पटना

--Advertisement--

तलाक के बदले देता है कत्ल की धमकी, डायवोर्स के पेपर पर नहीं करना चाहता साइन

21 साल की मनीषा पिछले 10 महीने से पति से केस लड़ रही है। वह शनिवार को अर्जी कोर्ट में दाखिल की।

Danik Bhaskar

Dec 17, 2017, 05:45 AM IST

भागलपुर. पति से केस लड़ने गंगापार से आती हूं। वह तलाक के बदले कत्ल करने की धमकी देता है। वह मेरी हत्या करवा सकता है, मेरी रक्षा कीजिए...। यह पीड़ा झंडापुर थाना के मरवा गांव की रहने वाली मनीषा कुमारी की है। 21 साल की मनीषा पिछले 10 महीने से पति से केस लड़ रही है। वह शनिवार को अर्जी कोर्ट में दाखिल की। उसने जिला विधिज्ञ संघ के महासचिव संजय कुमार मोदी से गुहार लगाई।

वकील को धमकाया, मेरे लिए कत्ल करना कोई नई बात नहीं
मनीषा ने इन्हीं आरोपों को लेकर तलाक की अर्जी दाखिल की थी। लेकिन जब वह तारीख पर अदालत आती है तब पति अन्य बदमाशों के सहयोग से उठा लेने की धमकियां देता है। उसने बताया कि शनिवार को भी वह कोर्ट आ रही थी, तब बाहर संदिग्ध हाल में दो-तीन लोग उसका पीछा करते दिखे। वह वकील के पास गई तो वहां उसका पति हत्या कर देने की धमकी देने लगा। वकील को पति ने धमकाया कि वह बचपन से ही दफा 302 का मुजरिम रह चुका है। कत्ल करना बड़ी बात नहीं। पति तलाक के कागजात पर स्वीकृति दस्तखत नहीं करना चाहता है। मनीषा ने बताया कि उसका पति अमित 4 माह पहले ही जेल से बाहर आया है।

पति की प्रताड़ना के बाद छोड़ दी थी परीक्षा

मनीषा ने बताया कि पति से संबंध तोड़ने के बाद अमित ने उसकी पढ़ाई भी बाधित कर दी थी। वह शादी के समय नवगछिया के बीएलएस कॉलेज में पार्ट-1 की छात्रा थी। लेकिन अमित ने उसकी परीक्षा छुड़वा दी। सब्सिडियरी पेपर देने जा रही मनीषा को अमित ने रास्ते में कुछ दोस्तों के साथ इस कदर प्रताड़ित किया कि वह कॉलेज ही नहीं गई। दूसरे साल उस परीक्षा को पास किया। अभी वह पार्ट-2 में पढ़ती है। 10 महीने से वह तलाक के लिए केस लड़ रही है।

वकील की धमकी की भी जांच की जा रही
डीबीए महासचिव संजय कुमार मोदी ने बताया कि संघ संबंधित कोर्ट व पुलिस से मांग करेगा कि महिला की जान की रक्षा की जाए। उसके पति के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के लिए पत्र लिखा जाएगा। वकील की धमकी की भी जांच की जा रही है।

Click to listen..