मी तेज हो गई है।


भावी मुख्य सचिव और डीजीपी को लेकर सचिवालय व पुलिस मुख्यालय में कयासों का बाजार गर्म है। वैसे सरकार की प्राथमिकता लंबी पारी खेलने वाले अफसर की है। वर्ष 2019 में लोकसभा और 2020 में बिहार विधानसभा का चुनाव होगा। इस लिहाज से थोड़े-थोड़े दिनों के लिए कई अफसरों को इन महत्वपूर्ण पदों पर बैठाने की बजाय वर्ष 2020 या उसके बाद रिटायर होने वाले अधिकारी को ही मुख्य सचिव और डीजीपी का पद सौंपने के आसार अधिक हैं।

मुख्य सचिव पद के लिए 16 नामों पर हो रहा विचार


मुख्य सचिव पद के लिए बिहार में दावेदार अफसरों की संख्या 16 है। इनमें से नौ केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर हैं, जबकि सात बिहार में तैनात हैं। केंद्र में तैनात एनके सिन्हा (80 बैच), अरुण झा (81), रमेश अभिषेक, रश्मि वर्मा व नवीन वर्मा (82), सीके मिश्रा व अमरजीत सिन्हा (83), दीपक कुमार व रविकांत (84) ऐसे सभी अफसर हैं, सचिव स्तर में पहुंच चुके हैं। इन अफसरों के लिए बिहार वापस आना उनकी इच्छा पर निर्भर है। एनके सिन्हा मई 2018, अरुण झा अगस्त 2018 और रश्मि वर्मा नवंबर 2018 में रिटायर हो जाएंगी। नवीन वर्मा फरवरी 2019, जबकि रमेश अभिषेक जुलाई 2019 में रिटायर होंगे।

लिहाजा सीके मिश्रा, दीपक कुमार और रविकांत ही ऐसे अफसर हैं, जिनका मन टटोला जाएगा। बिहार में तैनात अफसरों में मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी अजय वी. नायक (84) अगले साल अप्रैल, विकास आयुक्त शिशिर सिन्हा (82) जुलाई, बिपार्ड के महानिदेशक शशिशेखर शर्मा (85) अगस्त में रिटायर हो जाएंगे। कृषि उत्पादन आयुक्त सुनील कुमार सिंह (83) मई 2019, योजना पर्षद के मुख्य परामर्शी अमिताभ वर्मा (82) सितंबर 2019 में रिटायर होंगे। राजस्व पर्षद के अध्यक्ष त्रिपुरारि शरण (85) और जल संसाधन विभाग के प्रधान सचिव अरुण कुमार सिंह (85) ही फिलहाल ऐसे अधिकारी हैं, जो क्रमश: जून और अगस्त 2021 में रिटायर होंगे। इन दोनों में अरुण कुमार सिंह का पलड़ा भारी माना जा रहा है।

डीजीपी के लिए भी कई दावेदारी


नए डीजीपी के दावेदारों में एसके सिन्हा (83) अक्टूबर 2019, रवींद्र कुमार (84) अक्टूबर 2018, के.एस.द्विवेदी (84) जनवरी 2019, राजेश रंजन (84) नवंबर 2020, राजेश चंद्रा (85) दिसंबर 2021, राकेश कुमार मिश्रा (86) मार्च 2020, सुनील कुमार (87) जुलाई 2020 और गुप्तेश्वर पांडेय (87) फरवरी 2021 में रिटायर होंगे। एसके सिन्हा और कुमार राजेश रंजन केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर हैं। बिहार लौटना इन दोनों की इच्छा पर निर्भर है। पुलिस मुख्यालय सूत्रों के अनुसार वरीयता और लंबे कार्यकाल के लिहाज राजेश चंद्रा की दावेदारी इस पद के अधिक है। हालांकि, रवींद्र कुमार का भी दावा कम नहीं है।