पटना

--Advertisement--

पूजा स्थल तक नहीं पहुंच सके पुलिस इसलिए नक्सलियों ने लैंड माइंस लगाकर की घेराबंदी

जमुई और लखीसराय पुलिस को नक्सलियों ने एक बड़ी चुनौती दी है।

Dainik Bhaskar

Feb 08, 2018, 06:33 AM IST
Naxalites taken charge of organizing pooja itself

जमुई. जमुई और लखीसराय पुलिस को नक्सलियों ने एक बड़ी चुनौती दी है। इस वर्ष जमुई के कुमरतरी और लखीसराय के बरमसिया के बीच बने बढियाथान मंदिर में हो रही वार्षिक पूजा की जिम्मेवारी पूरी तरह नक्सलियों ने ले रखी है। चूंकि इस बार कुमरतरी गांव के ग्रामीण इस क्षेत्र को छोड़ कर जा चुके हैं, इसलिए नक्सलियों ने पूजा के आयोजन का जिम्मा खुद संभाला है।

पहले इस पूजा के आयोजन में ग्रामीणों को नक्सलियों का बैक सपोर्ट प्राप्त होता था। इस बात की जानकारी जमुई और लखीसराय के पुलिस अधिकारियों को भी है, लेकिन पुलिस इस पूजा के दौरान कार्रवाई करने में असमर्थ दिख रही है। जबकि कुमरतरी के बरहट थानाक्षेत्र स्थित 331 बटालियन का सीआरपीएफ कैंप है, जबकि बरमसिया से कुछ दूरी पर बंधु बगीचा नामक स्थान पर भी इसी कंपनी का एक और कैंप है, जो लखीसराय जिले में है। इसी रास्ते में बसुआचक के पास भी एक सीआरपीएफ कैंप है। तीन सीआरपीएफ कैंप होने के बावजूद भी नक्सली अपने आयोजन में सफल दिख रहे हैं। वजह यह माना जा रहा है कि इस पूजा के दौरान नक्सली आयोजन स्थल से काफी दूरी तक लैंड माइंस लगा कर उसकी घेराबंदी कर रखी है। इस पूजा समिति के अध्यक्ष शीर्ष नक्सली सिरी कोड़ा एवं सचिव अर्जुन कोड़ा हैं। सिरी कोड़ा के बारे में बताया जाता है कि वह सीमांत जोनल सेंट्रल कमेटी के सदस्य प्रवेश दा का दाहिना हाथ है। 5 फरवरी से 9 फरवरी तक चलने वाली यह पूजा पुलिस के लिए एक बड़ी चुनौती है।

बारूद लगाने में विस्फोट से 5 नक्सलियों की हुई थी मौत
पूजा स्थल की सुरक्षा के लिए एक 31 जनवरी को नक्सलियों द्वारा लैंड माइंस लगाया जा रहा था, इसी दौरान विस्फोट होने से बाकुड़ा गांव के पास कुड़रिया कोड़ा सहित उसके चार सहयोगियों की मौत हो गई थी। कुडरिया कोड़ा पिता झझन कोड़ा बरमसिया गांव का रहने वाला था। इस संबंध में लखीसराय एसपी ने बताया कि विस्फोट में कुडरिया के साथ उसके पांच सहयोगी की मौत हुई थी।

एसटीएफ टीम को कार्रवाई के लिए भेजा गया है
नक्सलियों के इस आयोजन की जानकारी है। इस अायोजन को लेकर व्यापक पैमाने पर नक्सलियों ने लैंड माईंस लगाया है। सुरक्षा को देखते हुए एसटीएफ की टीम को पैदल भेजा गया है। नक्सलियों के खिलाफ कार्रवाई के लिए सुरक्षा बलों द्वारा रणनीति तैयार कर ली गई है और कार्रवाई भी की जाएगी। अरविंद ठाकुर, एसपी, लखीसराय

तीन दिन से चल रही है पूजा कार्रवाई में पुलिस नाकाम
सीआरपीएफ, एसटीएफ की कोबरा बटालियन व अन्य सुरक्षा बलों द्वारा नक्सलियों के खिलाफ आॅपरेशन चलाए जाने की बात कही जाती है। लेकिन इस पूजा में शामिल हो रहे दर्जनों शीर्ष नक्सलियों के विरुद्ध कार्रवाई करने व पर्याप्त सुरक्षा बल का दावा करने वाली पुलिस मूकदर्शक बनी है। पूजा के तीन दिन बीत गए, लेकिन पुलिस जानकारी के बाद भी पूजा स्थल तक नहीं पहुंच सकी।

हमें आयोजन के बारे में नहीं है जानकारी
क्षेत्र लखीसराय जिला का है, लेकिन सीमाक्षेत्र से सटे होने के कारण जमुई पुलिस द्वारा भी सूचना मिलने पर कार्रवाई की जाती है। इस पूजा की हमें जानकारी नहीं मिली है। लखीसराय पुलिस द्वारा अगर ऐसा कुछ बताया जाता है तो हमारा पूरा सहयोग रहेगा। जगन्नाथ रेड्‌डी, एसपी, जमुई

X
Naxalites taken charge of organizing pooja itself
Click to listen..