पटना

--Advertisement--

बिहार : मर्डर के बाद पुलिस को पब्लिक ने मारा थप्पड़, फिर चलानी पड़ीं 45 गोलियां

हालात को काबू करने के लिए जब पुलिस पहुंची तो पुलिस और आक्रोशित हो गई।

Dainik Bhaskar

Jan 18, 2018, 04:16 AM IST
गोली मारे जाने के बाद मृत पड़ा न्यूज पेपर हॉकर और इनसेट में उसकी फाइल फोटो। गोली मारे जाने के बाद मृत पड़ा न्यूज पेपर हॉकर और इनसेट में उसकी फाइल फोटो।

अारा/जगदीशपुर. बुधवार की सुबह अखबार बेचने वाले योगेन्द्र प्रसाद की हत्या के बाद यहां की पब्लिक सड़कों पर उतर गई। हालात को काबू करने के लिए जब पुलिस पहुंची तो पुलिस और आक्रोशित हो गई। बताया जा रहा है कि भीड़ ने कुछ पुलिस वालों को थप्पड़ भी मारे। इसके बाद हालात बेकाबू होता देख और खुद को बचाने के लिए पुलिस को 45 गोलियां चलानी पड़ी। भीड़ की आड़ में शरारती तत्वों ने एक-एक कर तीन पुलिस वाहन फूंक डाले। कारनामेपुर ओपी पर भी जमकर पथराव किया गया। जिसमें थानाध्यक्ष समेत आधा दर्जन जवान घायल हो गए।

हालात अधिक बिगड़ने पर मुख्यालय से मंगाए गए अतिरिक्त बल, फिर भी फूंक डाले दंगा निरोधक वाहन

उपद्रव के बाद अधिक हालत बिगड़ने पर आरा सदर के एसडीपीओ संजय कुमार, टाउन थाना के इंस्पेक्टर जेपी सिंह एवं नवादा थाना के इंस्पेक्टर सुबोध कुमार के अलावा पुलिस लाइन से दंगा निरोधक दस्ता वाहन के साथ अतिरिक्त सिपाहियों को वहां भेजा गया। बावजूद भीड़ उपद्रव मचाती रही। इस दौरान उग्र भीड़ ने दंगा निरोधक वाहन (व्रजवाहन) को तेल छिड़क कर फूंक डाला।

जमीन पर दखल-कब्जे को लेकर 20 साल से चला आ रहा विवाद, अब तक 2 को गंवानी पड़ी जान

बताया जा रहा है कि शाहपुर थाना के कारनामेपुर ओपी के रमदतही गांव में करीब चार-पांच कट्ठा सरकारी जमीन पर दखल-कब्जे को लेकर शिवशंकर प्रसाद और बिजेश राय के परिवार के बीच करीब 20 साल पहले से विवाद चला आ रहा है। दोनों पक्ष जमीन पर अपना-अपना दावा कर रहा है। जिसे लेकर अब तक दो चचेरे भाईयों को अपनी जान गंवानी पड़ी है। बताया जा रहा कि जिस जमीन को लेकर विवाद चला आ रहा हैं वह जमीन शिवशंकर प्रसाद एवं रामसकल प्रसाद के घर के पास ही है। इसे लेकर पहले राजेन्द्र प्रसाद एवं फिर उसके चचेरे भाई योगेन्द्र प्रसाद की गोली मारकर हत्या कर दी गयी है।

मिल रही थीं धमकियां : चचेरे भाई की हत्या में गवाह बना था योगेन्द्र

अखबार विक्रेता योगेन्द्र प्रसाद की हत्या के करीब पांच महीने पहले उसके चचेरे भाई राजेन्द्र प्रसाद की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। बताया जा रहा कि चचेरे भाई की हत्या में योगेन्द्र प्रसाद गवाह भी बना था। हत्याकांड से जुड़े केस में गवाही नहीं देने को लेकर उसे धमकी भी दे रहे थे। इस बीच बुधवार की सुबह उसकी गोली मारकर हत्या कर दी गयी। बता दें कि सात सितंबर 2017 की शाम राजेन्द्र प्रसाद खेत से घर लौट रहा था। उसी समय हथियारबंद अपराधियों ने उसे ताबड़तोड़ दो गोली मार दी थी। बाद में गोली से घायल राजेन्द्र प्रसाद की मौत हो गयी थी। इसे लेकर गांव के बिजेश राय समेत आठ के खिलाफ नामजद केस दर्ज कराया गया था। जिसमें तीन आरोपी पकड़े गए थे। जबकि, अन्य फरार चले आ रहे थे। इधर, भोजपुर के एसपी अवकाश कुमार ने कहा कि केस में तीन आरोपी पकड़े गए थे।

पुलिस के मुताबिक, हमलावरों की पहचान की जा रही है। पुलिस के मुताबिक, हमलावरों की पहचान की जा रही है।
पुलिस ने बताया कि हत्या किस वजह से हुई है, ये कन्फर्म नहीं है। पुलिस ने बताया कि हत्या किस वजह से हुई है, ये कन्फर्म नहीं है।
वारदात के बाद लोकल लोगों ने जमकर हंगामा किया। वारदात के बाद लोकल लोगों ने जमकर हंगामा किया।
हंगामे को शांत करने के लिए पुलिस जब मौके पर पहुंची तो उनके साथ भी मारपीट की गई। हंगामे को शांत करने के लिए पुलिस जब मौके पर पहुंची तो उनके साथ भी मारपीट की गई।
पुलिस के साथ हाथापाई के अलावा पत्थरबाजी भी की गई। पुलिस के साथ हाथापाई के अलावा पत्थरबाजी भी की गई।
मौके पर स्थिति को संभालती पुलिस। मौके पर स्थिति को संभालती पुलिस।
भीड़ द्वारा जलाई गई पुलिस की गाड़ी। भीड़ द्वारा जलाई गई पुलिस की गाड़ी।
मौके पर जुटी भीड़। मौके पर जुटी भीड़।
newspaper seller shot dead in Land dispute in bihar
X
गोली मारे जाने के बाद मृत पड़ा न्यूज पेपर हॉकर और इनसेट में उसकी फाइल फोटो।गोली मारे जाने के बाद मृत पड़ा न्यूज पेपर हॉकर और इनसेट में उसकी फाइल फोटो।
पुलिस के मुताबिक, हमलावरों की पहचान की जा रही है।पुलिस के मुताबिक, हमलावरों की पहचान की जा रही है।
पुलिस ने बताया कि हत्या किस वजह से हुई है, ये कन्फर्म नहीं है।पुलिस ने बताया कि हत्या किस वजह से हुई है, ये कन्फर्म नहीं है।
वारदात के बाद लोकल लोगों ने जमकर हंगामा किया।वारदात के बाद लोकल लोगों ने जमकर हंगामा किया।
हंगामे को शांत करने के लिए पुलिस जब मौके पर पहुंची तो उनके साथ भी मारपीट की गई।हंगामे को शांत करने के लिए पुलिस जब मौके पर पहुंची तो उनके साथ भी मारपीट की गई।
पुलिस के साथ हाथापाई के अलावा पत्थरबाजी भी की गई।पुलिस के साथ हाथापाई के अलावा पत्थरबाजी भी की गई।
मौके पर स्थिति को संभालती पुलिस।मौके पर स्थिति को संभालती पुलिस।
भीड़ द्वारा जलाई गई पुलिस की गाड़ी।भीड़ द्वारा जलाई गई पुलिस की गाड़ी।
मौके पर जुटी भीड़।मौके पर जुटी भीड़।
newspaper seller shot dead in Land dispute in bihar
Click to listen..