--Advertisement--

मीनू मर्डर केस : पिता ने कहा, झूठ बोल रहा दामाद, भाइयों के साथ मिल बेटी को मार डाला

मृतका के पिता ने बताया कि दो माह पहले दामाद कार खरीदने के लिए पांच लाख रुपए मांग रहा था।

Dainik Bhaskar

Mar 15, 2018, 03:45 AM IST
meenu murder case in Bhagalpur

भागलपुर. इशाकचक में मीनू सिंह की मौत मामले में मृतका के पिता सतीशचंद्र सिंह (तेवाचक, धोरैया, बांका) ने इशाकचक थाने में अपने दामाद राजीव रंजन सिंह, उनके भाई संजीव सिंह और आलोक रंजन सिंह उर्फ पमपम सिंह के खिलाफ हत्या और सबूत मिटाने का केस दर्ज कराया है। पिता का कहना है कि दामाद और उसके दोनों भाइयों ने मिलकर मीनू की हत्या कर दी और लाश को पंखे से टांग कर आत्महत्या का रूप देने की कोशिश की।

मृतका के पिता ने बताया कि दो माह पहले दामाद कार खरीदने के लिए पांच लाख रुपए मांग रहा था। पैसे नहीं मिलने पर मीनू की हत्या की धमकी दी जा रही थी। इस बात की जानकारी मीनू ने अपनी मां को दी थी। दामाद से मैंने इस मुद्दे पर फोन पर बात की तो उन्होंने गाली-गलौज की और धमकी दी कि मीनू को बदनाम कर मार डालेंगे, अापकी इज्जत कहीं की नहीं रहेगी।

आत्महत्या पर पिता ने उठाया सवाल, कहा-मीनू का गला घोंटा गया है


सतीशचंद्र सिंह सीतामढ़ी जिला बल में दारोगा हैं और वहां के भिट्ठा मोड़ थाने में थानेदार हैं। घटना की सूचना पाकर वे रात करीब दो बजे बेटी के ससुराल भागलपुर पहुंचे। पिता का कहना है कि मीनू आत्महत्या नहीं कर सकती है। जिस कमरे में उसकी लाश मिली थी, उस कमरे की ऊंचाई काफी है। पलंग पर कुर्सी रख कर भी मीनू पंखे में दुपट्टे का फंदा नहीं बांध सकती है। क्योंकि उसकी लंबाई उतनी नहीं थी। आत्महत्या करने के बाद जीभ बाहर आती है, लेकिन ऐसा नहीं हुआ था। उसके गले में गला घोंटने का निशान साफ दिखाई दे रहा है। जिस दुपट्टे के सहारे फांसी लगाने की बात कही जा रही है, वह नाइलॉन का है और उस पर भार पड़ने से रबर की तरह वह बढ़ जाता है। ऐसे में मीनू के आत्महत्या करने पर उसका पैर पलंग में सट जाता और उसकी जान बच जाती। रस्सी के फंदे से गला दबा कर मीनू को उसके पति और उसके दोनों भाइयों ने मार डाला है।

पोस्टमार्टम से खुलेगा मीनू की मौत का राज


मीनू की पोस्टमार्टम रिपोर्ट अभी नहीं आई है। रिपोर्ट से यह पता चल जाएगा कि उसे गला घोंट कर मार गया है या उसने आत्महत्या की है। आगे की कार्रवाई के लिए पुलिस को पोस्टमार्टम रिपोर्ट का बेसब्री से इंतजार है।

आरोप:हत्या के बाद दामाद ने कहा था आपकी बेटी का काम तमाम हो गया


सतीशचंद्र सिंह ने आरोप लगाया कि हत्या के बाद दामाद ने मुझे फोन किया और कहा कि आपकी बेटी का काम तमाम हो गया है। आप आकर लाश ले जाओ। मैंने (दामाद) पुलिस और मीडिया को खबर कर दिया है। पिता ने यह भी कहा कि दामाद ने मुझे मैसेज का कोई स्क्रीन शॉट वहाट्सएप पर नहीं भेजा है। वह झूठ बोल रहा है। मुझे वहाट्सएप चलाना भी नहीं आता है। दामाद का यह कहना कि मीनू की मौत पर मैंने कहा-मरी कि नहीं? यह भी झूठ है। बेटी के वहाट्सएप मैसेज की जानकारी नहीं है। हो सकता है कि उसका वहाट्सएप उसका पति चला रहा हो।

बड़ा सवाल : शशि को क्यों बचा रहे हैं मायकेवाले?


मीनू की कथित हत्या में उसका कथित प्रेमी शशि भूषण यादव संदिग्ध है। वह विवि थाना क्षेत्र के साहेबगंज मोहल्ले का रहने वाला है। मौत से पहले मीनू की शशि से व्हाट्सएप पर सुबह 9.08 बजे से लेकर 9.39 बजे तक लंबी चैटिंग हुई थी। उस चैटिंग से पूरी घटना पानी की तरह साफ है। लेकिन मीनू के मायके वाले शशि को बचाने में लगे हुए हैं। केस में उसका कहीं उल्लेख नहीं किया।

शशि को गिरफ्तार करने का दिया है निर्देश


एसएसपी मनोज कुमार ने कहा कि पिता के आवेदन पर हत्या का केस दर्ज कर लिया गया है। जांच में मीनू की मौत में शशि भूषण यादव के खिलाफ डिजिटल एवीडेंस मिला है। वहाट्सएप मैसेज इस केस का बड़ा आधार है।

meenu murder case in Bhagalpur
X
meenu murder case in Bhagalpur
meenu murder case in Bhagalpur
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..