--Advertisement--

रोड एक्सीडेंट में घायल पहले दादा, फिर पोते ने हॉस्पिटल पहुंचने के पहले तोड़ा दम

बभनगांवा गांव के रामजी मिश्रा अपने भाई के दामाद की मां (समधिन) के श्राद्धकर्म में भाग लेने मड़नपुर गांव आ रहे थे।

Danik Bhaskar | Dec 20, 2017, 06:30 AM IST

आरा. भोजपुर जिले के सहार थाना क्षेत्र के आरा-अरवल मुख्य मार्ग पर गुलजारपुर-अनुआं गांव के बीच मंगलवार की सुबह एक अनियंत्रित ट्रक ने बाइक सवार दो लोगों को रौंद डाला। जिसमें दोनों लोगों की मौत हो गयी। हादसे के बाद चालक ट्रक लेकर भाग निकला। दोनों मृतक रिश्ते में दादा और पोते थे। हादसा सुबह 11 बजे के आसपास हुआ। इसे लेकर पुलिस ने अज्ञात चालक के खिलाफ केस दर्ज किया है। शव का पोस्टमॉर्टम सदर हॉस्पिटल, आरा में कराया गया। मृतकों में अरवल जिले के परासी थाना के बबन बिगहा गांव के स्व. राजबल्लभ मिश्रा के पुत्र रामजी मिश्रा (65 वर्ष) एवं उमेश मिश्रा के पुत्र अरविंद कुमार मिश्रा (28 वर्ष) शामिल हैं।

समधिन के श्राद्धकर्म में पोते संग भाग लेने आ रहे थे रामजी


नारायणपुर थाना के मड़नपुर गांव के रामेश्वर उपाध्याय के बेटे की शादी अरवल जिले के परासी थाना के बभन बिगहा गांव के रिटायर्ड शिक्षक रामदिनेश मिश्रा के घर हुई है। इधर, 13 रोज पहले रामेश्वर मिश्रा की पत्नी रामसखी देवी का देहांत हो गया था। बभनगांवा गांव के रामजी मिश्रा अपने भाई के दामाद की मां (समधिन) के श्राद्धकर्म में भाग लेने मड़नपुर गांव आ रहे थे। पोता अरविंद कुमार मिश्रा बाइक पर उन्हें बैठाकर रिश्तेदार के यहां ला रहा था। लेकिन, होनी को कुछ अौर मंजूर था।

पहले दादा, फिर पोते ने हॉस्पिटल पहुंचने के पहले तोड़ा दम


सहार। ट्रक की ठोकर से बाइक सवार रामजी मिश्रा की मौके पर ही मौत हो गयी। सूचना मिलने पर सहार थानाध्यक्ष संजय कुमार समेत अन्य पदाधिकारी व जवान वहां पहुंच गए। इसके बाद हादसे में गंभीर रूप से घायल उनके पोते अरविंद कुमार मिश्रा को एम्बुलेंस से सदर अस्पताल, आरा भेजा गया। इस दौरान हॉस्पिटल पहुंचने से पहले ही उसने दम तोड़ दिया। बाद में बाइक के कागजात से मृतक की पहचान हो सकी। इस बीच सूचना मिलने पर नारायणपुर थाना के मड़नपुर गांव से सगे-संबंधी भी आरा पहुंच गए।

फौज में जाना चाहता था अरविंद, ज्वाइनिंग से पहले हो गई मौत

अरवल जिले के परासी थाना के बभन बिगहा गांव के उमेश मिश्रा को दो बेटे थे। जिसमें अरविंद मिश्रा छोटा था। अभी शादी भी नहीं हुई थी। वह फौज में जाने की तैयारी में लगा हुआ था। फिजिकल व रिटेन टेस्ट भी निकाला था। परिवार के सदस्य ज्वाइनिंग का इंतजार कर रहे थे। लेकिन, ज्वाइनिंग के पहले उसकी मौत हो गयी। इधर, सदर अस्पताल, आरा में बेटे के शव को देख उसकी मां बिलख पड़ी।