Hindi News »Bihar »Patna» Negligency Of District Administration For National Player

इस वजह से ओलिंपिक नहीं जा पाएगी ये चैंपियन, पत्थर तोड़ने को होगी मजबूर

मीनू कहती है कि जब सेंटर बंद हो जाएगा तो यहां क्या करूंगी। गांव जाकर पिता और भाई के साथ पत्थर तोड़ूंगी।

संजय कुमार | Last Modified - Dec 27, 2017, 08:07 AM IST

  • इस वजह से ओलिंपिक नहीं जा पाएगी ये चैंपियन, पत्थर तोड़ने को होगी मजबूर
    +3और स्लाइड देखें
    मीनू सोरेन। (फाइल फोटो)

    भागलपुर. हरियाणा में नेशनल स्कूल एथलेटिक्स कॉम्पिटीशन में जेवलिन थ्रो में गोल्ड जीतकर बिहार का नाम रोशन करने वाली एथलीट मीनू सोरेन का इंटरनेशनल ओलंपिक खेलने का सपना टूटता नजर आ रहा है। 8 लाख रुपए बकाया होने पर राजकीय बालिका इंटर स्कूल स्थित एकलव्य राज्य आवासीय एथलेटिक्स गर्ल्स ट्रेनिंग सेंटर के प्रिंसिपल ने पहली जनवरी से सेंटर बंद करने की घोषणा कर दी है।

    पिता के साथ पत्थर तोड़ने को मजबूर होगी मीनू

    इस सेंटर के बंद होने के बाद मीनू को भी गांव लौटना होगा। वो आगे की लाइफ के लिए अपने पिता मान सिंह सोरेन के साथ पहाड़ियों में पत्थर तोड़ने को मजबूर होंगी। मीनू कहती है कि जब सेंटर बंद हो जाएगा तो यहां क्या करूंगी। गांव जाकर पिता और भाई के साथ पत्थर तोड़ूंगी।

    नेशनल विजेता को हरा जीता था गोल्ड

    मीनू ने 21 दिसंबर को रोहतक में नेशनल स्कूल एथलेटिक्स चैंपियनशिप में जेवलिन थ्रो में नेशनल विनर कर्नाटक की रुनझुन पेगू को कड़ी शिकस्त दी थी। मीनू ने 44.41 मीटर भाला फेंककर गोल्ड हासिल किया था। मालूम हो कि नेशनल रिकॉर्ड 46.38 मीटर हरियाणा के पुष्पा झाखड़ के नाम है। नेशनल टीम ने उसे ओलिंपिक गेम में भेजने का फैसला लिया था।

    लाखों बकाया, नहीं चला सकते सेंटर : प्रिंसिपल

    सेंटर के प्रिंसिपल डॉक्टर सुभाष कुमार झा ने बताया कि सेंटर शुरू होने के बाद से आज तक कभी भी समय से सेंटर को जिला खेल पदाधिकारी द्वारा विपत्र का भुगतान नहीं किया गया है। मैंने डीएम और सरकार को तमाम कारणों को बताते हुए एक जनवरी से केंद्र को बंद करने के निर्णय की जानकारी दे दी है।

    भास्कर अपील : मदद मिले तो देश का नाम रोशन कर सकती है मीनू

    मीनू के सपनों का खत्म होना एक संभावना का, सम्मान का खत्म हो जाना है। बिहार ओलंपिक संघ ने दैनिक भास्कर को यकीन दिलाया है कि ट्रेनिंग की व्यवस्था वे लोग कर लेंगे बस उसके रहने और खाने-पीने की जरूरत का समाधान हो जाए। अगर आप मीनू की मदद करना चाहते हैं तो 9431251290 पर फोन कर सकते हैं।

  • इस वजह से ओलिंपिक नहीं जा पाएगी ये चैंपियन, पत्थर तोड़ने को होगी मजबूर
    +3और स्लाइड देखें
    जब गोल्ड मेडल जीतकर आई थी मीनू सोरेन।
  • इस वजह से ओलिंपिक नहीं जा पाएगी ये चैंपियन, पत्थर तोड़ने को होगी मजबूर
    +3और स्लाइड देखें
    गोल्ड जितने के बाद घरवालों ने मीनू का ऐसे वेलकम किया था।
  • इस वजह से ओलिंपिक नहीं जा पाएगी ये चैंपियन, पत्थर तोड़ने को होगी मजबूर
    +3और स्लाइड देखें
    मीनू को मिठाई खिलाते उनके फैमिली मेंबर्स।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Patna News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Negligency Of District Administration For National Player
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Patna

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×