--Advertisement--

चारा घोटाला : किस्सा और भी है... इस बार लंबा चलेगा जेल और बेल का दौर

पटना कोर्ट में (आरसी 63 ए/96) मामले ने भी गति पकड़ी है। इसके अलावा करीब 1000 करोड़ रुपये की बेनामी संपत्ति के मामले हैं।

Dainik Bhaskar

Jan 07, 2018, 05:00 AM IST
पेशी के लिए कोर्ट जाते हुए लालू यादव। पेशी के लिए कोर्ट जाते हुए लालू यादव।

पटना. इस बार राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के जेल-बेल का दौर, बहुत लंबा चलेगा। लालू, चारा घोटाला के दूसरे मामले (आरसी 64 ए/96) में सजायाफ्ता हुए। बहुत जल्द 3 और मामलों में फैसला आना है। पटना की अदालत में चल रहे मामले (आरसी 63 ए/96) ने भी गति पकड़ी है। इसके अलावा करीब 1000 करोड़ रुपये की बेनामी संपत्ति के मामले हैं। इसमें लालू के अलावा उनका लगभग पूरा परिवार फंसा है। अभी लालू परिवार देश का इकलौता ऐसा परिवार है, जिसके कारनामों को देश की तीनों सर्वोच्च एजेंसियां जांच रही हैं। यानी, लालू या उनके परिजनों का एक संकट खत्म नहीं होगा कि दूसरी-तीसरी बड़ी परेशानी सामने होगी। एक मामले में बेल मिलेगा, तो दूसरे-तीसरे मामले में सजा की स्थिति रहेगी।


इन मुकदमों पर फैसला आना बाकी

अभी लालू पर चल रहे आपराधिक षडयंत्र के इन मुकदमों में फैसला आना है। ये हैं-आरसी 38 ए/96 (37.68 करोड़), आरसी 47 ए/96 (184 करोड़), तथा आरसी 68/ए 96 (97 करोड़)। कोष्ठक में संबंधित मुकदमों के ताल्लुक रखने वाली घोटाले की रकम है। आरसी 63 ए/96 में उनको पटना की सीबीआई अदालत में पेश होना है। इसका प्रोडक्शन वारंट जारी है। लालू को आरसी 20 ए/96 व आरसी 64 ए/96 में सजा मिली है।


ये रही लालू के लिए तबाही वाली नौबत

लालू, आरसी 20 ए/96 में सजायाफ्ता होने तथा जमानत पाने के बाद लगभग निश्चिंत से थे। लेकिन, 8 मई 2017 को सुप्रीम कोर्ट ने चारा घोटाला के 4 मामलों में लालू पर आपराधिक साजिश/षडयंत्र के तहत मुकदमा चलाने का आदेश दिया। यह लालू के लिए तबाही वाली नौबत रही। झारखंड हाईकोर्ट ने ऐसा नहीं करने का आदेश दिया था। लालू राहत में थे। सुप्रीम कोर्ट ने झारखंड हाईकोर्ट के आदेश को खारिज कर दिया। हाईकोर्ट और सीबीआई को खूब फटकारा भी। निचली अदालत को सजा सुनाने की स्थिति में पहुंचने के लिए 9 महीने का समय मिला है। चारा घोटाला में लालू पर कुल 6 केस हैं। झारखंड में 5 मुकदमे हैं। एक पटना में है। इससे जुड़े आय से अधिक संपत्ति के मामले (5 डीए/98) में लालू प्रसाद व राबड़ी देवी बरी हो चुकीं हैं।


इन केस पर शुरू होगा कार्रवाई का दौर

सीन यही है कि चारा घोटाला के इन मुकदमों से जुड़ी कानूनी लड़ाई के दौरान ही, चाहे बेनामी संपत्ति के मामले हों या रेलवे के 2 होटल को निजी कंपनी को देने की एवज में उससे संपत्ति हासिल करने के मसले, ये सभी भी चार्जशीट के स्टेज में पहुंच चुके हैं। फिर, इन सबको लेकर कार्रवाई का दौर शुरू होगा। रेलवे के होटल के मामले में सीबीआई ने लालू प्रसाद व तेजस्वी यादव के अलावा राबड़ी देवी, सरला गुप्ता, विजय कोचर, विनय कोचर, पीके गोयल आदि को नामजद आरोपी बनाया हुआ है। सीबीआई ने 5 जुलाई 2017 को इस मामले में एफआईआर की।


छठा मौका जब लालू चारा घोटाले में जेल में बंद

इसके बाद से सीबीआई ही नहीं, बल्कि आयकर विभाग और ईडी (प्रवर्तन निदेशालय) भी लालू, उनके परिवार वालों पर कार्रवाई में जुटा है। तीनों एजेंसियों ने छापा मारे। पूछताछ की। ईडी ने तो लालू की पुत्री व सांसद डॉ.मीसा भारती और दामाद शैलेश कुमार का फार्म हाउस भी अटैच की। चार्जशीट की। आयकर विभाग ने भी बेनामी संपत्तियां अटैच कीं। लालू की दो बेटियों चंदा व रागिनी की कुछ संपत्ति भी जांच के दायरे में है। बेली रोड (पटना) की 10 प्लॉट वाली कुल तीन एकड़ की जमीन पर बन रहा बिहार का सबसे बड़ा मॉल जब्त हुआ। इसकी मिट्टी की बिक्री की भी जांच हो रही है। लालू परिवार की संपत्तियों से जुड़े ये मामले आगे के दिनों में उनकी परेशानी बढ़ाएंगे। शेल कंपनियों का मसला है। सुशील मोदी, किश्तों में लालू परिवार की दो दर्जन संपत्तियों को सामने ला चुके हैं। इनकी भी जांच हो सकती है। आरोप है कि ये संपत्तियां भी गलत तरीके से अर्जित की गईं। यह छठा मौका है जब लालू, चारा घोटाला में जेल में हैं। लोग, इस बार की उनकी जेल अवधि के बारे में कयास लगा रहे हैं।

शनिवार को लालू को चारा घोटाले के एक मामले में सजा सुनाई गई है। शनिवार को लालू को चारा घोटाले के एक मामले में सजा सुनाई गई है।
लालू को सजा सुनाने वाले जज शिवपाल सिंह। लालू को सजा सुनाने वाले जज शिवपाल सिंह।
सुनवाई के दौरान वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग हॉल के बाहर जुटी भीड़। सुनवाई के दौरान वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग हॉल के बाहर जुटी भीड़।
pending cases against Lalu yadav
X
पेशी के लिए कोर्ट जाते हुए लालू यादव।पेशी के लिए कोर्ट जाते हुए लालू यादव।
शनिवार को लालू को चारा घोटाले के एक मामले में सजा सुनाई गई है।शनिवार को लालू को चारा घोटाले के एक मामले में सजा सुनाई गई है।
लालू को सजा सुनाने वाले जज शिवपाल सिंह।लालू को सजा सुनाने वाले जज शिवपाल सिंह।
सुनवाई के दौरान वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग हॉल के बाहर जुटी भीड़।सुनवाई के दौरान वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग हॉल के बाहर जुटी भीड़।
pending cases against Lalu yadav
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..