--Advertisement--

बिहार मैट्रिक एग्जाम का बदला पैटर्न, इन बातों का रखेंगे ध्यान तो नहीं होगी परेशानी

40 प्रश्न एक-एक अंकों के ऑब्जेक्टिव क्वेश्चन होंगे। बाकी 23 प्रश्न लघु उत्तरीय और दीर्घ उत्तरीय होंगे।

Dainik Bhaskar

Feb 13, 2018, 05:01 AM IST
Important Tips for Bihar Metric Exam Students

पटना. इस बार बिहार में मैट्रिक एग्जाम के पैटर्न में काफी बदलाव किया गया है। सोशल साइंस के अंतर्गत हिस्ट्री, ज्योग्राफी, पॉलीटिकल साइंस, इकोनॉमिक्स और डिजास्टर मैनेजमेंट से संबंधित कुल 80 मार्क्स के क्वेश्चन पूछे जायेंगे। जिसमें क्वेश्चन्स की संख्या 63 होगी। 40 प्रश्न एक-एक अंकों के ऑब्जेक्टिव क्वेश्चन होंगे। बाकी 23 प्रश्न लघु उत्तरीय और दीर्घ उत्तरीय होंगे।

इन बातों का रखें ध्यान, नहीं होगी परेशानी

- पांच खंडों में विभाजित प्रश्नों के उत्तर सिलसिलेवार व क्रमिक दें।
- इतिहास विषय में तिथि और तथ्य के साथ उत्तर दें।
- कारण और परिणाम लिखते समय क्रमवार बिन्दुओं को अंकित करें।
- महत्वपूर्ण तथ्यों को हाईलाइट या अंडरलाइन करें।
- भूगोल के प्रश्नों में मानचित्र वाले प्रश्न को प्राथमिकता दें।
- राजनीति विज्ञान में तर्कपूर्ण उत्तर दें।
- अर्थशास्त्र में नवीनतम आंकड़ों का प्रयोग करें।
- आपदा प्रबंधन के लिए आकस्मिक आपदा व दीर्घकालिक आपदा से बचने के उपाय के साथ-साथ प्राकृतिक आपदा और मानव जनित आपदा को स्पष्ट करें।
- मानक पुस्तकों का अध्ययन करें और पाठ को पढ़ने के बाद बार-बार लिखने का प्रयास करें।
- किसी भी पाठ को एक बार पढ़े, दो बार लिखें तथा उसी पाठ का तीन बार चिंतन करें।

किस विषय का कौन महत्वपूर्ण चैप्टर

इतिहास- राष्ट्रवाद के उदय का कारण और परिणाम, इटली के एकीकरण में मेजिनी का योगदान और आस्ट्रिया की भूमिका, राष्ट्रीय आंदोलन में गांधी की भूमिका, हिन्द चीन में फ्रांसिसी उपनिवेश के कारण वियतनाम में हो-ची-मिन्ह की भूमिका, रूसी क्रम की नीति, हौआ-हौआ आंदोलन, लेनिन की नयी आर्थिक नीति, भारतीय प्रेस की भूमिका, जनजातीय आंदोलन, खूनी रविवार, मेटर निरू युग।

अर्थशास्त्र- विश्व व्यापार संगठन, सहकारिता, संस्थागत वित्तीय स्रोत के कार्य, व्यवसायिक बैंकों के कार्य, मुद्रा विनिमय, राष्ट्रीय आय, उदारीकरण, वैश्वीकरण, स्वयं सहायता समूह आदि।

राजनीति शास्त्र- नगर निगम के कार्य व आय के स्रोत, दल-बदल कानून, गठबंधन की सरकार, बिहार में छात्र आंदोलन, ग्राम पंचायत की शक्ति व कार्य, सूचना का अधिकार कानून, राजनीतिक दल, ग्राम कचहरी का गठन एवं शक्ति तथा महिला सशक्तिकरण।

भूगोल- समोच्य रेखा, ताल चिन्ह, जलमार्ग, नदी घाटी परियोजना, कोयला का प्रकार, बिहार में चीनी उद्योग, भारत में सीमेंट उद्योग, भारत लौह इस्पात उद्योग वितरण, वन्य जीवों के ह्रास के कारण हरित क्रांति, चाय व धान की भौगोलिक स्थिति आदि।

X
Important Tips for Bihar Metric Exam Students
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..