--Advertisement--

500 रुपए नहीं मिले तो मां आैर बेटे को घर में बंदकर युवक ने फांसी लगा दी जान

मृतक के पुत्र दीपक कुमार (12) ने बताया पिताजी काम नहीं करते थे। मां चौका-बर्तन करके किसी तरह जीवन-यापन चलाती थी।

Danik Bhaskar | Mar 13, 2018, 06:52 AM IST

अररिया. सदर थाना क्षेत्र के राहिका टोला वार्ड-17 में रविवार की देर रात सुबोध कुमार यादव(40) ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। फांसी लगाने से पहले उसने अपने बेटे और पत्नी को घर में बंद कर दिया था। फंदा लगने के दौरान तड़पने की आवाज सुनकर पत्नी फाटका तोड़कर घर से निकली। लेकिन तब तक उसकी मौत हो चुकी थी। आसपास के लोगों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। उसके बाद पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल भेज दिया।

इस संबंध में मृतक के पुत्र दीपक कुमार (12) ने बताया पिताजी काम नहीं करते थे। मां चौका-बर्तन करके किसी तरह जीवन-यापन चलाती थी। लेकिन मां के पैसे पर भी हमेशा पिताजी की नजर लगी रहती थी। वे पैसे के लिए अक्सर मां को पीटते थे। उसने बताया कि घटना के दिन भी पिताजी ने मम्मी से पांच सौ रुपए मांगा था लेकिन मां के पास पैसे नहीं थे इसलिए वह नहीं दे पाई। जिस के बाद पिताजी ने मां को बुरी तरह से पीटा। इसके बाद उसे हमलोगों को घर में बंद कर के खंभे में तौली बांधकर फांसी लगा ली।


चोरी के आरोप में तीन दिन पहले था हाजत में बंद


आसपास के लोगों ने बताया कि मृत युवक चोरी भी करता था। घटना से तीन दिन पहले ही वह कहीं से लोहे का रड चुराकर लाया था। पड़ोसियों ने उसे रड लाते देख लिया था। पड़ोसियों ने लोहा चोरी करने की सूचना पुलिस को भी दी। पुलिस ने पकड़कर हाजत में भी बंद किया था। लेकिन किसी ने लिखित आवेदन नहीं दिया तो देर संध्या उसे छोड़ दिया गया। आसपास के लोगों ने बताया कि युवक होली से दो दिन पूर्व ही पंजाब से आया था। वह अक्सर मजदूरी करने पंजाब जाता था। लेकिन एक माह में ही वह घूम कर चला आता था।


दो वर्ष पूर्व शराब पीने से हुई थी छोटे भाई की मौत
आसपास के लोगों ने बताया कि सुबोध अपने छोटे भाई से भी अक्सर मारपीट करता था। भाई की प्रताड़ना से तंग आकर छोटा भाई ने अत्यधिक शराब का सेवन किया। अत्यधिक शराब का सेवन करने के कारण उसकी मौत हो गई थी। बताया जा रहा है कि वह अपने छोटे भाई की पत्नी को भी अक्सर मारपीट करता रहता था।