--Advertisement--

रेप की नीयत से ट्रक ड्राइवर ने लड़की को उठाया, विरोध करने पर बुरी तरह पीटा

आरोपी के खिलाफ लोगों का आक्रोश इतना ज्यादा था कि उसे पीटने और सजा देने के लिए लोग अपने हवाले मांग रहे थे।

Danik Bhaskar | Jan 17, 2018, 05:45 AM IST

सासाराम. इंद्रपुरी थाना एरिया में ट्यूशन पढ़कर घर लाैट रही नौवीं की लड़की को ट्रक ड्राइवर ने रेप की नीयत से जबरन उठाकर अपनी गाड़ी में फेंक दिया। ड्राइवर के इस दुष्साहस को देख वहां मौजूद कुछ बच्चों ने शोर मचाया। इसके बाद मौके पर जुटे गांववालों ने पीछा कर इसका विरोध किया। घटना की जानकारी पुलिस को दी उसके बाद आरोपी ट्रक चालक लड़की को छोड़कर फरार हो गया। इधर पुलिस कार्रवाई में देर होते देख उस लड़की के गांव के सैकड़ों लोग सड़क पर उतर आए।


पुलिस द्वारा की गई छापेमारी में आरोपी ड्राइवर को गिरफ्तार किया गया। मौके पर वह लड़की भी मिली, जिसे चालक ने रेप के प्रयास में बुरी तरह से पीटकर घायल कर दिया था। आरोपी मनोज कुमार विश्वकर्मा गया जिला में आमस का रहने वाला बताया गया है। जिसे पूछताछ के बाद पुलिस ने जेल भेज दिया है। चालक के ट्रक टेलर को भी जब्त कर लिया गया है। इंद्रपुरी थानाध्यक्ष भैरव लाल ने बताया कि ग्रामीणों द्वारा सूचना के कुछ ही देर बाद पुलिस ने अपनी कार्रवाई में ट्रक चालक को धर दबोचा। उधर छात्रा को इलाज के लिए डेहरी अनुमंडलीय अस्पताल भेज दिया गया।

चालक का दुस्साहस : बीच सड़क पर गाड़ी रोक उठा लिया छात्रा को

नौवीं की छात्रा के साथ दुष्कर्म करने का प्रयास किया चालक इतना दुष्साहसी निकला कि बीच सड़क पर गाड़ी रोककर ट्यूशन पढ़ अकेले आ रही छात्रा को जबरन उठा लिया। छात्रा चिल्लाती रही, परंतु चालक ने एक नहीं सुनी। उसे उठाकर अपनी गाड़ी की केबिन में डाल दिया। बताया जाता है कि गया जिला के आमस निवासी मनोज विश्वकर्मा ट्रक टेलर पर बालू लादकर गया से इंद्रपुरी सिंचाई कॉलोनी पहुंचा था। जहां बालू उतारकर वापस आने के क्रम में इस घटना को अंजाम दिया। वह तो कुछ छोटे-छोटे बच्चे थे, जिन्होंने इस घटना को देखा। जिसकी जानकारी गांव के लोगों को दी, जो पहुंचते ही पुलिस को बताते हुए स्वयं ही ट्रक चालक की खोज में जुट गए। अंत में खाली पड़े पुराने इंद्रपुरी थाना के पीछे से गिरफ्तार किया गया। जिसने दुष्कर्म के प्रयास में छात्रा के साथ मारपीट भी किया था।

आरोपी को ग्रामीण मांग रहे थे अपने हवाले

पकड़े गए ट्रक चालक मनोज विश्वकर्मा के खिलाफ ग्रामीणों का आक्रोश इतना ज्यादा था कि उसे पीटने और सजा देने के लिए लोग अपने हवाले मांग रहे थे। सड़क जाम कर रहे ग्रामीणों को समझाने पहुंचे रोहतास एसपी मानवजीत सिंह ढिल्लो ने उन्हें ऐसा करने से मना किया। कहा कि गिरफ्तार चालक के खिलाफ स्पीडी ट्रायल चलाकर उसे सजा दी जाएगी। उसके बाद सड़क जाम हटा और छात्रा के परिजन इलाज के लिए उसे अनुमंडलीय अस्पताल डेहरी ले गए।