--Advertisement--

इंटर एग्जाम : इलेक्शन में पिंक बूथ की तर्ज पर यहां स्टूडेंट्स के लिए पिंक सेंटर

परीक्षार्थियों को मोबाइल, कैमरा, ब्लूटुथ सहित अन्य समान अंदर ले जाने से रोक दिया गया।

Danik Bhaskar | Feb 07, 2018, 06:02 AM IST
बिहार के मधेपुरा में चुनाव आयोेग की तर्ज पर बनाया गया पिंक एग्जाम सेंटर। बिहार के मधेपुरा में चुनाव आयोेग की तर्ज पर बनाया गया पिंक एग्जाम सेंटर।

मधेपुरा (बिहार). चुनाव आयोग ने मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए मॉडल बूथ बनाने की पहल की थी। इसी तर्ज पर यहां इंटर परीक्षा में केशव कन्या हाई स्कूल को पिंक एग्जाम सेंटर बनाया है। पहली बार राज्य में ऐसा मॉडल केंद्र बनाया गया है। इसकी थीम महिला सशक्तीकरण पर है। यहां आदेशपाल से मजिस्ट्रेट तक सभी महिलाकर्मियों को तैनात किया गया है। स्कूल के प्रवेश और निकास द्वार काे पिंक कलर के गुब्बारों से सजाया गया है। प्रशासन के इस पहल की पूरे जिले और राज्य में चर्चा हो रही है।

बिहार में पहली बार सीसीटीवी की निगरानी में हुई परीक्षा

- राज्य के एग्जाम सेंटर्स पर एग्जाम के दौरान इस वर्ष काफी कुछ बदला-बदला सा नजर आया। एग्जाम सेंटर्स के आस-पास शांति दिखी।

- वैसे तो अभिभावकों की भीड़ अन्य वर्षों की अपेक्षा कम ही थी, बावजूद चिट-पुर्जा की तैयारी कर आने वाले अभिभावक नकल कराने की उम्मीद छोड़ केंद्र से काफी दूर नजर आए। शांतिपूर्ण और कदाचार मुक्त परीक्षा संपन्न कराने के लिए प्रशासनिक अमला अलर्ट था।
- प्रशासनिक स्तर पर परीक्षा में खलल डालने वालों के साथ सख्ती से निपटने की तैयारी की गई थी। परीक्षा को लेकर केंद्र के पास 200 मीटर की परिधि में निषेधाज्ञा लागू था।

- हर सेंटर पर सीसीटीवी कैमरे के निगरानी में परीक्षा शुरू हुई। बता दें कि पूर्व में परीक्षा केंद्रों पर नकल कराने के लिए लोग मधुमक्खी की तरह परीक्षा केंद्र की खिड़कियों और दरवाजे पर लटके रहते थे।

- लेकिन इस वर्ष सरकार के संकल्प और प्रशासनिक चौकसी से नजारा बिल्कुल बदला नजर आया।

परीक्षार्थियों को बाहर रखना पड़ा समान

परीक्षा को लेकर मंगलवार सुबह से ही बस स्टैंड व रेलवे स्टेशन पर परीक्षार्थियों की भारी भीड़ दिखी। समान के साथ परीक्षा केंद्र पर पहुंचे परीक्षार्थियों को मोबाइल, कैमरा, ब्लूटुथ सहित अन्य समान अंदर ले जाने से रोक दिया गया। वहीं वीक्षक व परीक्षा ड्यूटी में लगे कर्मी भी मोबाइल अपने साथ नहीं ले जा सके।