--Advertisement--

बेटी की डोली से पहले निकली इस पिता की अर्थी, बदमाशों ने गोली मारकर की हत्या

एएसपी ने बताया कि कुल दो केस होगा। उपद्रव के मामले में नामजद के अलावा पांच सौ से अधिक लोगों को आरोपी बनाया जाएगा।

Dainik Bhaskar

Jan 18, 2018, 04:36 AM IST
वारदात स्थल पर पड़ी न्यूज पेपर हॉकर की डेडबॉडी। वारदात स्थल पर पड़ी न्यूज पेपर हॉकर की डेडबॉडी।

आरा. यहां एक बेटी की डोली उठने से पहले उसके पिता की अर्थी उठ गई। बता दें कि बुधवार को अखबार विक्रेता योगेन्द्र प्रसाद की बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी। मृतक करीब पांच सालों से अखबार बेचकर अपना गुजारा करता था। परिवार के खर्च के लिए एक दुकान भी खोली थी। मृतक के चार बच्चों में बेटी बड़ी थी जिसकी शादी की तैयारी चल रही थी।

बेटी को करा चुका था ग्रैजुएशन

बताया जा रहा कि योगेन्द्र प्रसाद को तीन बेटे विशाल, अमित, दिवेश के अलावा एक बेटी अंशु कुमारी है। जिसकी शादी विवाह को लेकर योगेन्द्र प्रयास में लगा हुआ था। अंशु ने स्नातक तक की पढ़ाई पूरी कर ली थी। हत्या के बाद चार बच्चों के सिर से पिता का साया हमेशा के लिए उठ गया है। पति के मौत के बाद पत्नी मीना देवी का रो-रोकर बुरा हाल था।

इस वजह से 9 घंटे उलझी रही पुलिस

अखबार विक्रेता की मौत के बाद लोकल पब्लिक आक्रोशित हो गई और जमकर हंगामा किया। कुछ पुलिस वालों की पिटाई की और तीन पुलिस की गाड़ियों में आग भी लगा दी। मर्डर के बाद जिस तरह का उपद्रव मचाया गया है, उसके पीछे पुलिस बहुत बड़ी साजिश मान रही है। पुलिस को अंदेशा है कि अखबार विक्रेता योगेन्द्र की हत्या के आड़ में शराब माफियों ने यहां उपद्रव मचाया है। माफियों के उकसावे पर ही पुलिस की गाड़ियों से लेकर थाने पर पथराव किए जाने की संभावना जतायी जा रही है। क्योंकि, मारे गए अखबार विक्रेता योगेन्द्र प्रसाद के परिवार की पृष्ठभूमि भी इतनी अच्छी नहीं है। परिवार में बीवी के अलावा चार बच्चे ही बच गए है। एसपी अवकाश कुमार एवं जगदीशपुर एएसपी दयाशंकर भी शुरूआती जांच में शराब माफियों के हाथ होने का संकेत दे रहे हैं।

500 से अधिक लोगों को बनाया जाएगा आरोपी


जगदीशपुर के एएसपी दयाशंकर ने बताया कि कुल दो केस होगा। उपद्रव के मामले में नामजद के अलावा पांच सौ से अधिक लोगों को आरोपी बनाया जाएगा। मर्डर केस को लेकर मृतक की पत्नी मीना देवी के बयान पर केस दर्ज कर लिया गया है। जिसमें रमतदही गांव के चार लोगों को आरोपी बनाया गया है। योगेन्द्र की हत्या के बाद हुए उपद्रव के बाद एसपी ने कारनामेपुर ओपी प्रभारी धनंजय कुमार को लाइन हाजिर कर दिया है। ओपी प्रभारी टाउन थाने के दारोगा रविन्द्र कुमार को बनाया है। इधर, तीयर थानाध्यक्ष शंभू कुमार को सस्पेंड कर दिया। योगेंद्र के चचेरे भाई राजेन्द्र तंतवा की हत्या के वक्त शंभू ही कारनामेपुर ओपी प्रभारी थे। उस हत्याकांड के केस का चार्ज उन्हीं के पास था। ट्रांसफर के बाद भी शंभू ने कारनामेपुर ओपी प्रभारी को केस का चार्ज नहीं दिया था।

हवाई फायरिंग करती पुलिस। हवाई फायरिंग करती पुलिस।
गुस्साए भीड़ द्वारा जलाई गई पुलिस की जीप। गुस्साए भीड़ द्वारा जलाई गई पुलिस की जीप।
भीड़ ने पुलिस के मना करने और शांत रहने की अपील के बाद तीन गाड़ियों में आग लगा दी। भीड़ ने पुलिस के मना करने और शांत रहने की अपील के बाद तीन गाड़ियों में आग लगा दी।
जलती हुई पुलिस की जीप। जलती हुई पुलिस की जीप।
मौके पर बिखरे ईंट। मौके पर बिखरे ईंट।
मौके पर तैनात पुलिस के जवान। मौके पर तैनात पुलिस के जवान।
उपद्रवियों द्वारा जलाई गई पुलिस की गाड़ी। उपद्रवियों द्वारा जलाई गई पुलिस की गाड़ी।
हंगामे के बाद जुटी भीड़। हंगामे के बाद जुटी भीड़।
उपद्रवियों के हंगामे के बाद घटनास्थल पर तैनात पुलिस। उपद्रवियों के हंगामे के बाद घटनास्थल पर तैनात पुलिस।
X
वारदात स्थल पर पड़ी न्यूज पेपर हॉकर की डेडबॉडी।वारदात स्थल पर पड़ी न्यूज पेपर हॉकर की डेडबॉडी।
हवाई फायरिंग करती पुलिस।हवाई फायरिंग करती पुलिस।
गुस्साए भीड़ द्वारा जलाई गई पुलिस की जीप।गुस्साए भीड़ द्वारा जलाई गई पुलिस की जीप।
भीड़ ने पुलिस के मना करने और शांत रहने की अपील के बाद तीन गाड़ियों में आग लगा दी।भीड़ ने पुलिस के मना करने और शांत रहने की अपील के बाद तीन गाड़ियों में आग लगा दी।
जलती हुई पुलिस की जीप।जलती हुई पुलिस की जीप।
मौके पर बिखरे ईंट।मौके पर बिखरे ईंट।
मौके पर तैनात पुलिस के जवान।मौके पर तैनात पुलिस के जवान।
उपद्रवियों द्वारा जलाई गई पुलिस की गाड़ी।उपद्रवियों द्वारा जलाई गई पुलिस की गाड़ी।
हंगामे के बाद जुटी भीड़।हंगामे के बाद जुटी भीड़।
उपद्रवियों के हंगामे के बाद घटनास्थल पर तैनात पुलिस।उपद्रवियों के हंगामे के बाद घटनास्थल पर तैनात पुलिस।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..