--Advertisement--

छोटे भाई काे मरा बता बेची जमीन, अब खुद को जिंदा साबित करने को घूम रहा शख्स

मामले का खुलासा तब हुआ जब जीवित प्रदीप अपने मृत्यु प्रमाण पत्र जारी होने की जानकारी मिली।

Danik Bhaskar | Dec 09, 2017, 06:06 AM IST

मधेपुरा. छोटे भाई के हिस्से की जमीन बेचने के लिए बड़े भाई ने उसे मृत घोषित करवा दिया। इसके लिए बाकायदा फर्जी मृत्यु प्रमाण पत्र तक बनवा लिया। मामले का खुलासा तब हुआ जब जीवित प्रदीप अपने मृत्यु प्रमाण पत्र जारी होने की जानकारी मिली। खून के रिश्ते को शर्मसार करने वाला यह वाकया जिले के गम्हरिया थाना क्षेत्र की रूपौली पंचायत के बेलदारी टोला की है।

बड़े भाई ने साजिश कर कमाने भेज दिया था पंजाब

चंद रुपए के लिए भाई की कागजी चाल के शिकार हुए 22 साल के युवक प्रदीप कुमार चौहान ने बताया कि सात साल की उम्र में माता-पिता की मौत हो गई। इसके बाद बड़े भाई दिलीप चौहान मेरा भरण-पोषण करने लगा। 16 साल की उम्र में बड़े भाई दिलीप ने मुझे पंजाब कमाने के लिए भेज दिया। तब यह पता नहीं था कि पंजाब भेजने की यह साजिश आज न कल मुझे जीते जी ही मार देगी। पंजाब जाकर मैं सरदार जसबिन्द सिंह के यहां नौकरी करने लगा और अपने भाई को भगवान समझ कर उनके नाम से पैसा भेजने लगा। इसी बीच मेरे मौसा शिवशंकर पासवान ने दूरभाष पर जानकारी दी कि दिलीप ने तुम्हारा मृत्यु प्रमाण-पत्र बनाकर तुम्हारे हिस्से की डेढ़ कट्‌ठा जमीन डेढ़ लाख में बेच दी है। मैं जब लौटा, तो देखा कि मेरे हिस्से की जमीन को किसी संजय भगत के हाथों बेच दिया गया है। खरीदार ने मेरी जमीन पर अपना घर चढ़ा दिया है और मैं जिन्दा होने का प्रमाण लेकर दर-दर की ठोकरे खा रहा हूं।

मुझे पता नहीं था कि उसका एक भाई जिंदा है
जमीन के खरीदार संजय भगत ने बताया कि जिस समय मैं जमीन खरीद रहा था, उस समय मुझे पता नहीं था कि दिलीप का एक और भाई भी है। इधर, मुझे यह जानकारी मिली कि दिलीप का छोटा भाई प्रदीप है। और वह जिंदा है। मुझे मृत्यु प्रमाण-पत्र के बारे में कोई जानकारी नहीं है।

मैं मामले की जांच कराकर प्रदीप को करूंगा जिंदा घोषित
सिंहेश्वर के बीडीओ अजित कुमार ने बताया कि अभी मेरे संज्ञान में यह मामला नहीं आया है। यह काफी आपत्तिजनक और हैरतअंगेज मामला है। मैं अपने स्तर से इसकी जांच करा कर प्रदीप को जिंदा घोषित करूंगा।