--Advertisement--

शख्स को किया था किडनैप, अब पीटकर ले ली जान, दोनों आंखें भी निकाल ली

डीएसपी निशित प्रिया ने बताया कि एक दिन पहले मृतक के भाई ने अपहरण की प्राथमिकी दर्ज कराई थी।

Danik Bhaskar | Feb 14, 2018, 04:59 AM IST
मौके पर मौजूद भीड़ और इनसेट में मृतक पंकज की फाइल फोटो। मौके पर मौजूद भीड़ और इनसेट में मृतक पंकज की फाइल फोटो।

बिहारशरीफ. सरमेरा थाना एरिया के एक पंचायत में अपहृत पैक्स अध्यक्ष की निर्मम तरीके से हत्या कर दी गई। मंगलवार की सुबह गांव वालों की सूचना पर पुलिस ने शव बरामद किया। युवा पैक्स अध्यक्ष के शव मिलने से इलाके में सनसनी फैल गई। हत्या का तरीका अपराधियों की नफरत बयां कर रहा था। पैक्स अध्यक्ष की दोनों आंखें निकालकर व पीट-पीटकर मौत के घाट उतारा गया था। हत्या के बाद बदमाशों ने शव को सड़क किनारे के फेंक कर ढंक दिया था।

- मृतक की पहचान 28 साल के पैक्स अध्यक्ष पंकज कुमार के रूप में की गई है। एक दिन पहले मृतक के बड़े भाई रंजीत कुमार ने पैक्स अध्यक्ष भाई के अपहरण की प्राथमिकी थाने में दर्ज कराई थी।

- 11 फरवरी की रात 10 बजे कुछ लोगों ने फोन कर पंकज को बुलाया और उनका अपहरण कर लिया था। पंकज अविवाहित थे। हत्या की खबर सुन स्थानीय विधायक डॉ. जीतेंद्र कुमार भी हॉस्पिटल पहुंचे।


फोन आने पर 10 मिनट में वापस लौटने की बात कह घर से निकले

- 11 फरवरी की रात पैक्स अध्यक्ष अपने घर में थे। रात करीब 10 बजे उनके मोबाइल पर फोन आया। इसके बाद वह 10 मिनट में वापस लौटने की बात कह घर से निकलने लगें।

- पूछने पर बताया कि दिलीप सिंह के बेटे बजरंगी सिंह ने बुलाया है। निकलने के घंटे भर बाद परिजनों ने फोन किया तो पैक्स अध्यक्ष का मोबाइल बजरंगी रिसीव कर कहा दस मिनट में जाते हैं।

- इसके बाद पंकज पूरी रात घर नहीं लौटे। मोबाइल भी स्विच ऑफ हो गया। 12 फरवरी को बड़े भाई रंजीत ने थाने में अपहरण की प्राथमिकी दर्ज करा दी।

- पुलिस परिजन अपहृत की खोजबीन में जुटे थे उसी दौरान खंधा से शव मिला। मृतक के बड़े भाई ने अपहरण का आरोप बजरंगी के अलावा नरेंद्र सिंह के बेटे गौरव कुमार सिंह, अनिल सिंह के बेटे गौरव सिंह और गौसनगर रहने वाले नंदलाल प्रसाद के बेटे मोहन सिंह के अलावा तीन अज्ञात पर लगाया था।


गौसनगर में हुआ था विवाद, दी थी गोली मारने की धमकी

मृतक के बड़े भाई ने अपहरण की प्राथमिकी में बताया है कि 23 जनवरी को गौसनगर गांव में सांस्कृतिक कार्यक्रम था। जहां छोटे भाई के साथ वह भी गए थे। कार्यक्रम के दौरान मोहन सिंह से झगड़ा हुआ था। उसने दोनों भाइयों को गोली से छलनी करने की धमकी दी थी।

शव देख पुलिस के साथ दहले ग्रामीण

युवा पैक्स अध्यक्ष की दोनों आंखें निकालकर उसमें मिट्टी डाल दी गई थी। इसके बाद उनके सिर को भी कूचा गया था। शव देख पुलिस के साथ ग्रामीण भी दहल गए। हत्या का तरीका अपराधियों की नफरत भी बयां कर रहा था। कातिलों की मंशा सिर्फ हत्या नहीं थी, बल्कि मौत से पहले पीड़ा देनी भी थी।


परिजनों के चीत्कार से माहौल गमगीनी

- पंकज के हत्या की खबर सुन परिजनों में कोहराम मच गया। जैसे ही शव को घर लाया गया। परिजनों की चीत्कार गूंजने लगी। मृतक 8 भाई-बहनों में पांचवे नंबर पर थे।

- बेटे का शव देख बुजुर्ग पिता ज्वाला प्रसाद और मां सरोज देवी को मानो काठ मार गया। बड़े भाई रंजीत और अजीत माता-पिता को ढाढ़स बंधाने में जुटे थे।

- सदर डीएसपी निशित प्रिया ने बताया कि एक दिन पहले मृतक के भाई ने अपहरण की प्राथमिकी दर्ज कराई थी। जिसमें 4 नामजद व 3 अज्ञात को आरोपित किया गया था। आरोपी मोहन समेत दो आपराधिक प्रवृत्ति का है। सरस्वती पूजा में झगड़ा के बाद उसने धमकी दी थी।

मृतक पंकज की फाइल फोटो। मृतक पंकज की फाइल फोटो।
घटनास्थल पर पड़ी हुई मृतक की डेडबॉडी। घटनास्थल पर पड़ी हुई मृतक की डेडबॉडी।
मौके पर लाश के पास जांच पड़ताल करती पुलिस की टीम। मौके पर लाश के पास जांच पड़ताल करती पुलिस की टीम।