--Advertisement--

यहां पुलिस ने घरों में घुसकर महिलाओं को पीटा, नवजात को भी जमीन पर पटका

एसपी मानवजीत सिंह ढिल्लो का कहना है कि वहां तैनात पुलिस सही काम कर रही है।

Danik Bhaskar | Jan 16, 2018, 05:57 AM IST

शिवसागर (सासाराम). थाना क्षेत्र के किरहिंडी में रविवार को मकर संक्रांति के मेले में गुटीय तनाव और गोलीबारी की घटना के बाद कर्फ्यू जैसे हालात पैदा हो गए हैं। तैनात पुलिसकर्मियों ने सोमवार को दिनभर की अपने सर्च अभियान के दौरान घरों में घुसकर महिलाओं को पीटा। उनकी गोद से छीनकर बच्चों को फेंक दिया।

घायल महिलाओं में 55 वर्षीया कोमल देवी का एक हाथ टूट गया है, बाकी सरोज देवी, रेखा देवी, मीना कुंवर, प्रतिमा देवी के हाथ, चेहरे और सर में गंभीर चोटें हैं। रेखा देवी की 20 दिन की नवजात बच्ची को पुलिसकर्मियों ने पिटाई के दौरान उसकी गोद से छीनकर जमीन पर फेंक दिया, जिसके कारण उसे भी चोट आई है। सभी घायल इलाज के लिए सासाराम सदर अस्पताल भेजे गए हैं।


पुलिस कार्रवाई के बाद अभी भी किरहिंडी गांव में सैकड़ों की संख्या में तैनात जवान गांव को चारों तरफ से सील रखा है। सूत्रों की मानें, तो किरहिंडी में अभी भी तनाव कायम है। जानकारी हो कि मकर संक्रांति के दिन किरहिंडी में लगे मेला के दौरान युवकों के दो गुट आपस में भीड़ गए थे, उसके बाद मारपीट और फायरिंग हुई तब से लगातार तनाव बढ़ रहा है।

एसपी बोले- सही काम कर रही है पुलिस


एसपी मानवजीत सिंह ढिल्लो का कहना है कि वहां तैनात पुलिस सही काम कर रही है। कार्रवाई में महिलाएं आगे आएंगी, तो उनसे निपटने के लिए महिला पुलिस अपना काम करेगी। उन्होंने कहा कि दोनों पक्ष के दोषियों को हम नहीं छोड़ेंगे। अब तक एक पक्ष के चार और दूसरे पक्ष के तीन लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है। पुलिस किरहिंडी के हालात पर नजर जमाए हुए है। दोनों पक्ष के दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी।

कोई नहीं गुजर रहा किरहिंडी गांव की सड़क से होकर

किरहिंडी गांव से गुजर कर एनएच-2 जीटी रोड तक पहुंचने वाली कोनार पथ से आ रही सभी गाड़ियों को पुलिसकर्मी गांव के बाहर से ही लौटा देते हैं। तेलड़ी से आ रहे एक किसान के परिवार को घने कोहरे के बीच लौटकर कोनार जाना पड़ा, फिर वहां से लोग सासाराम पहुंचे। उस गाड़ी में 70 वर्षीय एक वृद्धा को इलाज के लिए लाया जा रहा था, जिन्हें लकवा मार दिया था। किरहिंडी में उपजे गुटीय संघर्ष का खामियाजा अउवां गांव के नौवीं के दो छात्रों को भुगतना पड़ा, जो मकर संक्रांति के दिन मेला घूमने के लिए किरहिंडी गए थे। दो पक्षों के बीच हुई मारपीट और गोलीबारी के बाद वहां पहुंची पुलिस ने अउवां गांव के 13 वर्षीय रौशन और गोलू को गिरफ्तार कर लिया, जो नौवीं क्लास के छात्र हैं। दोनों छात्रों की मंगलवार से इंटर्नल टेस्ट एक्जाम होने वाला है, जिसके बारे में उन्होंने रो-रो कर पुलिस को बताया, अपना स्कूल आई कार्ड दिखाया फिर भी पुलिस ने उन्हें नहीं छोड़ा।