--Advertisement--

14 दिनों से गायब शख्स की सड़ी-गली लाश मिली, लोगों ने किया पुलिस पर हमला

बीते 14 दिनों से मुकेश गायब था, लेकिन खोजना तो दूर पुलिस ने एफआइआर तक दर्ज नहीं की।

Dainik Bhaskar

Dec 13, 2017, 06:26 AM IST
Missing rickshaw drivers dead body recovered

हाजीपुर. टाउन थाना एरिया में 14 दिनों से लापता रिक्शा चालक की डेडबॉडी सड़ी-गली हालत में मिली जिसके बाद लोगों ने हंगामा शुरू कर दिया। मौके पर पहुंची पुलिस पर लोगों ने हमला भी किया। बताया जा रहा है कि पुलिस पर जलते टायर तक फेंके गए। उधर, मृतक मुकेश कुमार शाह की पत्नी संजू देवी ने कहा कि कई बार गई लेकिन इंस्पेक्टर साहब ने भगा दिया। महिला ने कहा कि तुम लोगों ने ये सब किया है और यहां झूठा मुकदमा कराने आए हो।

पुलिस ने एफआईआर भी नहीं की थी दर्ज

बीते 14 दिनों से मुकेश गायब था, लेकिन खोजना तो दूर पुलिस ने एफआइआर तक दर्ज नहीं की। आखिरकार रविवार को उसकी सड़ी हुई लाश सोनपुर थाना क्षेत्र से बरामद हुई। शव को लेकर आए परिजनों और ग्रामीणों का गुस्सा पुलिस पर मंगलवार की देर शाम फूट पड़ा। दिघी महुआ मोड़ पर लोगों ने शव को रखकर एनएच 77 और महुआ रोड को जाम कर दिया। लोगों ने टायर जलाकर पुलिस के खिलाफ नारेबाजी की। भीड़ से ही किसी ने जलते हुए टायर को पुलिस पर फेंक दिया, जिसके बाद पुलिस ने लाठीचार्ज किया। इस घटना में कई पुलिसकर्मी और आमलोगों को चोटें आई हैं। चार घंटे के बाद एसपी के आश्वासन पर जाम हटाया।


होमगार्ड होने के बाद भी ठोकर खाते रहे रामकिशुन
मृतक मुकेश कुमार के पिता रामकिशुन साह होमगार्ड जवान हैं। उन्हें रामाशीष चौक पर ट्रैफिक में तैनात किया गया था। पुलिस के साथ काम करने के बावजूद वे अपने बेटे के गायब होने की प्राथमिकी दर्ज कराने के लिए भटकते रहे। एसपी के आदेश पर एफआइआर दर्ज हुआ।

रिक्शा चोरी से मुकेश की हत्या तक पत्नी की जुबानी

पानापुर लंगा निवासी होमगार्ड जवान रामकिशुन साह का बेटा मुकेश साह सीता चौक निवासी मिथिलेश कुमार सिंह का रिक्शा डेली वेज पर चलाता था। मुकेश की पत्नी ने बताया कि बीते 25 नवंबर को मुकेश रिक्शा लेकर स्टेशन गया था, जहां से रिक्शा चोरी हो गया। चोरी होने के बाद मिथिलेश सिंह ने 27 नवंबर को उसे अपने घर बुलाया और बांधकर पिटाई की। पिटाई के बाद परिजनों को बुलाया और कहा कि 16 हजार रुपए लेकर आओ और बेटा ले जाओ। मुकेश के परिजनों को तीन-चार दिन लग गए पैसे का इंतजाम करने में। जब चार दिन बाद उसके परिजन मिथिलेश सिंह के पास पहुंचे तो उसने कहा कि तुमलोगों ने ही अपने बेटे को छुपा दिया है। तब वे लोग नगर थाना पहुंचे, जहां नगर थानाध्यक्ष ने भी उनलोगों को भगा दिया।

हत्या 6 से 7 दिन पहले हुई
मुकेश की हत्या पीट पीट कर ही की गई थी। उसकी लाश पूरी तरह सड़ चुकी थी। उसकी हत्या 6 से 7 दिनों पहले ही की गई है। 27 नवंबर से वह गायब था और शव 10 नवंबर को मिला। 27 तारीख से लापता मुकेश कुमार साह के शव की जानकारी परिजनों को दैनिक भास्कर में छपी खबर के बाद हुई। खबर पढने के बाद परिजन शव की शिनाख्त करने छपरा सदर अस्पताल गए तब उन्हें पता चला कि यह उन्ही का बेटा है।

एसपी ने बताया
बीते 9 तारीख को मृतक के परिजन हमारे पास आए थे। मैने फोन करके नगर थाने को एफआइआर दर्ज कर उसका नंबर देने को कहा था। सोमवार को एफआइआर दर्ज हुआ। पुलिस आरोपी के घर छापेमारी करने भी गई थी लेकिन उसका पूरा परिवार फरार हो गया।

Missing rickshaw drivers dead body recovered
Missing rickshaw drivers dead body recovered
Missing rickshaw drivers dead body recovered
X
Missing rickshaw drivers dead body recovered
Missing rickshaw drivers dead body recovered
Missing rickshaw drivers dead body recovered
Missing rickshaw drivers dead body recovered
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..