--Advertisement--

यहां एक साथ पहुंची पांच डेडबॉडी, लाश देख गांव में घंटों मची रही चीख-पुकार

सूचना मिलने पर स्थानीय विधायक केदार प्रसाद गुप्ता मौके पर पहुंचे और लोगों को समझा-बुझाकर शांत कराया।

Danik Bhaskar | Jan 03, 2018, 06:15 AM IST

मुजफ्फरपुर. जमुई में सोमवार को सड़क हादसे में मृत पांचों युवकों का शव एंबुलेंस से मंगलवार को पहुंचते ही उनके गांव में चीख पुकार मच गई। गांव के लोगों ने सड़क जाम कर दिया। मुआवजे की मांग को लेकर फैमिली मेंबर्स और गांव के लोगों ने एक घंटे तक हंगामा किया। सूचना मिलने पर स्थानीय विधायक केदार प्रसाद गुप्ता मौके पर पहुंचे और लोगों को समझा-बुझाकर शांत कराया।

मां...पापा तो आ गए लेकिन टॉफी नहीं लाए


पापा, अाप तो बोले थे कि टॉफी लेकर आएंगे, मेरा टॉफी कहां है। मां देखो न पापा तो आ गए लेकिन टॉफी नहीं लाए। ये बातें मृतक संतोष की बेटी नाव्या अपनी मां से बोल रही थी। पत्नी नीतू देवी पति के शव के साथ लिपट कर रो रही थी। वहीं, अश्वनी दुबे इकलौते बेटे की अर्थी उठाए श्मशान घाट जा रहे थे। इधर, सुनील का शव पकड़ी गांव पहुंचते ही कोहराम मच गया। पत्नी, बेटी-बेटा सब बेसुध थे। उधर, अरुण कुशवाहा की डेडबॉडी उसके गांव गोरौल ले जाया गया।

ऐसे शांत हुए मृतक के आश्रित

विधायक ने डीएम से माेबाइल पर बात कर मृतकों के आश्रितों को मुआवजा देने को कहा। विधायक ने जाम कर रहे लोगों को जल्द ही चार-चार लाख रुपए भी दिलवाने का आश्वासन दिया। तब जाकर आक्राेशित शांत हुए और जाम हटाया गया।