--Advertisement--

पटना में हवाला रैकेट का भंडाफोड़, हीरा कारोबारी समेत चार गिरफ्तार

नेपाल, सिंगापुर समेत कई देशों में रैकेट का विस्तार है और वहां तक इनका कारोबार चल रहा है।

Dainik Bhaskar

Feb 08, 2018, 06:42 AM IST
hawala racket busted in patna
पटना. राजधानी में चल रहा हवाला रैकेट अंतरराष्ट्रीय स्तर का है। नेपाल, सिंगापुर समेत कई देशों में रैकेट का विस्तार है और वहां तक इनका कारोबार चल रहा है। चाइनीज सामान (इलेक्ट्रॉनिक्स आदि) की दुकान की आड़ में वाकरगंज से ऑपरेट हो रहे हवाला सेंटर से हर महीने 90 से 100 करोड़ का कारोबार होता था। एक दिन में कम से कम 2 से 3 करोड़ का कारोबार होता था। पटना पुलिस की जांच में यह बात सामने आई है। बकौल एसएसपी, 'हर घंटे 25 लाख से अधिक का कारोबार हो रहा था।' यानी तीन से चार घंटे में अवैध तरीके से 1 करोड़ तक का ट्रांजेक्शन होता था। इसके लिए नोट गिनने की मशीन भी रखी गई थी।
बैंकिंग सिस्टम के समानांतर हवाला कारोबार को इंटरनेशनल व अंतरराज्यीय नेटवर्क के जरिए चलाया जा रहा था। स्थिति का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि वाकरगंज के डूंडाशाही कॉम्प्लेक्स में छापेमारी में पकड़े गए 'मास्टर माइंड' पंकज अग्रवाल व उसके सहयोगियों के मोबाइल पर घंटेभर में ही हवाला को लेकर 25 से 30 कॉल आ गए। इनमें नेपाल व मलेशिया से जुड़े कॉल भी शामिल थे। खासकर पंकज के पास हर पांच मिनट में एक कॉल आ रहा था।

हवाला का खास फॉर्मूला है। विशेषकर कोड नंबर के जरिए लेन-देन होता था। अहम यह कि कोड नंबर के रूप में किसी नोट पर अंकित सीरियल नंबर का इस्तेमाल किया जाता था। मसलन, किसी को पटना से मुंबई 20 लाख रुपए भेजने हैं तो इसके लिए सबसे पहले वाकरगंज हवाला सेंटर पर संपर्क करता।

कैश जमा करने पर उसे सौ रुपए या किसी अन्य नोट पर अंकित उसके सीरियल नंबर का कोड दिया जाता। इसके बाद मास्टर माइंड नोट के नंबर वाले हिस्से की फोटो मोबाइल के वाट्सएप के जरिए मुंबई के हवाला सेंटर या एजेंट को भेजता था। इधर, रकम भेजने वाला व्यक्ति वही नंबर अपने उस आदमी को बताता, जिसे कैश रिसीव करनी है। आखिरकार कोड नंबर बताने पर संबंधित हवाला एजेंट या सेंटर के जरिए कैश मिल जाता है। पुलिस के हत्थे चढ़े 'मास्टर माइंड' पंकज अग्रवाल की मोबाइल में कोड नंबर के सबूत मिले हैं।

कोड वर्ड में बातचीत 25 किलो यानी 25 लाख कैश दे देना
हवाला नेटवर्क से जुड़े लोगों के बीच खासकर कैश ट्रांजेक्शन की बात कोड वर्ड में होती थी। इसमें लाख के बदले 'किलो' बोला जाता था। 25 किलो दे देना।... मतलब 25 लाख रुपए देने हैं। लेन-देन में हवाला कारोबारियों को प्रति लाख 3 से 5 हजार रुपए कमीशन मिलते थे। पुलिस के मुताबिक ब्लैक मनी को खपाने के अलावा अवैध तरीके से लेन-देन के लिए हवाला का इस्तेमाल किया जाता है। हवाला के माध्यम से अवैध रूप से लेन-देन के मामले में बुधवार को गिरफ्तार किए गए शातिर। जानकारी देते पुलिस अफसर।

X
hawala racket busted in patna
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..