Hindi News »Bihar »Patna» New Slab Will Be In GST Says Sushil Modi

डिप्टी सीएम बोले-जीएसटी में 12 और 18% टैक्स मिलाकर बनेगा नया स्लैब

सुशील मोदी ने स्वीकार किया कि रिटर्न फाइलिंग में भी कुछ समस्याएं हैं, लेकिन ये दिनों-दिन कम हो रही हैं।

Bhaskar News | Last Modified - Dec 09, 2017, 05:08 AM IST

  • डिप्टी सीएम बोले-जीएसटी में 12 और 18% टैक्स मिलाकर बनेगा नया स्लैब

    कोलकाता/पटना.वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) में 12% और 18% टैक्स स्लैब को मिलाकर एक नया स्लैब बनाया जा सकता है। जीएसटी काउंसिल इस संभावना पर विचार करेगी। लेकिन ऐसा करने से पहले जीएसटी से होने वाले टैक्स संग्रह का आकलन किया जाएगा। बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने शुक्रवार को यहां भारत चैंबर ऑफ कॉमर्स के एक कार्यक्रम में यह बात बताई। उन्होंने कहा कि 28% स्लैब में अभी 50 वस्तुएं हैं। आगे इसे भी कम किया जा सकता है।


    गुवाहाटी की बैठक में 18% किया था टैक्स

    जीएसटी काउंसिल ने पिछले महीने गुवाहाटी में हुई बैठक में 178 वस्तुओं पर टैक्स रेट 28% से घटाकर 18% किया था। मोदी ने बताया कि इसके जरिए टैक्स रेट से जुड़े 90% मुद्दे सुलझा लिए गए हैं। उन्होंने स्वीकार किया कि जीएसटी में ज्यादा दिक्कतें छोटे कारोबारियों (एमएसएमई) और टेक्सटाइल सेक्टर को हो रही हैं। जीएसटी से पहले उन्हें सेंट्रल एक्साइज ड्यूटी नहीं देनी पड़ती थी। उन पर सिर्फ वैट लागू होता था।


    माना- रिटर्न फाइलिंग में कुछ समस्याएं

    उन्होंने स्वीकार किया कि रिटर्न फाइलिंग में भी कुछ समस्याएं हैं, लेकिन ये दिनों-दिन कम हो रही हैं। अब जीएसटी नेटवर्क पर हर घंटे 13 लाख रिटर्न फाइल किए जा रहे हैं। उप मुख्यमंत्री ने कहा कि नई टैक्स व्यवस्था स्थिर होने के बाद सरकार पेट्रोल-डीजल समेत सभी पेट्रोलियम प्रोडक्ट, बिजली और प्रॉपर्टी स्टांप ड्यूटी को इसमें शामिल करने पर विचार करेगी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Patna News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: New Slab Will Be In GST Says Sushil Modi
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Patna

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×