--Advertisement--

शहाबुद्दीन समेत 8 पर आरोप पत्र गठन की सुनवाई टली, 16 को अगली तारीख

तिहाड़ जेल से शहाबुद्दीन और सीवान जेल से अजहरुद्दीन बेग उर्फ लड्डन मियां की वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए पेशी हुई।

Danik Bhaskar | Jan 06, 2018, 07:23 AM IST

मुजफ्फरपुर. सीवान के पत्रकार राजदेव रंजन हत्याकांड में शुक्रवार को जिला एवं सत्र न्यायाधीश की अदालत में पूर्व सांसद शहाबुद्दीन समेत 8 आरोपितों की पेशी हुई। तिहाड़ जेल से शहाबुद्दीन और सीवान जेल से अजहरुद्दीन बेग उर्फ लड्डन मियां की वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए पेशी हुई। वहीं, अन्य आरोपितों रिशु कुमार जायसवाल, राजेश कुमार, रोहित कुमार सोनी, विजय कुमार गुप्ता, सोनू कुमार गुप्ता को पेशी के लिए मुजफ्फरपुर सेंट्रल जेल से कोर्ट लाया गया।

सुनवाई के दौरान सीबीआई के स्पेशल पीपी एएच खान के मौजूद नहीं रहने के कारण आरोप पत्र के गठन पर सुनवाई पूरी नहीं हो सकी। स्पेशल पीपी के लगातार तीन तारीख पर अनुपस्थित रहने का मामला बचाव पक्ष के अधिवक्ता शरद सिन्हा ने कोर्ट में उठाया। उन्होंने कहा कि स्पेशल पीपी के लगातार अनुपस्थित रहने से मामले का निष्पादन लंबित हो रहा है। कोर्ट ने सीबीआई के पुलिस इंस्पेक्टर विनय कुमार को कड़ी फटकार लगाई। कोर्ट ने अगली तारीख पर स्पेशल पीपी की उपस्थिति सुनिश्चित कराने का आदेश दिया। कोर्ट ने अगली तारीख 16 जनवरी तय की है।

लड्डन मियां को आरोप मुक्त करने की कोर्ट में अर्जी


लड्डन मियां की ओर से उनके अधिवक्ता शरद सिन्हा ने आरोप मुक्त करने की अर्जी कोर्ट में दाखिल की। सुनवाई के दौरान पूर्व सांसद के अधिवक्ता दिलीप कुमार सिंह व अन्य आरोपितों के अधिवक्ता शरद सिन्हा उपस्थित थे। वहीं, आरोपित सोनू कुमार गुप्ता की ओर से कोर्ट में दाखिल आरोप मुक्त करने के आवेदन का सीबीआई के इंस्पेक्टर विनय कुमार द्वारा हस्ताक्षरित जवाब देने पर सवाल उठने शुरू हो गए हैं। बचाव पक्ष के अधिवक्ता शरद सिन्हा ने कहा कि जब सीबीआई आरोप पत्र दाखिल कर चुकी है तो सीबीआई के इंस्पेक्टर अपना हस्ताक्षरित जवाब प्रस्तुत कर रहे हैं। जबकि, स्पेशल पीपी एएच खान हैं।