--Advertisement--

भास्कर एक्सक्लूसिव : नक्सली गढ़ में अपराधियों ने बनाया न्यू एमसीसी

इसका प्रभाव क्षेत्र अभी सीमित एरिया विशेषकर गया जिले के शेरघाटी इलाके में सिमटा हुआ है।

Dainik Bhaskar

Feb 07, 2018, 05:50 AM IST
New MCC created by criminals in Sherghati Bihar

पटना. राज्य के अपराध जगत की नई सच्चाई।... नक्सलियों के गढ़ में आतंक का नया संगठन ‘न्यू एमसीसी’ खड़ा हुआ है। इसके पीछे अपराधी व पुराने नक्सलियों का नया गठजोड़ है। इसका नाम तो नक्सली संगठन जैसा लगता है, पर इसमें अपराधियों का अहम रोल है। दरअसल एंटी नक्सल ऑपरेशन में नक्सलियों के बैकफुट पर जाने के बीच आतंक का यह नया मॉड्यूल तैयार हुआ है। मकसद है लेवी (रंगदारी) वसूली के लिए आतंक फैलाना। इसके लिए खास फॉर्मूला है। पहले पर्चा या अन्य तरीके से न्यू एमसीसी के नाम पर लेवी की डिमांड करना। फिर रकम नहीं मिलने पर हिंसक उत्पात व आगजनी करना फितरत है।

बीते दिसंबर महीने में शेरघाटी में हुए हिंसक हमले के बाद पहली बार न्यू एमसीसी के पनपने के संकेत मिले थे। अहम पहलू यह भी है कि न्यू एमसीसी को चतरा (झारखंड) से पूर्व नक्सली सोनू रविदास उर्फ परमजीत ऑपरेट कर रहा है। बहरहाल बदले हालात में न्यू एमसीसी को लेकर एसटीएफ (स्पेशल टास्क फोर्स) व अन्य सुरक्षा व खुफिया एजेंसियों के कान खड़े हो गए हैं।

शेरघाटी में दी दुस्साहसिक दस्तक

न्यू एमसीसी का नेटवर्क दो राज्यों बिहार व झारखंड में फैला हुआ है। हालांकि इसका प्रभाव क्षेत्र अभी सीमित एरिया विशेषकर गया जिले के शेरघाटी इलाके में सिमटा हुआ है। बीते दिसंबर में लेवी को लेकर गुरुआ व आमस एरिया में न्यू एमसीसी के हथियारबंद गुर्गों ने दो वारदातों को अंजाम दिया था। गेल के पाइप लाइन पर हमला करने के अलावा निर्माण कार्य में लगे मजदूर व अन्य लोगों के साथ मारपीट की थी। वैसे इन दुस्साहसिक हरकतों ने स्थानीय स्तर पर पुलिस व खुफिया तंत्र की चौकसी पर भी सवाल खड़े कर दिए हैं।

सरगना की तलाश में एसटीएफ

न्यू एमसीसी के पनपने का सबूत मिलने के बाद एसटीएफ की पैनी नजर संगठन की गतिविधियों पर लगी है। शेरघाटी अनुमंडल में हुई दो वारदातों के बाद तफ्तीश में मिले सुराग पर आईजी (ऑपरेशन) कुंदन कृष्णन के निर्देशन में विशेष टीम विभिन्न जगहों से गिरोह के 8 गुर्गों को जेल भेज चुकी है। गिरोह के नेटवर्क के बारे में भी पता किया जा रहा है। सरगना परमजीत की तलाश में एसटीएफ ने कोबरा कमांडो के साथ चतरा तक घेराबंदी की पर वह अब तक हाथ नहीं आया है।

जारी है सरगना की तलाश

आईजी (ऑपरेशन) कुंदन कृष्णन ने बताया कि ‘स्पिलिंटर या शैडो ग्रुप की तरह है न्यू एमसीसी। इसमें पेशेवर अपराधी व पुराने नक्सली शामिल हैं। सरगना पूर्व नक्सली परमजीत पैसा देकर अपराधियों का इस्तेमाल कर रहा है। सरगना व अन्य गुर्गों की तलाश जारी है।’

खात्मे के कगार पर नक्सली, दो पॉकेट में सिमटे


कभी ढाई दर्जन से अधिक जिलों में पैर पसार चुके नक्सली अब राज्य में खात्मे के कगार पर हैं। सीआरपीएफ (बिहार सेक्टर) के आईजी एमएस भाटिया के मुताबिक लगातार चलाए जा रहे एंटी नक्सल ऑपरेशन की प्रभावी प्रहार शक्ति के कारण नक्सली बैक फुट पर हैं। उत्तर बिहार व मगध जोन से नक्सलियों का सफाया 99% तक हो गया है। अन्य इलाकों में 50 से 60% तक कमी आई है। नए लड़ाके नहीं मिल रहे हैं। आधार क्षेत्र में ही नक्सलियों के पैरों तो जमीन खिसक रही है। जमुई व हजारीबाग बॉर्डर से जुड़े दो पॉकेट में नक्सली सिमट गए हैं।

X
New MCC created by criminals in Sherghati Bihar
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..