--Advertisement--

नीतीश कुमार को मिला ये अवॉर्ड, कहा- ये बिहार की जनता का सम्मान

नीतीश कुमार ने कहा कि जम्मू आना मेरे लिए गौरव की बात है।

Danik Bhaskar | Jan 09, 2018, 04:38 AM IST
नीतीश कुमार को सम्मानित करते जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल एनएन वोहरा। नीतीश कुमार को सम्मानित करते जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल एनएन वोहरा।

पटना. नीतीश कुमार ने कहा कि सार्वजनिक जीवन में सक्रिय लोगों को ईमानदारी से काम करना चाहिए। यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि जो लोग सरकार का हिस्सा बन जाते हैं, वे जनता की सेवा छोड़ देते हैं। ऐसे लोग सोचते हैं वे सत्ता में मौज-मस्ती के लिए आए हैं। राजनीति में विकास पर ध्यान देना बहुत जरूरी है। ग्रोथ विद जस्टिस हमारा सिद्धांत है।


हमने कानून का शासन स्थापित किया। मुख्यमंत्री सोमवार को जम्मू के जोरावर सिंह ऑडिटोरियम में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। वहां जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल एनएन वोहरा ने उनको प्रथम मुफ्ती मोहम्मद सईद अवॉर्ड फॉर प्रॉबिटी इन पॉलिटिक्स एंड पब्लिक लाइफ प्रदान किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने विकास के साथ-साथ समाज सुधार पर भी ध्यान दिया है। बिहार में शराबबंदी लागू की। अब बाल विवाह व दहेज के खिलाफ हमारा अभियान चल रहा है। हम सब पारदर्शी ढंग से काम करें, यही देश और जनता की सेवा है। मुफ्ती साहब इन चीजों में यकीन रखते थे। देश में पहली बार मुस्लिम समुदाय से कोई नेता गृह मंत्री बना तो वे मुफ्ती साहब थे।

सीएम बोले- मुझे मिला अवार्ड बिहार की जनता का सम्मान

नीतीश कुमार ने कहा कि जम्मू आना मेरे लिए गौरव की बात है। मुझे यह सम्मान बिहार में काम करने के लिए मिला, लेकिन यह काम मेरे अकेले का नहीं है। हमारे सहयोगी सुशील मोदी भी बैठे हैं। हम सब लोग इस काम में बराबर के भागीदार हैं। हमारे काम को बिहार की जनता के हर तबके का समर्थन मिलता है। उसी से बिहार में आज परिवर्तन आया है। मुझे मिला यह सम्मान पूरे बिहार की जनता का सम्मान है।


उन्होंने कहा कि शराबबंदी के पक्ष में चार करोड़ लोगों ने मानव शृंखला में हिस्सा लिया। इस बार मुझे पूरी उम्मीद है कि सारे बिहार के लोग मानव शृंखला में शामिल होंगे। झगड़े से किसी मसले का हल नहीं निकल सकता। जब भी हल निकलेगा प्रेम और बातचीत से ही निकलेगा। मुफ्ती मोहम्मद सईद ने जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री पद पर रहते हुए हमेशा प्रेम और सद्‌भाव का संदेश दिया।

महबूबा को बिहार आने का दिया न्योता

मुख्यमंत्री ने कहा कि जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने मुझे बुलाया, इसके लिए मैं उनको हृदय से धन्यवाद देता हूं। मैं उनसे कहूंगा कि आप थोड़ा वक्त निकालिए और बिहार आकर वहां के काम को देखिए। बिहार से मुफ्ती साहब का लगाव, स्नेह और प्रेम भाव था, उसे हम नहीं भूल सकते हैं। आपने भी उस लगाव को दिखा दिया है। यहां आकर मुझे पता चला कि तीन से चार लाख असंगठित मजदूर हैं और उनके लिए आज ही से नई योजना लागू होने वाली है। इसी तरीके से समाज के हर तबके का हमलोगों को ख्याल रखना चाहिए।

मार्च में जदयू का जम्मू में होगा सम्मेलन

पटना|जदयू मार्च या अप्रैल में जम्मू-कश्मीर में सम्मेलन करेगा। पार्टी ने वहां संगठन का तेजी से विस्तार करने के लिए अपनी वेबसाइट तैयार की है। मुख्यमंत्री ने जम्मू में वेबसाइट की शुरुआत की। इस मौके पर उन्होंने भरोसा दिया कि मार्च-अप्रैल में होने वाले पार्टी के सम्मेलन में वह हिस्सा लेंगे और जम्मू-कश्मीर में पार्टी को मजबूत बनाने के लिए पूरा सहयोग देंगे। जम्मू-कश्मीर जदयू के अध्यक्ष जीएम शाहीन ने कहा कि मुख्यमंत्री की मौजदूगी से पार्टी के कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ा है। राज्य में अगले माह होने वाले पंचायत चुनाव में जदयू हिस्सा लेगा।

समीक्षा यात्रा का चौथा चरण बक्सर से 12 को होगा शुरू

विकास योजनाओं की समीक्षा यात्रा का चौथा चरण 12 जनवरी को बक्सर से शुरू होगा। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार उस दिन नंदन गांव में विकास योजनाओं के उद्‌घाटन और शिलान्यास के बाद आमसभा करेंगे। दोपहर बाद कैमूर के अहिनैरा गांव में भी आमसभा होगी। मुख्यमंत्री 13 जनवरी को सासाराम के रेहल और भोजपुर के दावा गांव में विकास योजनाओं के उद्‌घाटन और शिलान्यास के बाद आमसभा करेंगे। समीक्षा यात्रा का पांचवां चरण 16 जनवरी को गया से शुरू होगा। मुख्यमंत्री वहां के लाव गांव में आमसभा करेंगे। अगले दिन भागलपुर के उधाडीह भीरखुर्द गांव और पूर्णिया के हांसीबेगमपुर गांव में विकास योजनाओं के उद्‌घाटन और शिलान्यास के बाद आमसभा होगी। वह 18 जनवरी को छपरा के हंसराजपुर गांव में सभा करेंगे।