पटना

--Advertisement--

पड़ोसी ने की थी इस महिला की हत्या, इस तरीके से हुई हत्या के आरोपी की पहचान

सदर थानाध्यक्ष चितरंजन ठाकुर ने बताया कि पुलिस को शुरू से ही हीरा पासवान पर शक था।

Danik Bhaskar

Jan 17, 2018, 04:02 AM IST

हाजीपुर. सदर थाने की पुलिस ने सुनीता देवी मर्डर केस का खुलासा कर लिया है। मृतका के पड़ोसी हीरा पासवान ने घटना को अंजाम दिया था। पुलिस के पूछताछ में उसने अपराध कबूल कर लिया। खेत में किसी बात को लेकर हुए झगड़े के बाद उसने सुनीता की हत्या कर दी थी। साड़ी के टुकड़े से सुनीता का गला घाेंटा गया था। इसके बाद ईंट से उसके चेहरे को बिगाड़ने का प्रयास भी किया गया था। हीरा को पुलिस ने मंगलवार को जेल भेज दिया।

इस वजह से की थी हत्या


आरोपी ने बताया कि पहले भी कई महिलाओं से उसका झगड़ा हो चुका था। घटना के दिन जैसे ही सुनीता देवी खेत में गई वह झगड़ने लगा। इसी में बात बढ़ गई। गुस्साए हीरा ने सुनीता की हत्या कर दी। रामायण दास की पत्नी सुनीता देवी के शव के पास से पुलिस को खून से सना एक साड़ी का टुकड़ा मिला था। पुलिस ने जब जांच की तो पता चला कि यह साड़ी हीरा पासवान के मचान में बंधा देखा गया था। फसल की रखवाली के लिए आरोपी ने बांस का एक मचान बनाया था। उस मचान को बांधने के लिए रस्सी की जगह उसी साड़ी के टुकड़े का इस्तेमाल किया गया था।

आरोपी की चादर और गमछे पर मिले खून के निशान

सदर थाने की पुलिस ने सुराग मिलते ही हीरा पासवान को हिरासत में लिया। उसके सामानों की जांच की गई, तो उसके ओढ़े हुए चादर और गमछे पर खून के निशान मिले। हालांकि की चादर को कई बार साफ कर खून के धब्बे को मिटाने का प्रयास किया गया था। लेकिन निशान पूरी तरह मिट नहीं सका था।

हत्या कर मृतिका के घर पहुंचा था आरोपी


आरोपी हीरा पासवान ने सुनीता देवी की हत्या के बाद शव को खेत में छोड़ दिया और अपने घर आ गया। आसपास के लोगों को शक न हो इसके लिए वह मृतका के घर पहुंच गया।

कहते हैं थानाध्यक्ष


सदर थानाध्यक्ष चितरंजन ठाकुर ने बताया कि पुलिस को शुरू से ही हीरा पासवान पर शक था। शक यकीन में बदलते ही एसआई संजीव कुमार, दिनेश कुमार यादव आदि के साथ के साथ घर पहुंचकर आरोपी की गिरफ्तारी की गई।

Click to listen..