--Advertisement--

लश्कर के आतंकी नईम के दोस्त को एनआईए ने किया अरेस्ट, हो रही पूछताछ

महाबोधि मंदिर के परिसर के पास और अन्य जगहों से सूटकेस में रखे दो आईईडी बम बरामद किए गए थे। इसकी जांच एनआईए ही कर रही है।

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 04:15 AM IST
एनआईए द्वारा अरेस्ट किया गया गोपालगंज बिहार का महफूज हाशमी। (फाइल फोटो) एनआईए द्वारा अरेस्ट किया गया गोपालगंज बिहार का महफूज हाशमी। (फाइल फोटो)

गोपालगंज. लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी शेख नईम के शागिर्द के रूप में एनआईए ने एक युवक महफूज हाशमी काे गिरफ्तार किया है। गोपालगंज में आतंक की गहरी जड़ें सामने आई हैं। दिसंबर में हुई धन्नु राजा की गिरफ्तारी, शेख नईम से उसके रिश्ते उजागर होने के बाद जांच एजेंसी को कई सुराग मिले थे। इसके बाद कई संदिग्धों से पूछताछ की गई। इसी दौरान वार्ड 24 से छात्र महफूज आलम और नईम के दोस्त से एनआईए ने पूछताछ की।

करीब एक महीने तक सघन जांच और संदिग्धों के कॉल डिटेल खंगालने के बाद एनआईए ने महफूज हाशमी को गिरफ्तार कर लिया। पिछले नवंबर में गिरफ्तार आतंकी शेख अब्दुल नईम छत्तीसगढ़ के रायपुर से फरार होने के बाद सीधे गोपालगंज पहुंचा था। सितंबर 2014 से ही वह अपना नाम-पता बदल कर यहां रहता था। गोपालगंज आने के बाद वह जंगलिया में किराये के मकान में सोहैल खान के नाम से रहने लगा।

कई फर्जी सर्टिफिकेट बनवाए थे आंतकी

महफूज ने बैंक अकाउंट, पासपोर्ट और फर्जी सर्टिफिकेट बनवा लिए। साथ ही जादोपुर रोड स्थित आईआईएल नामक कोचिंग संस्थान में मोटिवेटर के रूप में काम करने लगा। करीब 13 माह बाद पास में ही स्थित एक निजी स्कूल में अपने दोस्त के साथ शिक्षक के रूप में जुलाई 2016 तक काम किया। साथ ही अपने दोस्त के साथ खुद का कोचिंग सेंटर चलाने लगा था। देश में हुए आतंकी हमले को लेकर एनआईए की टीम नईम की तलाश करते हुए इसी वर्ष फरवरी में गोपालगंज पहुंची थी। लेकिन इसकी भनक लगते ही नईम भूमिगत हो गया था। एनआईए की जांच के बाद फरवरी में मकान मालिक ने नईम के सेंटर को खाली करा दिया था। जब एनआईए ने मकान मालिक व कोचिंग संस्थान में जांच कर चली गई तो नईम अपना पूरा सेटअप औने-पौने दाम में बेचकर फरार हो गया।

कोचिंग संस्थान के नाम पर चला रहा था आतंक का सेंटर

आतंकी नईम ने गोपालगंज में सोहैल खान बनकर जादोपुर रोड के हरी मार्केट में दोस्त के साथ स्मार्ट लर्नर एकेडमी कोचिंग खोल रखा था। इसमें वह युवाओं को अपने संगठन से जुड़े खास तरह के मोटिवेशन करने का काम करता था। इसमें करीब 50 लाख रुपये से कम्प्यूटर, प्रोजेक्टर, इंटरनेट आदि अत्याधुनिक संसाधन को लगा रखा था।

बोधगया में सीसीटीवी में दिखा था महफूज का चेहरा


बोधगया में महाबोधि मंदिर के परिसर के पास और अन्य जगहों से सूटकेस में रखे दो आईईडी बम बरामद किए गए थे। इसकी जांच एनआईए ही कर रही है। जांच के दौरान एनआईए को सीसीटीवी फुटेज से तीन संदिग्धों की तस्वीरें हाथ लगी थी।

लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी शेख नईम। लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी शेख नईम।
दिसंबर में अरेस्ट किया गया धन्नु राजा। (फाइल फोटो) दिसंबर में अरेस्ट किया गया धन्नु राजा। (फाइल फोटो)
महफूज हाशमी। (फाइल फोटो) महफूज हाशमी। (फाइल फोटो)
X
एनआईए द्वारा अरेस्ट किया गया गोपालगंज बिहार का महफूज हाशमी। (फाइल फोटो)एनआईए द्वारा अरेस्ट किया गया गोपालगंज बिहार का महफूज हाशमी। (फाइल फोटो)
लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी शेख नईम।लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी शेख नईम।
दिसंबर में अरेस्ट किया गया धन्नु राजा। (फाइल फोटो)दिसंबर में अरेस्ट किया गया धन्नु राजा। (फाइल फोटो)
महफूज हाशमी। (फाइल फोटो)महफूज हाशमी। (फाइल फोटो)
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..