--Advertisement--

जमीन विवाद में दो पक्षों के बीच चली गोली, जीजा की मौत, साला गंभीर

शनिवार को अरविंद यादव अपने करीब 60 सहयोगियों के साथ जमीन खाली कराने पहुंचा था।

Danik Bhaskar | Dec 17, 2017, 06:26 AM IST

मुंगेर. कोतवाली थाना क्षेत्र के दुर्गा संस्था स्कूल के निकट शादीपुर मोहल्ले में शनिवार की दोपहर भूमि विवाद में दो पक्षों के बीच भिड़ंत में गोलीबारी की गई। इस दौरान गोली लगने से स्थानीय निवासी सुबोध यादव की मौत हो गई और उनका साले अरविंद यादव गंभीर रूप से जख्मी हो गया। परिजनों ने गोली लगने के बाद तत्काल घायलों को इलाज के लिए सदर अस्पताल पहुंचाया, जहां इलाज के दौरान सुबोध के मौत हो गयी। एएसपी हरिशंकर कुमार के नेतृत्व में पहुंची पुलिस टीम ने गोलीबारी के आरोपित सुखदेव विश्वकर्मा एवं उनके दामाद पिंटू विश्वकर्मा को गिरफ्तार कर लिया है।


दो वर्षों से है भूमि विवाद


मृतक के भाई छोटू ने बताया कि चार वर्ष पूर्व उनलोगों ने जमीन की खरीदारी की थी। जिसका दाखिल खारिज भी उनकी माता शकुंतला देवी के नाम है। लेकिन पड़ोसी सुखदेव विश्वकर्मा उस जमीन को अपना बताते हुए जबरिया कब्जा जमा रखा था। शुक्रवार को न्यायालय के आदेश पर कोतवाली इंस्पेक्टर श्रीराम चौधरी के नेतृत्व में पहुंचे सीओ भुवनेश्वर यादव ने उनके पक्ष में फैसला भी सुनाया। जिससे नाराज सुखदेव विश्वकर्मा ने दोपहर एक बजे उनके भाई अरविंद सहित जीजा सुबोध को गोली मार दी।

अरविंद यादव 60 लोगों के साथ जमीन खाली कराने पहुंचा था

एएसपी हरिशंकर कुमार ने बताया कि प्रत्यक्षदर्शियों से जानकारी मिली है कि शुक्रवार को विवादित भूखंड की पैमाइश होने के बाद शनिवार को अरविंद यादव अपने करीब 60 सहयोगियों के साथ जमीन खाली कराने पहुंचा था। जिसका सुखदेव विश्वकर्मा एवं उनके परिजनों ने विरोध किया। विरोध के दौरान दोनों पक्ष के बीच मारपीट होने लगी और अचानक गोली चलने की आवाज आई। गोली चलते ही अरविंद के साथ आए लोग फरार हो गए जबकि गोली लगने से सुबोध एवं अरविंद जख्मी हालत में गिर पड़े।

पुलिस ने दो को किया गिरफ्तार

गोलीबारी की सूचना मिलते ही एएसपी के नेतृत्व में कोतवाली इंस्पेक्टर श्रीराम चौधरी, बासुदेवपुर ओपी प्रभारी सर्वजीत, पूरबसराय ओपी प्रभारी मजहर मकबूल एवं एससीएसटी थाना प्रभारी वेदानंद पासवान सशस्त्र पुलिस बल के साथ पहुंचे। पुलिस ने मौके से सुखदेव विश्वकर्मा के साथ उनके दामाद को गिरफ्तार कर लिया। एक दोनाली बंदूक व 12 बोर के दो खोखा बरामद किया।

बंदूक को छीना झपटी में चली गोली


सुखदेव शर्मा की पुत्री पुष्पम ने बताया कि अरविंद यादव सहित उनके दोनों छोटे भाई एवं बहनोई सुबोध यादव शनिवार को 50 -60 सहयोगियों के साथ पहुंचे व घर की दीवार तोड़ अंदर प्रवेश करने का प्रयास करने लगे। जिसे देख जब उन्होंने विरोध किया तो अरविंद ने उनके सीने में बरछी मार दिया। इसके बाद पिता ने अपनी लाइसेंसी बंदूक निकाल ली। जिसे अरविंद सहित उनके बहनोई सुबोध ने छीनने का प्रयास किया। इसी छीना झपटी में गोली चली व दोनोंं जख्मी हो गए।

दोनों के पास है लगान की रसीद


विवाद में अंचल कार्यालय का भी बहुत कुछ हाथ है। अंचल कार्यालय द्वारा दोनों ही पक्ष के नाम से लगान की रसीद काटी गई है। कोतवाली इंस्पेक्टर श्रीराम चौधरी ने बताया कि शुक्रवार को दोनों पक्ष द्वारा लगान रसीद प्रस्तुत करने पर सीओ भुनेश्वर यादव भी चकरा गए थे। उन्होंने अंचल कार्यालय से जब रजिस्टर टू मंगवा कर देखा तो पाया कि रजिस्टर टू में दो कट्ठा जमीन पर ही सुखदेव विश्वकर्मा का नाम दर्ज है। जबकि उनके द्वारा चार कट्ठा भूखंड पर दावा किया जा रहा था।

पत्नी को पहले मृत फिर जिंदा बताकर दो बार बेची जमीन


शनिवार को जमीन संबंधी विवाद में गोलीबारी का मामला भी रोचक है। जिस जमीन को दोनों पक्ष अपना बता रहे हैं। उसमें एक पक्ष को जमीन मालिक समुंद्री देवी के पति ने पत्नी को मुर्दा बताकर सुखदेव विश्वकर्मा को दो कट्ठा जमीन रजिस्ट्री कर दिया था। जिसके दाखिल खारिज में कागजों की परेशानी झेलने पर पुन: जमीन मालिक के पति ने चार वर्ष बाद अपनी पत्नी को जिंदा जीवित बतलाते हुए पुन: दो कट्ठे जमीन की रजिस्ट्री कर दिया। इस दो कागजातों के कारण ही दोनों पक्ष के बीच विवाद था। जबकि जख्मी अरविंद ने बताया कि उनके पिता नले ही नारायणी देवी से जमीन की रजिस्ट्री कराई थी।

एक ही भूखंड पर दोनों पक्ष अपना-अपना दावा कर रहे थे


मुंगेर के एसपी आशीष भारती ने बताया कि एक ही भूखंड को दो पक्ष द्वारा अपना बताया जा रहा है। जिस विवाद में एक पक्ष द्वारा दूसरे पक्ष के घर हमला बोला गया था। जिसमें दूसरे पक्ष द्वारा गोलीबारी की सूचना मिली है। पुलिस हर बिंदु पर जांच कर रही है तो हत्या के आरोपित गिरफ्तार किए जा चुके हैं।