पटना

--Advertisement--

खुद को आग लगाने के बाद चीखती रहीं मां-बेटी, झांकने तक नहीं आए पड़ोसी

कुछ लोगों ने बताया कि शनिवार सुबह विनय ठाकुर के घर से आग की लपटें उठने लगी और मां बेटी दोनों जमीन पर पड़ी थीं।

Danik Bhaskar

Jan 07, 2018, 07:11 AM IST
आग लगाने के बाद दोनों चीखती रही लेकिन रात होने की वजह से पड़ोसियों ने उनकी आवाज नहीं सुनी। आग लगाने के बाद दोनों चीखती रही लेकिन रात होने की वजह से पड़ोसियों ने उनकी आवाज नहीं सुनी।

भागलपुर. यहां पति की प्रताड़ना से तंग आकर एक 50 साल की महिला ने अपनी 20 साल की बेटी के साथ आग लगाकर सुसाइड की कोशिश की। बताया जा रहा है कि आग लगाने के बाद दोनों चीखती रही लेकिन रात होने की वजह से पड़ोसियों ने उनकी आवाज नहीं सुनी। जिससे उन्हें मदद नहीं मिल पाई। हादसे में महिला 90 जबकि उसकी बेटी 50 फीसदी झुलस गई है। बताया जा रहा है कि महिला का पति पिछले 30 साल से उसे प्रताड़ित करता था। इस दौरान दोनों की बेटिया बीच-बचाव करती थीं।


इस वजह से पति करता था प्रताड़ित

- 30 साल पहले हेमा नाम की महिला की शादी विनय से हुई थी। दांपत्य जीवन के दौरान विनय ठाकुर ने अपनी पत्नी हेमा को मानसिक एवं शारीरिक रूप से लगातार प्रताड़ित करते रहते थे।

- इस दौरान हेमा और विनय को दो बेटियां हुईं। बताया जा रहा है कि बेटा न होने के चलते विनय अक्सर हेमा की पिटाई करता था। ये सिलसिला लगातार 30 सालों से चला आ रहा था।

- जब दोनों बेटियां बड़ी हुई तो दोनों बेटियों पर भी विनय ठाकुर ने कम अत्याचार नहीं किया। विनय पत्नी के साथ मारपीट एवं गाली गलौज करता था तो उनकी दोनों बेटियां मां के बचाव में सामने आती थी।।

- फिर दोनों बेटियों की भी पिटाई होती थी। हेमा की बड़ी बेटी की शादी भी समाज के लोगों ने मिलजुल कर किसी तरह करवाई थी। दोनों बेटियों को विनय ठाकुर हमेशा घृणा के दृष्टि से देखता रहता था।

- बड़ी बेटी की शादी के बाद घर में बची छोटी बेटी ही हेमा का एकमात्र सहारा बच गई थी। लगातार 30 सालों से बेटा नहीं जनने के कारण अपने पति की प्रताड़ना से दोनों मां बेटी इस कदर तंग आ चुकी थी कि दोनों ने अपने आप को आग के हवाले कर दिया।

घर में ताला लगाकर पति फरार, पड़ोसियों ने साधी चुप्पी

- घटना के बाद विनय ठाकुर अपनी पत्नी और बेटी को लेकर जब मायागंज हॉस्पिटल पहुंचे तो डॉक्टरों ने स्थिति की गंभीरता को देखते हुए दोनों को पटना पीएमसीएच रेफर कर दिया।

- उधर, पुलिस जब महिला का बयान लेने के लिए अस्पताल पहुंची तो इसी क्रम में विनय ठाकुर अपनी पत्नी और बेटी को छोड़कर अस्पताल से फरार हो गया।

- इसके बाद किसी तरह अस्पताल प्रशासन ने एंबुलेंस के जरिए दोनों को पटना पीएमसीएच भेजा। विनय ठाकुर के घर पर ताला लटका हुआ है। लोग घटना को लेकर कुछ भी बोलने से परहेज कर रहे हैं।

मां-बेटी को हाथ लगाने तक को तैयार नहीं थे पड़ोसी

- हालांकि कुछ लोगों ने बताया कि शनिवार सुबह विनय ठाकुर के घर से आग की लपटें उठने लगी और मां बेटी दोनों जमीन पर पड़ी थीं।

- दोनों हेल्प के लिए चिल्ला रही थी लेकिन उन्हें बचाने को कोई पड़ोसी आगे नहीं आ रहा था। इसके बाद कुछ लोगों ने इसकी जानकारी महिला के भाई को दी।

- फिर उसने अपने एक साथी के साथ मां-बेटी को टेंपो पर लादकर स्थानीय स्वास्थ्य केंद्र पहुंचा। इस दौरान महिला का पति एक कोने में बैठा सबकुछ देखता रहा।

हादसे में महिला 90 जबकि उसकी बेटी 50 फीसदी झुलस गई है। हादसे में महिला 90 जबकि उसकी बेटी 50 फीसदी झुलस गई है।
महिला का पति पिछले 30 साल से उसे प्रताड़ित करता था। इस दौरान दोनों की बेटिया बीच-बचाव करती थीं। महिला का पति पिछले 30 साल से उसे प्रताड़ित करता था। इस दौरान दोनों की बेटिया बीच-बचाव करती थीं।
50 फीसदी झुलस चुकी लड़की ने अपने पिता को शैतान बताया है। 50 फीसदी झुलस चुकी लड़की ने अपने पिता को शैतान बताया है।
विनय और हेमा की दो बेटियां हैं। विनय और हेमा की दो बेटियां हैं।
बड़ी बेटी की शादी हो चुकी है जबकि छोटी बेटी कुसुम इनके साथ रहती है। बड़ी बेटी की शादी हो चुकी है जबकि छोटी बेटी कुसुम इनके साथ रहती है।
कुसुम ने बताया कि वो अपने पिता को सजा दिलाएगी। कुसुम ने बताया कि वो अपने पिता को सजा दिलाएगी।
Click to listen..