--Advertisement--

यहां हो रही नाबालिग की शादी रोकी, लड़की के पिता से भरवाया बांड

जांच में पता चला कि नाबालिग लड़की की शादी के लिए बारात मोतिहारी के मीनाबाजार से आने वाली है।

Danik Bhaskar | Feb 09, 2018, 07:02 AM IST

पटना. मंडप, तोरणद्वार, भोज व बारात के स्वागत की तैयारी हो चुकी थी। गुरुवार को इंतजार था, सिर्फ बालिका वधू के डोली उठने की। बारात भी मोतिहारी से रवाना हो चुकी थी। दिन के करीब 2 बजे अचानक प्रशासनिक अधिकारियों के पहुंचते ही विवाह मंडप में खलबली मच गई। मंडप में उस वक्त बालिका वधू काे बैठा कर रस्म-ओ-रिवाज चल रहा था।


सुल्तानगंज थाना क्षेत्र के आंबेडकर कॉलोनी से एसडीओ राजेश रौशन को सूचना मिली कि सुरेश राम के नाबालिग बेटी की बारात आने वाली है। प्रशासन ने इस मामले में कड़ा रूख अख्तियार करते हुए घर पर पहुंच कर साफ शब्दों का कहा कि नाबालिग की डोली नहीं उठेगी। एसडीओ के साथ कार्यपालक दंडाधिकारी राज लक्ष्मी व सुल्तानगंज थानाध्यक्ष डीके श्रीवास्तव ने परिवार वालों को इस संबंध में कानून का हवाला देते हुए समझा-बुझाया और स्पष्ट शब्दों में कहा कि अगर शादी होती है, तो प्राथमिकी दर्ज कर सभी लोग जेल जाएंगे। प्रशासनिक अधिकारियों ने परिवार वालों ने शादी का कार्ड मांगा तो देने से इनकार कर दिया।

जांच में पता चला कि नाबालिग लड़की की शादी के लिए बारात मोतिहारी के मीनाबाजार से आने वाली है। प्रशासन की कार्रवाई से मोहल्ले के कुछ लोगों का गुस्सा बढ़ने लगा था। लड़की की उम्र 15 साल बताई गई है। प्रशासन के सख्त रवैया के बाद पिता ने लड़के वाले को कॉल कर बारात नहीं लाने की सूचना दी। बारात कुछ लोग निकल चुके थे, जो रास्ते से वापस लौटे। एसडीओ राजेश रौशन ने बताया कि नाबालिग की शादी नहीं हो, इसके लिए विकास मित्र की यहां पर तैनाती कर दी गई है। इसके अलावा सुल्तानगंज थाना की पुलिस भी तैनात है। थाना ने पिता से बॉन्ड भरवाया है कि नाबालिग पुत्री की शादी नहीं करेंगे। परिजनों ने बताया कि नाबालिग दो बहनों में छोटी है। बड़ी बहन की शादी हो चुकी है। तीन भाई हैं। पिता मिशनरी के एक अस्पताल में काम करते हैं।